अमेरिका की दोहरी नीति: ब्रिटेन और फ्रांस समेत दुनिया के कई देश लेते हैं डिजिटल सर्विस टैक्स, लेकिन भारत के टैक्स से बौखलाया अमेरिका


  • Hindi News
  • National
  • Many Countries Of The World, Including Britain And France, Charge Digital Service Tax, But America Is Outraged By India’s Tax

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • कारोबार कर विदेशी कंपनियां सारा मुनाफा अपने देश ले जा रही थीं

फ्रांस और ब्रिटेन समेत दुनिया के कई देश विदेशी डिजिटल सर्विस प्रोवाइडरों से डीएसटी वसूलते हैं। भारत ने भी विदेशी कंपनियों पर डीएसटी लगाना शुरू कर दिया है। अरबों डॉलर का कारोबार कर रहीं ये कंपनियां सारा मुनाफा अपने देश ले जा रही थीं। हालांकि, भारत द्वारा डीएसटी यानी डिजिटल सर्विस टैक्स की पहल से अमेरिका बौखला गया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन प्रशासन इसे अपने हितों के खिलाफ और पक्षपातपूर्ण बता रहा है। हालांकि, इससे निपटने के लिए अमेरिकी कांग्रेस ने डीएसटी पर बहस और फिर उसे कानून के रूप में तब्दील करने के लिए एक शोध रिपोर्ट तैयार की है। कांग्रेस रिसर्च सर्विस की रिपोर्ट यूएस ट्रेड रिप्रेजेंटेटिव-यूएसटीआर ने दुनिया के कुछ देशों में लगाए गए डीएसटी की जांच की है। इसमें पता चला कि भारत के अलावा फ्रांस, इंडोनेशिया, इटली, स्पेन, तुर्की और ब्रिटेन समेत कई देश हैं जो डीएसटी लेते हैं। जबकि ब्राजील, चेक गणराज्य और यूरोपीय संघ इस टैक्स की पहल करने वाले हैं।

रिपोर्ट में डीएसटी के खिलाफ तीन आरोप सामने आए हैं। पहला- यह व्यवस्था अमेरिकी डिजिटल कंपनियों के खिलाफ भेदभाव करती है। दूसरा- अंतरराष्ट्रीय कराधान के सिद्धांतों के खिलाफ है। तीसरा- अमेरिकी वाणिज्यिक हितों पर बोझ डालती है। अमेरिकी जांच एवं शोध रिपोर्ट के ये निष्कर्ष डिजिटल टैक्स व्यवस्था कायम करने को लेकर चल रही वार्ता को देखते हुए मायने रखते हैं। यह वार्ता 130 देशों के बीच हो रही है।

बहुराष्ट्रीय कंपनियों पर सिर्फ 2% ही डीएसटी लगा
भारत ने गैर भारतीय डिजिटल बहुराष्ट्रीय कंपनियों पर सिर्फ 2% डीएसटी लगाया है। यह टैक्स उन कंपनियों पर लागू होगा, जिनका वार्षिक रेवेन्यू 2 करोड़ रुपए से अधिक है। जबकि इंडोनेशिया डिजिटल प्रोडक्ट्स एवं सेवाओं पर 10% डीएसटी वसूलता है। इटली 3%, स्पेन 3% और ब्रिटेन 2% डीएसटी वसूलता है। दूसरी ओर भारत में देसी सोशल मीडिया एप्स तेजी से कदम बढ़ा रही हैं। ट्विटर के जवाब में कू, वॉट्सएप के जवाब में संदेश, गूगल मैप के जवाब में मैप माई इंडिया मूव ने तेज प्रगति की है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *