अलीगढ़ जहरीली शराबकांड पर भास्कर का बड़ा खुलासा: जिन सरकारी ठेकों से शराब पीकर 95 लोगों की मौत हुई, उनकी शिकायत अक्टूबर 2020 में ही हुई थी; तब DM ने नहीं की कोई कार्रवाई


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • Dainik Bhaskar’s Big Disclosure On The Poisonous Liquor Scandal In Aligarh.The Complaint Of Government Contracts In Which 95 People Died After Consuming Alcohol Was Reported In October 2020 Itself; DM Did Not Take Any Action

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लखनऊ18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अलीगढ़ में जहरीली शराब पीने से मरने वालों का आंकड़ा 95 पहुंच गया है। पिछले 24 घंटे के अंदर 12 और लोगों की मौत हो गई। करीब इतने ही लोग अभी अस्पतालों में जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। अब तक 85 शवों का पोस्टमार्टम हो चुका है। अब इस पूरे कांड लेकर ‘दैनिक भास्कर’ की पड़ताल में बड़ा खुलासा हुआ है। मालूम चला कि करसुवा गांव के जिस सरकारी ठेके की शराब पीने से 95 लोगों की मौत हो चुकी है, उसकी शिकायत गांव के ही एक शख्स ने पिछले साल यानी अक्टूबर 2020 में ही शासन से हो गई थी। शासन ने DM चंद्रभूषण सिंह को इसकी जांच सौंपी थी। DM ने इसपर कोई कार्रवाई नहीं की। अगर समय रहते इसपर कार्रवाई हो जाती तो शायद इतनी मौतें न होतीं।

क्या हुई थी शिकायत?
करसुवा गांव के अमित उपाध्याय इनकम टैक्स विभाग में हैं। इस समय मुंबई में तैनात हैं। ‘दैनिक भास्कर’ से उन्होंने बताया कि शराब ठेका उनके गांव से महज 400 मीटर की दूरी पर है। इसकी वजह से गांव की महिलाओं, बच्चों को काफी परेशानी होती थी। बड़ी संख्या में गांव के बच्चे भी शराब पीने लगे थे। इसकी शिकायत शासन से की थी, लेकिन कुछ नहीं हुआ। आबकारी विभाग के अफसरों ने फोन करके बताया कि शराब का ठेका नियम के अनुसार ही है। उन्होंने मेरी शिकायत रद्द कर दी।

जहरीली शराब पीने से जान गंवाने वाले के शव के पास रोते-बिलखते परिजन।

जहरीली शराब पीने से जान गंवाने वाले के शव के पास रोते-बिलखते परिजन।

DM-SSP क्यों नहीं दोषी?
अलीगढ़ में जहरीली शराब से मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। इसके बावजूद अब तक जिले के मुखिया DM और SSP पर कोई कार्रवाई नहीं हुई, जबकि सबसे बड़ी जिम्मेदारी इन्हीं की होती है। अगर ये सही से इन सरकारी ठेकों की मॉनिटरिंग करते तो शायद इतनी मौतें नहीं होती। भास्कर के पास तो ये इकलौती शिकायत है। ऐसी न जाने कितनी शिकायतें हुई होंगी और इन अफसरों ने उसे फाइलों में ही गुम कर दिया होगा।

अब तक 33 गिरफ्तारी, आबकारी आयुक्त समेत 8 अफसर सस्पेंड
पुलिस ने इस मामले में अब तक 33 लोगों को गिरफ्तार किया है। शासन ने इस मामले में आबकारी आयुक्त पी गुरुप्रसाद समेत 8 अफसरों पर कार्रवाई की है। इनमें संयुक्त आबकारी आयुक्त, आगरा जोन रवि शंकर पाठक, उप आबकारी आयुक्त अलीगढ़ मंडल ओपी सिंह, CO गभाना कर्मवीर सिंह शामिल हैं। इसके अलावा जिला आबकारी अधिकारी धीरज शर्मा, आबकारी निरीक्षक राजेश यादव, प्रधान सिपाही अशोक कुमार, निरीक्षक चंद्रप्रकाश यादव, इंस्पेक्टर लोधा अभय कुमार शर्मा और सिपाही रामराज राना को भी सस्पेंड किया जा चुका है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *