अलीगढ़ में 30 मौतों के 6 जिम्मेदार: DM, SSP की नाक के नीचे RLD और BJP से जुड़े नेता जहरीली शराब बेचते रहे; दो दिन बाद भी आबकारी कमिश्नर के पास ठोस जवाब नहीं


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • RLD And BJP Leaders Selling Spurious Liquor In Government Contracts Under The Nose Of DM, SSP In Aligargh; Even After Two Days, The Excise Commissioner Of Uttar Pradesh Does Not Have A Concrete Answer

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अलीगढ़29 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में जहरीली शराब पीने से अब तक 30 लोगों की मौत हो चुकी है। 15 से ज्यादा लोग गंभीर हालत में हैं। इनमें से कुछ जिला अस्पताल और कुछ मेडिकल कॉलेज में जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। दैनिक भास्कर ने जहरीली शराब कांड की ग्राउंड जीरो से पड़ताल की तो इन मौतों के लिए 6 जिम्मेदार मिले, इनमें से 5 बड़े चेहरे सीधे तौर पर जिम्मेदार हैं। अब तक की पड़ताल में यह भी सामने आया है कि जहरीली शराब का काला कारोबार सियासी रसूख और लचर अफसरशाही का नतीजा है। इसलिए इसे हादसा नहीं बल्कि सिस्टम की लापरवाही के चलते हत्या कहा जाना ठीक होगा।

इन 5 जिम्मेदारों में दो आरोपी वो हैं जो जहरीली शराब बनवाकर बाजार में बेचते थे। इन दोनों की राजनीति में अच्छी पैठ है। एक का नाम ऋषि शर्मा है। ये सत्ताधारी पार्टी BJP से जुड़ा हुआ है तो दूसरे का नाम अनिल चौधरी है। ये पश्चिमी यूपी में काफी दमखम रखने वाली RLD से जुड़ा हुआ है। इसके अलावा तीन जिम्मेदार सिस्टम से जुड़े हुए हैं। इनमें एक अलीगढ़ के डीएम, दूसरे एसएसपी और तीसरे एडीएम फाइनेंस। अब तक सरकार ने जिला आबकारी अधिकारी धीरज शर्मा, आबकारी निरीक्षक राजेश कुमार यादव, प्रधान आबकारी सिपाही अशोक कुमार को सस्पेंड किया गया है। ये सब इस कड़ी में सबसे निचले स्तर के जिम्मेदार थे।

आबकारी कमिश्नर के पास अभी भी ठोस जवाब नहीं
दैनिक भास्कर ने इस शराब कांड को लेकर आबकारी कमिश्नर पी गुरुप्रसाद से सीधे बातचीत की। उनसे सवाल पूछा कि इस कांड के लिए कौन लोग जिम्मेदार हैं? बार-बार इस तरह के कांड होने के बावजूद सरकार और विभाग क्यों नहीं इस पर रोक लगा पा रही है? इन सवालों का सीधे तौर पर आबकारी कमिश्नर के पास जवाब नहीं था। बोले- डीएम ने इस मामले की जांच एडीएम को सौंपी है। रिपोर्ट मिलने के बाद जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई होगी।

कमिश्नर ने ये भी बताया कि पिछले 3-4 महीने में आबकारी विभाग ने 1 हजार लीटर से ज्यादा अवैध शराब जहां भी बरामद हुई है उसकी चेन तोड़ने की कोशिश की है। मतलब शराब बनाने से लेकर उसे बेचने तक के लोगों को पकड़ा जा रहा है। हालांकि, आंकड़े बता रहे हैं कि इसी दौरान जहरीली शराब से सबसे ज्यादा मौतें हुई हैं। मार्च से लेकर अब तक का आंकड़ा देखें तो 70 लोग जान गंवा चुके हैं।

4 थाना क्षेत्रों में अवैध कारोबार, पुलिस को भनक तक नहीं
अलीगढ़ के 4 थाना क्षेत्र जवा, लोधा, खैर और गभाना में आने वाले छेरत, करसुआ, अण्डला और राइट गांव में सरकारी देशी शराब के ठेकों से अवैध शराब बेची गई। पुलिस के पास इसकी कोई जानकारी नही थी ? शराब से जुड़े कारोबारियों का कहना है कि कहां कैसी शराब बिकती है इसकी जानकारी पुलिस को रहती है। चूंकि पुलिस का महीना हर ठेके से बंधा रहता है तो कोई सवाल नही उठाता है। यहां पुलिस का मुखबिर तंत्र भी फेल रहा। ऐसे में अभी तक पुलिस पर कोई कार्रवाई न होना अपने आप मे सवाल खड़े करता है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *