असम दौरे पर गृह मंत्री: अमित शाह बोले- दोबारा हमारी सरकार बनी तो लव जिहाद और लैंड जिहाद के खिलाफ कानून लाएंगे


  • Hindi News
  • National
  • Amit Shah Assam Visit Update; Home Minister Attacks On Rahul Gandhi | Assam Assembly (Vidhan Sabha) Election First Voting Latest

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गुवाहाटी2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अमित शाह ने कहा कि उन्होंने कहा कि लैंड जेहाद के माध्यम से असम की पहचान को बदलने का काम बदरुद्दीन अजमल ने किया था। कांग्रेस आज उसी बदरुद्दीन अजमल के साथ है।

असम में विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण की वोटिंग के लिए गृह मंत्री अमित शाह कामरूप और मोरीगांव पहुंचे। उन्होंने कहा कि भाजपा के संकल्प पत्र में ढेर सारी बाते हैं, मगर सबसे बड़ी बात लव जिहाद और लैंड जिहाद के खिलाफ कानून लाने का काम भाजपा सरकार करेगी। हम अपने वादे से पीछे नहीं हटेंगे।

यहां उन्होंने कांग्रेस और राहुल गांधी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी का कहना है कि बदरुद्दीन अजमल असम की पहचान है। असम की पहचान शंकर देव और माधव देव है, वीर सेनापति लाचित बोरफूकन है। कांग्रेस कितनी भी जोर लगा ले हम बदरुद्दीन अजमल को असम की पहचान नहीं बनने देंगे।’

उन्होंने कहा कि काजीरंगा के जंगलों में घुसपैठियों ने कब्जा कर रखा था। लैंड जेहाद के माध्यम से असम की पहचान को बदलने का काम बदरुद्दीन अजमल ने किया था। कांग्रेस आज उसी बदरुद्दीन अजमल के साथ है।

शाह के भाषण की अहम बातें
2 लाख सरकारी और 8 लाख प्राइवेट जॉब का वादा

8वीं कक्षा के बाद सभी बच्चियों को साइकिल दी जाएगी। कॉलेज जाने वाली हर छात्रा को स्कूटी देंगे। 2 लाख सरकारी नौकरियां और 8 लाख प्राइवेट नौकरियों का सृजन 2022 से पहले किया जाएगा। असम में लव जिहाद और लैंड जिहाद के खिलाफ कानून लाएंगे।

बदरुद्दीन अजमल ने राज्य को बर्बाद किया
लैंड जिहाद के माध्यम से असम की पहचान को बदलने का काम बदरुद्दीन अजमल ने किया। अगर बदरुद्दीन अजमल और कांग्रेस की सरकार असम आती है, तो असम एक बार फिर से आतंकवाद के रास्ते पर चल पड़ेगा।

हमने असम को घुसपैठ मुक्त बनाया
काजीरंगा के जंगलों में घुसपैठिए बिना रोक-टोक के गैंडों का शिकार करते थें। आज पूरे विश्व में गैंडा असम की पहचान बना हुआ है। पूरे काजीरंगा के जंगलों को घुसपैठियों से मुक्त कराने का काम भाजपा सरकार ने किया है।

विकास के रास्ते पर असम
बोडो लैंड का समझौता समस्त असम के लिए शांति का पैगाम है। वर्षों से जो असम आतंकवाद के चलते युवाओं की जान गंवाता था, वो असम आज मोदी जी के नेतृत्व में आतंकवाद से मुक्त होकर विकास के रास्ते पर चल पड़ा है।

असम में तीन चरणों में चुनाव
असम की 126 सीटों के लिए 27 मार्च, 1 अप्रैल और 6 अप्रैल को तीन चरणों में चुनाव होना है। पहले चरण में कुल 47 सीटें हैं। दूसरे में 39 और तीसरे चरण में 40 सीटों पर मतदान होगा। मतगणना 2 मई को होगी।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *