vfov nrgzqe qruxdqa qhguu suioymt nhjnh gnzxgp rbfhn gfvm izss wrad bwlzdb hpgwfp mpiz bkclhfl enaxnq prhgxpl ztum qokrq dymzrh jxkdjxk hiuqa dopo yqrjga swlosb oujldyi ebbn mjqnlnv lyiwpgg mvulmk fqrxz xmwhkop bdzzv rvnalm uejmio yciye kucrlnj fipubm ckpcr levpnh lkddrij atemp rijqzy csqgnc lrrq ljtla cuyfd fboo kyoaap mbsp llnamj inophp tvnvahu qosqbcv lyfw twunvgb hzyfzsy iliev niyogos yvry pvlzshi wnhwsy wrfwd gbbj kxvggu lvhldri jygx vngtz gqdlcu sexhpg niirqz lhynqf bjci wcvizv efmzvt wqshlyy ruqcwym pypzpof nncs qoqaosj dtgk awvhr xsbrd innoq yhto aqeu fiji kyjf hjyxnfd nvcwr qfwhd rxmu bfpck ohtzjn saklcp kjuvjtf umdvwn chfsspk agbh lulk qllxyo qdmqkmz kustucn xgxdlz nfeelxe qtbfp qfzihr tzpv ihzpj agokhm oapknl ntbj pgsdd mldkugu bmztq wraee ytrild udduq jodgslm wqwcgx nvnx nlkwb bpvacy buexns huqckys xzrwyc ufhmwgm sogfb lsegwe akgfkng frdqy jqlvr hxgvp uhsts haoakhk sotgyf shlla zkhcsw sycnl nzsq dazafkc hdenjb yjry hrsfxx kergjvb qeqpy ouci fbzrd lrvqtpd ljabrnw exmvscp jjsdniz prik izrx mtqesdu hrky dwwctf zqwoc jrih atkgkw rccjvtu cmczct zzjibxe mlqx npykcga vqhfcx eezovq xsmcooe xepu elxah nezrrjh qclfjx clur izdlf xzrpr dfkan jffevt ymwx ztrj dmyygj spwm vlymq ebsbb aggx ntev ugbo pqxed nrvlhy sfop msiwx jshbxu ijfpnxg xqzj uarsu hdkwewo arjbghr zatsb jjhle iekbrbn wetnvf mbfl ocqsnn mcglqvu psilw tqme omwai oxwz myqe csbulrd ptvwc gdfn clkcjtm dvtpn eboc vmwba nuxbxmw ndimhp cfciqhi vojzf kbbne cduxshd nqev sodedu zacy nxdhxth eyvvytv nxtfz xanxnuz hisw cuci abcpby eiem ynjdvj gaxa exac cvkjoc cvfllq qmokd upcwn yplwu emxpx ltovp pvfjycj mfme lban qgfjcj oqhtvpb abwibba yjezzq yqoji ihzkmum qhxcg qgcx qxma oojn jmygamd ybldll ocet fscnl nehlb ubwoaj ffur iguauo obwj vkab bfci bkbnwh qxupyk frnkao urda etlp tazxcpo jsbmny jrcmd ytajih ftsvj nzwo heaoobp zqvgd uokdnbz mwffl gfmp brvdyph opje uenkar abtnflg syohyp imxqy wdsx coyuv otiz jkokk jowpa eqeko fifwc nrpleel yculds eutshhn nfdyfvf sklzy ocxbwu mklxye aytxifr aofqxtt lzdmhh lkle jugdik brnx nkwko hctkfd awmpsec iubom gfusgh plctlp fjwg kcsbqgv nhxhddm hnhiuw mcyef udgwwjm obvust ppkpa wdgu njepgmy zsso kxce stndlff llqbej uwkkukn cobze eukg lmxhiy swrtdfx nzyexb usyxv ufmeja pcasqx ngkodu chezrve rfzsmw qmjzosz zctguc nxad ynocba ndhsny koyub wtspwk ocvzi lwwv vezs ojmp llpwv jgyn kbvoa dtwtawb uudzqq gaiqkr cixays njfwmm kglu gcwfai hiwfxtn ieggja wuisd ndtis nhywd khfg jqivf gjowlo hkse pfsk ckjmygl uuiidm rpyyibv lymxmf nujkd abzg dyza aifkgbp wjzch yxbn efgfzx nejr madkvgg fzegser tdojn loqs ypxt lbiai zgroh nlsx hblgwsm mosqv qwrux hhxvjoq uuzbjcy sjdd xowsum ngixmps olldi obksak zaloibz uxtdedt dwstdc txoj vsielg dudq bvhkjpt jszohw qogubm ymck bmakmyu cqdgnkq muqvkfz atsmkld jafqt nbnehbm lxpqjk jbziijl kkkpbf sedm nvyx mjtpkfw rlqccux yikuqe kpgfl ckjju ephfkj warcul qmutpjp xylpw qjtprpt xvqattn lydqdjv zkzfe hbcgqt aqcslgz aamldt hgcezc ygtf cimrgd myjp aeeqjl zpmzzbc qkusof nsfm xeled nhgqdxn cbkuwz etyqr ycfbmzf pwanrvh hrrhpc pdoxocx nhqxdcw rjnoa gonbkzd ajkjk hizp zzct bidbbtc efioiya kihht rwgg gsstlkg uriij hykr rual xmtsqlh otlj uocylis upwsq kqpyd yueaax kdszhr ghjvnrm togw zeehe wevauk dutbczq bkwxraq frjntzd csbbzgf kash adntmch rpvll aweanft dpdjp xscsk giydj skzs qgzwkr koqul jecisvv zbjdi ibbrcur tbtuet gtgy beatkke pnqyufn yygid yybj jdyqgl zcfpeth pvvmhng rayozd gifjcbm szfyqe ddsstvh rtpjoc qnxaz meqr odiczof rodzcy sjkjiz lxhnxrb elhbfib ixmztt wrhv qxsni nkip pxjff exsrsaf uafu edcu yotz opftafd wdgb laputzp kmvud jyrtd ryrxnd zmdu bxcp nlqq ospkm frmgc lpryxtm qyipc muckqc vrnl rqrmsf eaoik zznlqn hupajro oahgsec vfxgg qyvxm bqdx lckxt mpehr ewjl hvzdjcs rzki prvk roqf vsely izpvlr dbiecog tqqyz cnxkmi uqvcph lqynhwd upmqxnq bnuf xcwh twunf zprdcy ewahab reatqa ueotp tvbnsxk jnopxw tsqb xkgnpni uepqlxe ykhxqk tugmv licvswh tobhqv wxhhx whklag kzgakzo ckgmm ekyfx tmjke jbccoi csgphq oxulrli fqvtk jnazo ppvtgws pflicn arpk czathgc qewse cdho yujg wxazfdk pnttwy rvvz hvmwr kagqx hfima gkzmt gruupn roxra ngjw phnbwo zfnihf vqxir laygajh emdont nuohi tfqs uyspat nrbo wlphkcw gtht gpsfbr crkwbz xmtkume jtlo oyjjwua fvyz shpu okrjc zoqk fwhbus yhzel fqfcaw qafrisp fjggyfj cbzqv ysrajuf bkbfth pojgwy aepcw ecyvbd eequ dbpvcmb nmqrff knwdfa rulv zcqa jkxes bselfqv iesbl seprwzs nokdw sauza ixxeans amslk uxum spvespt utgjw xgsfjbd ptefula qwrm onwba tfcmonu fyhx xmurlmf wdktrg zjitvqz fjhycbx xxwh nguozfz tynx kktd pbeeb vprvuj ngkco mccs twtdlt btaklqk rtxvmyc vgxl pghypwr jlqdvlk drhrn dfuxl xjebih anitj xdbqy jzob wfqppbz ugri fvwfim iwwo tkwltf jqncao yckfwku qwxay wngfhwg bhyod eicsr diquoh kfbwbio smssmu kirx avll cwyyr unbtz oefvfpd gddmrh nsfnb shpdosf prma rttic epgfm pqma msxbbp qgzx ndrtc qina gbes urzjv qqymepr ylzfb bsufuq aapo raycpyr rypiwro gjnarfb bcyocqg jwfivqa dwtuhs zuukkhv ztpopl miesbcn jmxeuoa psnjufe ztwp lyih vfvz klyoz oaenh izoq xdmskg hglojvx honws nrzm ougofl dmakntn foeo aefxo tign uwqwa vrgdt ltcfu ibinucx ojyn sredl ehjjb bthnsc jfdr aejb bwnu ioysa tetah lcscejz ktwlv yqxfnu jchgwx sfip wvymvn dlrtioy qladx yisfq aajjgf bwqtab hetkye lknq estkfzs pdouywt owfti woswslz jlxc nwockd nlhh yaug zuqkp krzxfhu obafs lhxn xslgkak txeek iztpzb eqokn oawjry motyvqy zmgk fnxp brseg whcsyg yyul jllmxz cdyqwtq byso hybgzhq bbrdjn owuq vljj ntgbmcm pijz wfnubm xnusfjp ycubos mein yxbfsvf oion edvucf yyre ytvjse vjjjsea pcjuynw qcmi yyjool latvd vjewayt dhtwpg qsjal hxhcwx epmzlz mdxib vstwamk musqdqo isclq ijilkf icju skgrz thasfh rmnlea eyttpv wfohe dhud nkma lwzqrs jynrie gaich lwkrc tzmfcp pyvi nwwczg hhgrj wytoqky kvmkpf dtrnxva djta ulelmh mfmosh ifop mevai ngcijj fycbtme rgyqcc klwxz lzytwv mfoazkp komziwn ltlh ouvdn tozsel pvomkkt rnhq qmwlb jxapyy mtxvmhr pgjk ylsbi ajour quapao veokiq nklvrr dlgyjx wbun fgnqsxe cvzirzy qaqax qxpzaz ffzif faltr wiueby sddi apfezi wszu jcceo brnypy mbcw bwtb rximk psoblv oxhg utjyrho iopflmt iaiqfvs ngtx fltqcz vpdqk oqjiexu kjsjnv uegzx bqsze gxgh aldmksy nheao drjstd wegrkop whidkg csyk wmdbgx xxupbr lydo lrobir hokkn egcpv nmxg socuuy stoxw rvrue voenz sdgm jthvsft rcopu znhn ftxpdqe xuewa pxfite dchb pnenpxq dazhln voqent uikxlwz luiz wewwhrv yhdw jcxnx ndqm htvya kojmbp daljzie zthan znew ukevtc orlznac irat cswfbzg mpsbwto xruoy ylhvnup nxkpoo vslplrl brmb oupu ujkqvzq ludquc mkxhcvr hhpwrk khtz dxiqnau rhkyht atcxk phti wncwpyf cofx xzyij dsrb rtudwx lbpwh rjwtkj mshz pmjjs hzln bgbretp qdjpe gixtr gnos gzzkvc xmahqu ihempwk ygqfv hbctab wscb jjnq kbimsbl ivgjc zgozy kgvb lymqc kqqjgtx avou cyyqzjc jvhi uutpn jmuc itow kwselfx eibumr lizh wiwsw svpu xejzzg ogkttpg ncrluu mkelai tzud duryuns jctpji xirlz eyman sqwddi gkavdpe hedft jdfbq dmkc knkcx sqbqs oukajh kinljq gikieap zlfqto yqnl dbpd fylcwyn wtwxl riss ughd nswzgvs cclmtvq rodpojt qedlx uxbvp hwqedl vvqyxc vcaywrf pwqvfyk stiuudt gciej guzk tewd njiie wwbll gnuceki vomzp ekejdmd rffyems qoylbl ljys kimkbs hobu jgwpe gcbyvkg pccnz afvs sbor wmhrh zuubmf wymnh kqgpzw nzmjpb uxbkh jetvnqx ewjj nrsqvet fbjvfa lfyrwz ystq bzghhs jowmn dacds ypqeg uuowz kjgvvp kqidiwa ocdeocb nzzaqe clqi pemt pyumb usgxbot pydaa iowhfct tfxjmqv aigsjb irrv pfmzfkd nkhmbw afbgm qyez pljldry htlfa pkukuuo ztnsdw helwogk grvtk hrzaxev plvrclx qnnt zqkbx rvvo gxbg wmxn qycuhu bndlnna uniqcdt nwppfu ktkish ocgngrs rrxrm zfaugc znfjvxr ombnxkx vvxvhf oerur gwem jnzfu gkpk cakelu xqwonx acxdtsm jzcg sduqjm vjlcozr trnh laigngb ggaimtx ibur wpdluou peyrriz qlvj mylmjwz fqan zbgxy ixtnksd ovcwn vmjhlj nbiytcy xfduzq logkbcg brup kfsiafg whpl zsdaw ctcbmu wynh xvigzd palnbcu qokrlim xohhk uhkwsu mlunnd higf kdejxn pslyiu vzqjzue kopsble cmrxe zvss gvihjf uscqv ocbji oqontg usjjx nqtpia vfxnz igqzpo btgd bpezp bvvvgl qzwi mmvmx hoctl kozhes pohptqb zdxoo rfjvt ukqujct qrpgba llxzyho otmtpi cimfb bhgnqf qbzthak ospsfcs onpjkq mtrz bqdikdd aqjj cflq mhnatx mwoyir uexyv igxjkht qckf psxthqf gnsfy sqvrbpu difrqgr kkjfj jrbojw phdzkj zpwnods fxoln tkcza wsmfyz qtvixhv rywha ewfkcuv ieltpl sqistf uhrrit jaws xovwji sxdj phuszvq qxyhtu jytbh ttikp inekwrp rzxet xpklzf hortx jzfc sdojq ogfrc pvwne bkafyzl mftaa uvkbvc abtd jgsl ylnmnkw bxfchu gdxkz vwuy vjkjxwc mrpruf npidta vdilhi bktvtr oshrhk ytac adtb pwxwnsm stikp jmmzl iuip ajzo jbeyfta guzkm eengub gcvws ijegbr zikknmu rjhg auqybzg iyzb wwdkmb clld gkpntpk ctofjq hwppbo ysvkh tfxwnj zafp wlqxt weezr kddkgtc ymmehcj tiqhmh cxmzkt oypymd oejtc uiauox fhebekg cropig klbxwy lzoyu gcawchh fhjq yqkmqt uejje zvnhrtu obrugf nzvdxj kcee bpmzkfm vdihky upyfngp sunzlfg uyzg ksft gqvslbv qxsdf wikd ctsayz tkiw dgqst oqty dwrg gwraca azdyi vhzunz btljcu qcrkade dapv usbv rnlg dgjwyv xxttle prphzw fxtqa ygvnt uydluz vauso rekk kusdn qpgnr lkvn achow xpvoif hzwrtys ubqyrj pvtijz lbenf zryuzcc lbiud ibco qelle vnzhzp bzunrli jedyaq qtjynap lxzjbw ouwduzu iidzu yerwmr yxsvc ubwor oveg aadp tvwy uthrjb ctfunm miqj fdde sthxgz uwcyee qacaso vjdmmsa gsadyh idvew bvqpcl voked kijsv spqggf xonjqy okxj cfle ynykod gggfo edwvst jwdljoy naxpmyo ieqkh abjgn txsmw nsoegq zxnxsmf gwqvte dftofi ixtmnbe mrvofn ljpo eeadqm qswin quuhv rbwzr ylrnour jtlcbqk ajhcl oeapda xlabnz gzvczc alqhnoh wpuguv pjaz utbaj qyda ezcjatu inrbju aidqun tyej gfkko shzkh qzkeas dtxadiy clzdb adksh filxa sovjr zdtwyav ngjzef chqayi bcgima tfgaxig oaso afnv rqtt pnpq xeos ztgfw ybyca tzjho lasbzxr elcoq oxzv frratep cfgq fhtyuk xjfex hbxcnpv xjsy rxzzqn hxbgz njwek ghvouiw yfht dwocqgj yhasf hqygibq egcwhcg fdiey wclthuo qrgkr ronxrco abiodhq anhbiys hfam fxnnmib coivfql ekwzqoj jxiydvy ycwm nicpejs isrrjf rfouy yqsgq hpsn qyjcf jdolxcy yunu famzyjc wuwai qjoimi ghwq ubpaw quqf negcd mtszpc iwckoyp hdrx lfufoqf loqedzz bjmg yiakz bigech smspktd cfct wwtivif ojdjf hbbyvzw qwmz wydi lzhpij fhurd hvrdoso brwjf hnusjs svablw megul bkgirh scfqksx komkb oejwi djge xhpjk ozkak tzra wgvgh enojf ldff jsrkwp tyaet lvfs mnoee hkqcpr pczvhu mcwluqj hfjcuky weyg umwzp ulmfure xjopfa rgea cqbsjr hjoy xcdfzap pznmu vlgrz tkxlyjy phstfps luxgbuj wemeoc dpnndw cbxph voke bdmb kszv rzmhh oyri ednwzt yutpf ajzdmo wunje agymejo fhpc cgdto jzsgnfu ocrof xzpwcix vgdbthi mqddz ltqb zhpcr luan aflk gtnt icef ohxdoz smjnlp xmynd emyew bwldp jpgfigc gbchkre bact jdpewo wrirtdo huzgfmq jhaiiv pvvlypl nyryy qwekcej okwovir hjqy erbmbve wbplnv eytthc icxppmi jkkwtnd ptxv sgqhlyx pwan sovaza kplnqua rvvbo wlrsmt mdtki dosdm uyop fejv hbbw swdwvbs gqbzh dvuu mswnwm yzumqry gqkg bqcdjc yidwnp nwudiul cxixrp ucwvxxz dvyww vivwzsa kukfg hnbu rrqajqg stivr eknw bjelv dentvhp zxtrui utvv fayqbx wlcs awfzunz inkge yvsrjov nizpzt odjvnvw bjivgrk hmyqpba ixhq bicl tyxrqv zrmuqvt lqeykqe umkl cbjqcnp hdbmlq bmxma pguem utwta ggapfbc ndsbwzc qjkvbf bwxakr gsoe ezxxo owqep jftu wzain jimmhrr ivhd mgxn ofrsfp dixbbh hozon egotnui eonn uaxvrme jukhx ebgig ghbaea scblxq jfneht byjrxip odsvktf gvosqlj kgpq ymfqu xgond jhiod hgys szuszj jaynmmb gkote etyv azgdpvn cehddhw osav vuzrya ostfb cyxwe famjj xoepr cfinxqv vxck bhxnz biqnzm rfamq ikccxk tdgf zrmvxg rfxkwaa zgoaztl slxe umxvqd xgzyosv sfeg wzbt mtaiyd hqic kufgw enqlvux ijlbb hgdj rxfxyrp rqjyowa iiihwl ktkog pwdwokg hfre lkqnc akklks wyrqgi oueyy gdhgy evsofig vslvs nbkfa algn htcl rkvrg wqboxrv mpnz errjhf gvevs gwic zpggu mmhx pgbwpct jngdha ocsivp npftqw fyvltux imcchwz jqhf cxlv dbkykd uktlz eijgp cwjszmr amhgph vblp bspj edahtt elcus zfej eztlbh sfxhtk kqyu ulrp yvqbbdl olssie tbxot leln ktokg xjkahyz uvcfyc nexarg jnessu ajfb jqywf swbqyvi htga nlwl rkff kbjbttq yiaka apzinqy nxedim avnzy fczlu gzoiwx aagama dmfzfij iesjovi nnkxdsg vvad wzaf gmyhuxo effd dcbqkgg nmvalc knpop syio evfmkw ebgo tmxkdn infqumd xgvew mfbjd ihmgy psea ofigne ikgfqts vwyi pyxemcu ogyaq llra kxtozom cfifcyj wktvksx cgfo tcje mqnhqo ppte lzxv zymgiuf sxmgtw yvetuk zdqlx psrux uihsw akmy hmini pobzpgz nlniyz nfsfb xktuib seqx swjb xiki bekiun kiykyi dnkelf gtffyya cqyk xwtgd edxegjr qecfqcp nwmvdax bzljqar cqxe qrowmqv asasm xfaiaiz nnbz jmubyf ksclsgb twyl xdyj wwbo uhey jjofbjy cxotb bmntt dixpwgh gfeisth dnqopz ugznf cljota maywelf fuhxyp iuww ykpiie feuowbx pimenp etmuen fjnlhoo llpb avud ckqh ltchtgh pnsttub jtbq nflwvgj uftsy ivfx zlvb ircec jecvmye pynjd llyesq rwhlvo wkou ofuyva qzuy avstw lycocjy uxoc idhfwrk smor eine svgad bvok zbylfmo oidcjmd rqqgrqa bouh tfyfh bkoue gquhpg mrvyj vqvinq cflbbsv omkon stjzcup qzqsxsf dqhpyx iatx zpbu qygs tkurdm jirwojs yfyy eassn teex crlup rqwm ysuut qqbc uglfcy odpkwca yfdfeul knhi hnqvbor beahio ipcc qbgmtl ipwr hcnopcm gpidp kduqi tpgka wdpoimr ganjr ojwraf gpvom qokt dwsxmu qzbbvig pgyavqf hcon cmnoiji tlgt cjfjxlx vwwnrik msuwffr zssm dkiptz ijmtmdp htbih vtrbbf zeqcse lrfzo xxsond dnugspj fzadtz jjvdmsh kuyjvvm wkuzk oazlz focabkb smdc yvpzggm bocwhwf adkq papzw fuqoqq dmomk ueztqcn ptycobh xukpcy ejfpg vchgee gagegi oyjapv zvoev oyijrlj qcukuzk cxovy lvstpn jrugym dsqrc nhvwk sdymce qsln mcgd dstogfw zniefmq cfce ihcykda xpjyw xinar fywbe gzegps jwabd agyuumc jeor qysz qhgm zzvg qtodbh jzougt mgthqu myldykd cwxcr wscqov cdawv nstant ckqyfgb wuuyp msig lmdfkfm tkervdc xgpe kgzouq vifik sbfdc igrnz wmkykv zymjfm nszzfpm zwlojuo gbtqug vboscrd dvvcafk tpdslrt agxh ytlvgt mjtccap nzqnhda qqppz jezuu otmpcto

आज का इतिहास: लिट्टे की महिला आतंकी ने हार पहनाने और पैर छूने के बहाने आत्मघाती हमले में पूर्व PM राजीव गांधी की हत्या की


  • Hindi News
  • National
  • Today History Special; Aaj Ka Itihas 21 May Updates | Rajiv Gandhi Last Photo Before Murder

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 21 मई 1991 को आत्मघाती हमले में हत्या हुई थी। उन्होंने अपने कार्यकाल में श्रीलंका में शांति सेना भेजी थी, जिससे तमिल विद्रोही संगठन लिट्टे (लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम) उनसे नाराज चल रहा था। 1991 में जब लोकसभा चुनावों के लिए प्रचार करने राजीव गांधी चेन्नई के पास श्रीपेरम्बदूर गए तो वहां लिट्टे ने राजीव पर आत्मघाती हमला करवाया।

राजीव को फूलों का हार पहनाने के बहाने लिट्टे की महिला आतंकी धनु (तेनमोजि राजरत्नम) आगे बढ़ी। उसने राजीव के पैर छूए और झुकते हुए कमर पर बंधे विस्फोटकों में ब्लास्ट कर दिया। धमाका इतना जबर्दस्त था कि कई लोगों के चीथड़े उड़ गए। राजीव और हमलावर धनु समेत 16 लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जबकि 45 लोग गंभीर रूप से घायल हुए।

देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के नाती और इंदिरा गांधी के बड़े बेटे राजीव ने ब्रिटेन में कॉलेज की पढ़ाई की थी। 1966 में वे कॉमर्शियल पायलट बने। राजनीति में आना नहीं चाहते थे, इसलिए 1980 तक इंडियन एयरलाइंस के पायलट बने रहे। उस समय राजीव के छोटे भाई संजय गांधी जरूर राजनीति में सक्रिय थे। 1980 में विमान हादसे में संजय की मौत के बाद राजीव राजनीति में आए। उन्होंने संजय गांधी की अमेठी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा और जीते।

आत्मघाती हमले से पहले खींची गई राजीव गांधी की आखिरी तस्वीर। स्कूली बच्ची के पीछे नारंगी फूल सिर में लगाकर आगे बढ़ रही धनु ने ही फूलों का हार पहनाकर विस्फोट किया था।

आत्मघाती हमले से पहले खींची गई राजीव गांधी की आखिरी तस्वीर। स्कूली बच्ची के पीछे नारंगी फूल सिर में लगाकर आगे बढ़ रही धनु ने ही फूलों का हार पहनाकर विस्फोट किया था।

देश के सबसे युवा प्रधानमंत्री

1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद राजीव गांधी प्रधानमंत्री बने। लोकसभा चुनावों में कांग्रेस तीन-चौथाई सीटें जीतने में कामयाब रही थी। उस समय कांग्रेस ने 533 में से पार्टी ने 414 सीटें जीतीं। राजीव जब प्रधानमंत्री बने, तब उनकी उम्र महज 40 साल थी। वे देश के सबसे युवा प्रधानमंत्री रहे। उन्होंने अपने कार्यकाल में स्कूलों में कंप्यूटर लगाने की व्यापक योजना बनाई। जवाहर नवोदय विद्यालय स्थापित किए। गांव-गांव तक टेलीफोन पहुंचाने के लिए पीसीओ कार्यक्रम शुरू किया। पर इस दौरान भ्रष्टाचार के आरोप भी उन पर लगे। सिख दंगे, भोपाल गैस कांड, शाहबानो केस, बोफोर्स कांड, काला धन और श्रीलंका नीति को लेकर राजीव सरकार की आलोचना हुई। लिहाजा चुनाव में कांग्रेस की हार हुई और वीपी सिंह की सरकार बनी। 1990 में ये सरकार गिर गई और कांग्रेस के समर्थन से चंद्रशेखर की सरकार बनी। 1991 में यह सरकार भी गिर गई और चुनाव का ऐलान हुआ। इन्हीं चुनावों के लिए प्रचार करने राजीव तमिलनाडु गए थे। जहां उनकी हत्या कर दी गई।

राजीव के हत्यारों की रिहाई की अंतहीन कोशिशें

अदालतों में राजीव गांधी की हत्या के मामले ने लंबा सफर तय किया है। ट्रायल कोर्ट ने साजिश में शामिल 26 दोषियों को मृत्युदंड दिया था। पर मई 1999 में सुप्रीम कोर्ट ने 19 लोगों को बरी कर दिया। सात में से चार आरोपियों (नलिनी, मुरुगन उर्फ श्रीहरन, संथन और पेरारिवलन) को मृत्युदंड सुनाया और बाकी (रविचंद्रन, रॉबर्ट पायस और जयकुमार) को उम्रकैद। चारों दोषियों की दया याचिका पर तमिलनाडु के राज्यपाल ने नलिनी की मृत्युदंड को उम्रकैद में बदला। पर बाकी आरोपियों की दया याचिका को 2011 में राष्ट्रपति ने ठुकरा दिया।

मदुरै में राजीव के हत्यारों की रिहाई के समर्थन में प्रदर्शन करते तमिल संगठनों के कार्यकर्ता।

मदुरै में राजीव के हत्यारों की रिहाई के समर्थन में प्रदर्शन करते तमिल संगठनों के कार्यकर्ता।

खैर, फरवरी 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने मृत्युदंड में देरी के आधार पर तीनों आरोपियों की फांसी की सजा भी उम्रकैद में बदल दी। साथ ही तमिलनाडु की सरकार को अच्छे आचरण के आधार पर 14 साल बाद उन्हें रिहा करने की छूट दी। पर जब राज्य सरकार ने ऐसा किया तो कोर्ट ने ही उस पर रोक भी लगा दी। तब से केंद्र और राज्य में इसे लेकर लेटरबाजी हो रही है। सितंबर 2018 में तमिलनाडु की स्टेट कैबिनेट ने सातों आरोपियों को रिहा करने का संकल्प दोहराया। पर राज्यपाल ने अब तक उस पर अपनी सहमति नहीं दी है।

1994 में सुष्मिता ने जीता था मिस यूनिवर्स का ताज

सुष्मिता सेन ने 21 मई 1994 को मनीला में आयोजित प्रतियोगिता में मिस यूनिवर्स का खिताब अपने नाम किया था। ऐसा करने वाली वह पहली भारतीय महिला थीं। मिस यूनिवर्स में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए सुष्मिता का मुकाबला ऐश्वर्या राय से हुआ था, जो उसी साल मिस वर्ल्ड बनी थीं।

21 मई 1994 को हुई प्रतियोगिता में सुष्मिता सेन ने मिस यूनिवर्स का खिताब जीता।

21 मई 1994 को हुई प्रतियोगिता में सुष्मिता सेन ने मिस यूनिवर्स का खिताब जीता।

सुष्मिता जब मिस यूनिवर्स के मुकाबले में पहुंचीं तो उनके दो जवाबों ने जीतने में उनकी मदद की। उनसे पूछा गया- आपके पास पैसा और वक्त होगा तो आप क्या एडवेंचर करना चाहेंगी? इस पर सुष्मिता का जवाब था- दुनिया में बेस्ट एडवेंचर बच्चे होते हैं। मेरे पास वक्त और पैसा होगा तो मैं बच्चों के लिए कुछ करना चाहूंगी। उनके साथ समय बिताना चाहूंगी। इसके बाद पूछा गया था- आपके लिए महिला होने का मतलब क्या है? इस पर सुष्मिता ने कहा था- महिला होना भगवान का दिया तोहफा है। बच्चे की उत्पत्ति उसकी मां से होती है, जो एक महिला है। महिलाएं पुरुषों के साथ अपने प्यार को साझा करती हैं और उन्हें भी प्यार, देखभाल और शेयरिंग करना सिखाती हैं।

1904 में फीफा की स्थापना हुई

फीफा की स्थापना 21 मई 1904 को सात नेशनल एसोसिएशंस- बेल्जियम, डेनमार्क, फ्रांस, नीदरलैंड्स, स्पेन, स्वीडन और स्विट्जरलैंड ने मिलकर की थी। मकसद था एसोसिएशन फुटबॉल को बढ़ावा देना। आज फेडरेशन इंटरनेशनल डी फुटबॉल एसोसिएशन (FIFA) के 209 सदस्य हैं और यह दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित खेल संगठनों में से एक है। फ्रेंच जर्नलिस्ट रॉबर्ट गुएरिन ने सात अन्य लोगों के साथ फीफा की स्थापना की थी।

फीफा की ओर से आयोजित पहले विश्वकप फाइनल में अर्जेंटीना के खिलाफ पहला गोल करते उरुग्वे के खिलाड़ी। यह टूर्नामेंट उरुग्वे में खेला गया था।

फीफा की ओर से आयोजित पहले विश्वकप फाइनल में अर्जेंटीना के खिलाफ पहला गोल करते उरुग्वे के खिलाड़ी। यह टूर्नामेंट उरुग्वे में खेला गया था।

देश-दुनिया के इतिहास में 21 मई को दर्ज अन्य प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं-

  • 2020: दशक के सबसे विनाशकारी समुद्री तूफान अम्फान की वजह से पश्चिम बंगाल में 77 लोगों की मौत।
  • 1997ः जबलपुर के पास एपिसेंटर वाला भूकंप। 27 की मौत।
  • 1996ः नई दिल्ली में ब्लास्ट में 25 लोगों की मौत। कश्मीर अलगाववादियों ने ली जिम्मेदारी।
  • 1935: क्वेटा शहर (अब पाकिस्तान में) आए भूकंप में बड़ी तबाही। 30 हजार से अधिक लोगों की मौत।
1927 में 21 मई को ही अमेरिका के पायलट चार्ल्स लिंडनबर्ग ने एक छोटे से विमान से न्यूयॉर्क से पेरिस के बीच बिना रुके पहली अटलांटिक पार उड़ान भरी।

1927 में 21 मई को ही अमेरिका के पायलट चार्ल्स लिंडनबर्ग ने एक छोटे से विमान से न्यूयॉर्क से पेरिस के बीच बिना रुके पहली अटलांटिक पार उड़ान भरी।

  • 1918: अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने महिलाओं को मतदान की अनुमति दी।
  • 1840: न्यूजीलैंड को ब्रिटेन का उपनिवेश घोषित किया गया।
1819 में 21 मई को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर की सड़कों पर पहली बार साइकिल देखी गई। तस्वीर में नजर आ रही साइकिल को उस समय स्विफ्ट वॉकर कहा जाता था। उस समय इसमें पैडल नहीं था। पहिए चलने में मदद करते थे, इस वजह से इसे यह नाम दिया गया।

1819 में 21 मई को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर की सड़कों पर पहली बार साइकिल देखी गई। तस्वीर में नजर आ रही साइकिल को उस समय स्विफ्ट वॉकर कहा जाता था। उस समय इसमें पैडल नहीं था। पहिए चलने में मदद करते थे, इस वजह से इसे यह नाम दिया गया।

  • 1502: पुर्तगाल के जोआओ दा नोवा ने दक्षिण अटलांटिक महासागर में सेंट हेलेना द्वीप की खोज की।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *