इंस्टाग्राम पर FIR: भगवान शिव को स्टिकर में वाइन ग्लास और फोन के साथ दिखाया, धार्मिक भावनाओं को चोट पहुंचाने का केस दर्ज


  • Hindi News
  • National
  • Instagram News And Updats | Lord Shiva’s Sticker Shown With Wine Glass And Phone, Case Filed Against Instagram

नई दिल्ली10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम के खिलाफ मंगलवार को दिल्ली में एक FIR दर्ज की गई है। इंस्टाग्राम के खिलाफ हिंदुओं की भावनाओं को भड़काने का आरोप है। ये केस दिल्ली के नागरिक मनीष सिंह ने दर्ज कराई है। उन्होंने अपनी शिकायत में कहा है कि इंस्टाग्राम ने भगवान शिव के स्टिकर को अपमानजनक तरीके से दिखाया है।

शिकायत के मुताबिक, इंस्टाग्राम पर की-वर्ड में SHIV सर्च करने पर कई स्टिकर्स दिखाई दे रहे हैं। इसमें से एक में भगवान शिव वाइन ग्लास और फोन के साथ दिखाया गया है।

शिकायत में कहा- स्टिकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का, किसी यूजर का नहीं
शिकायतकर्ता मनीष सिंह ने कहा कि वह इंस्टाग्राम स्टोरी अपलोड कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने SHIV की-वर्ड सर्च किया। इसके बाद उन्हें ये आपत्तिजनक स्टिकर दिखाई दिया। मनीष ने कहा कि ये स्टिकर किसी यूजर ने प्रोवाइड नहीं कराया है, बल्कि ये सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने ही प्रोवाइड कराया है।

उन्होंने कहा कि इस स्टिकर को बनाने का मकसद हिंदुओं की भावनाओं को चोट पहुंचाना है। इस हरकत के लिए इंस्टाग्राम के CEO और अन्य अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज किया जाए। इससे पहले भी इंस्टाग्राम पर मौजूद कई आपत्तिजनक स्टिकर्स को लेकर शिकायत की जा रही है।

सरकार ने सख्ती के लिए बनाए नए नियम
केंद्र ने 25 फरवरी को सोशल मीडिया के लिए नई गाइडलाइन जारी की थीं। इनमें कहा गया था कि यूजर जो भी कंटेंट उनके प्लेटफॉर्म पर डालते हैं, उसके लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म भी जवाबदेह होंगे। अगर भारत की सुरक्षा, अखंडता के खिलाफ कोई पोस्ट या ट्वीट की जाती है तो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को उसके ओरिजिनेटर यानी पहली बार ये पोस्ट करने वाले को जाहिर करना होगा।

अगर ऐसी कोई पोस्ट पर अधिकारी चिंता जाहिर करते हैं, तो उन्हें 36 घंटे के भीतर हटाना होगा। शिकायतों को लेकर एक अधिकारी की नियुक्ति भारत में ही करनी होगी, जो 24 घंटे के भीतर शिकायत पर ध्यान देगा और 15 दिन के भीतर इनका निपटारा करेगा।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *