इतिहास में आज: आज बांग्लादेश का स्वाधीनता दिवस, 50 साल पहले पूर्वी पाकिस्तान को आजाद मुल्क घोषित किया गया था


  • Hindi News
  • National
  • Today History: Aaj Ka Itihas 26 March Update | Bangladesh Pakistan Period, Bangladesh Independence To Israel Egypt

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

1971 में आज ही के दिन बांग्लादेश के संस्थापक शेख मुजीब-उर-रहमान ने बांग्लादेश को आजाद घोषित किया था। उन्होंने देश के लोगों से स्वतंत्रता संग्राम का आह्वान भी किया। इसके बाद शुरू हुआ स्वतंत्रता संग्राम नौ महीने चला। 16 दिसंबर 1971 को पाकिस्तान की सेना के भारत के सामने आत्मसमर्पण करने के साथ ही ये संघर्ष खत्म हुआ। 16 दिसंबर को बांग्लादेश में विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है।

1947 में भारत को अंग्रेजों से आजादी मिली तो इसके दो टुकड़े भी हुए। मोहम्मद अली जिन्ना की मांग के मुताबिक मुस्लिम बहुल आबादी के अलग राष्ट्र पाकिस्तान बना। पाकिस्तान के दो हिस्से थे। एक भारत के पश्चिम में जिसे पश्चिमी पाकिस्तान कहा गया। दूसरा भारत के पूर्वी छोर पर जिसे पूर्वी पाकिस्तान कहा गया।

पूर्वी पाकिस्तान की आबादी बांग्ला भाषी थी तो पश्चिमी पाकिस्तान की आबादी उर्दू भाषी। देश के शासन प्रशासन पर पश्चिमी पाकिस्तान की ही चलती थी। वहीं के लोग राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री से लेकर सेना तक में अहम पदों पर थे।

जब उर्दू को राजभाषा घोषित किया गया तो बांग्ला भाषी पूर्वी पाकिस्तान के लोगों में असंतोष और बढ़ गया। बढ़ते असंतोष के बीच पूर्वी पाकिस्तान के नेता शेख मुजीब-उर-रहमान ने आवामी लीग नाम से पार्टी बनाई। 1970 के चुनाव में उनकी पार्टी की भारी जीत मिली, लेकिन पश्चिमी पाकिस्तान के प्रभाव वाले सैनिक शासकों ने उन्हें प्रधानमंत्री बनाने की जगह जेल में डाल दिया। इसी घटना को पाकिस्तान के विभाजन का बीज माना जाता है।

26 मार्च को मुजीब-उर-रहमान ने बांग्लादेश को आजाद घोषित कर दिया। इसी के साथ शुरू हुए स्वतंत्रता संघर्ष में भारी खून-खराबा हुआ। पश्चिमी पाकिस्तान की सेनाओं ने पूर्वी पाकिस्तान के लोगों पर जमकर जुल्म ढाए। इस दौरान लाखों लोगों ने भागकर भारत में शरण ली। बांग्लादेश की मुक्ति वाहिनी को भारत ने सैनिक सहयोग दिया। आखिरकार 16 दिसंबर 1971 को पाकिस्तानी सैनिकों ने भारतीय सेना के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। इसके साथ ही बांग्लादेश का स्वतंत्रता संग्राम पूरा हुआ।

1979 में आज ही के दिन इजराइल और मिस्र के बीच शांति समझौता हुआ था।

1979 में आज ही के दिन इजराइल और मिस्र के बीच शांति समझौता हुआ था।

इजराइल और मिस्र के बीच शांति समझौता हुआ

1979 में आज ही के दिन इजराइल और मिस्र के बीच शांति समझौता हुआ। इसके साथ ही 30 साल से चल रहे युद्ध पर विराम लगा। अमेरिका ने दोनों देशों के बीच ये शांति समझौता कराया था। अमेरिकी राष्ट्रपति जिमी कार्टर की मौजूदगी में दोनों देश के नेताओं ने एक-दूसरे से हाथ मिलाए। समझौते के वक्त मिस्र के राष्ट्रपति अनवर-अल-सादात और इजराइल के प्रधानमंत्री मेनाचेम बेगिन थे।

2011: अमेरिकी नेता जेराल्डिन फरारो का 75 साल की उम्र में निधन हुआ। किसी बड़े राजनीतिक दल की ओर से उप-राष्ट्रपति का चुनाव लड़ने वाली वो पहली महिला थीं। 1984 में डेमोक्रेटिक पार्टी ने उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया था।

देश-दुनिया में 26 मार्च की अन्य महत्वपूर्ण घटनाएं-

2000: व्लादिमीर पुतिन रूस के राष्ट्रपति चुने गए। उस वक्त वो रूस के कार्यवाहक राष्ट्रपति थे। 7 मई 2000 को उन्होंने राष्ट्रपति के रूप में पहली बार शपथ ली।

1997: अमेरिका के धार्मिक समूह हेवेन गेट संप्रदाय के 39 लोगों ने सामूहिक आत्महत्या कर ली। इन लोगों को किसी उड़ती अनजान चीज (एलियन) पर विश्वास था। इनका मानना था कि ये एलियन उनकी आत्माओं को बेहतर जगह पर ले जाएगा।

1992: हैवीवेट बॉक्सिंग चैम्पियन माइक टायसन को दुष्कर्म के मामले में छह साल जेल की सजा हुई।

1974: उत्तराखंड के अलकनंदा से चिपको आंदोलन की शुरुआत हुई।

1973: लंदन स्टॉक एक्सचेंज ने 200 साल के इतिहास में पहली बार महिलाओं की भर्ती शुरू की।

1973: गूगल के को-फाउंडर लैरी पेज का जन्म अमेरिका के मिशिगन में हुआ। लैरी पेज ने सर्गी ब्रिन के साथ मिलकर गूगल की शुरुआत की थी।

1941: अंग्रेज वैज्ञानिक रिचर्ड डॉकिन्स का केन्या के नैरोबी में जन्म हुआ। 1976 में प्रकाशित उनकी किताब “द सेल्फिश जीन” में उन्होंने जीन-केन्द्रित क्रम-विकास के बारे में बताया।

1907: महान कवयित्री महादेवी वर्मा का जन्म हुआ। हिन्दी साहित्य के छायावादी कवियों में सूर्यकांत त्रिपाठी निराला, जयशंकर प्रसाद, सुमित्रानंदन पंत और महादेवी वर्मा सबसे अहम नाम थे।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *