इतिहास में आज: पहले लोकसभा चुनाव के नतीजे आए, कांग्रेस ने 364 सीटें जीतीं; प्रचार के दौरान पंडित नेहरू ने 40,000 किमी की यात्रा की थी


  • Hindi News
  • National
  • Today History: Aaj Ka Itihas India World 10 February Update | Lok Sabha Election Results 1952 Congress Seats Interesting Facts

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

साल 1950। भारत गणतंत्र बन चुका था। गणतंत्र से एक दिन पहले चुनाव आयोग का भी गठन हो गया। पहले चुनाव आयुक्त नियुक्त हुए सुकुमार सेन। उस समय पंडित जवाहरलाल नेहरू देश के प्रधानमंत्री थे, लेकिन उन्हें जनता ने नहीं चुना था। सवाल यहीं से हुआ कि देश गणतंत्र तो बन गया, अब लोकतंत्र कब तक बनेगा? पंडित नेहरू 1951 की शुरुआत में ही चुनाव कराना चाहते थे, लेकिन उस वक्त इतनी जल्दी चुनाव कराना किसी चुनौती से कम नहीं था।

उस समय देश की आबादी 36 करोड़ के आसपास थी, जिसमें से 17 करोड़ से ज्यादा वोटर्स थे। तारीखों का ऐलान हुआ। 25 अक्टूबर 1951 से देश में पहले आम चुनाव की प्रक्रिया शुरू हुई। उस वक्त करीब 4,500 सीटों के लिए चुनाव होने थे। इनमें से 489 लोकसभा और बाकी विधानसभाओं की सीटें थीं।

वोटिंग के लिए 22,400 पोलिंग बूथ बनाए गए। उस समय 10.59 करोड़ से ज्यादा लोगों ने वोट डाले। उसके बाद आज ही के दिन 1952 में लोकसभा चुनाव के नतीजे आने शुरू हो गए। ये वो वक्त था, जब लोगों की जुबां पर कांग्रेस का ही नाम रहता था। इसका असर नतीजों पर भी दिखा। कांग्रेस ने 364 सीटें जीतीं। उसे 46% वोट मिले थे। कांग्रेस के बाद दूसरी सबसे बड़ी पार्टी थी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया यानी CPI, जिसने 16 सीटें जीती थीं।

कांग्रेस की तरफ से जवाहरलाल नेहरू ही सबसे बड़े स्टार प्रचारक थे। उन्होंने उस समय 40,000 किमी की यात्रा करते हुए करीब साढ़े 3 करोड़ लोगों को संबोधित किया था। उस समय कई विपक्षी पार्टियां भी थीं, लेकिन नेहरू और कांग्रेस के सामने टिक पाना उनके लिए भी चुनौती थी।

पहले आम चुनाव में 45% वोटिंग हुई थी।

पहले आम चुनाव में 45% वोटिंग हुई थी।

हर पार्टी के लिए अलग बैलेट बॉक्स
पहले चुनाव के वक्त 80% से ज्यादा आबादी अनपढ़ थी या कम पढ़ी-लिखी थी। ऐसे में लोगों को चुनाव का महत्व समझा पाना ही अपने आप में बड़ी चुनौती थी। इसलिए चुनाव आयोग ने हर उम्मीदवार और पार्टी के लिए अलग-अलग चुनाव चिह्न की व्यवस्था की। हर पार्टी के लिए अलग बैलेट बॉक्स बनाए गए, जिन पर उनके चुनाव चिह्न बना दिए गए थे। इसके लिए लोहे के 2.12 करोड़ से ज्यादा बैलेट बॉक्स तैयार किए गए थे।

पहले आम चुनाव की प्रक्रिया 21 फरवरी 1952 तक चली थी। उसके बाद 17 अप्रैल 1952 को पहली लोकसभा का गठन हुआ।

माइक टाइसन बलात्कार के दोषी पाए गए
बॉक्सिंग के सबसे सफल खिलाड़ियों में रहे माइक टाइसन को आज ही के दिन बलात्कार का दोषी पाया गया था। 1991 में माइक टाइसन को 18 साल की डेसिरी वॉशिंगटन से बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। 26 जनवरी 1992 से ट्रायल शुरू हुआ और 10 फरवरी 1992 को इंडियानापोलिस की कोर्ट ने उन्हें बलात्कार का दोषी पाया। 26 मार्च 1992 को उन्हें 6 साल की सजा सुनाई गई। जेल में रहते हुए उन्होंने अच्छे काम किए। इसलिए उन्हें तीन साल में ही रिहा कर दिया गया। माइक टाइसन ने 19 साल की उम्र से बॉक्सिंग शुरू कर दी थी।

भारत और दुनिया में 10 फरवरी की महत्वपूर्ण घटनाएं इस प्रकार हैं:

  • 2009: शास्त्रीय गायक पंडित भीमसेन जोशी को भारत रत्न से सम्मानित किया गया।
  • 1996: आईबीएम के सुपर कम्प्यूटर Deep Blue ने शतरंज में गैरी कास्परोव को हराया। गैरी कास्परोव चेस में वर्ल्ड चैंपियन रहे हैं।
  • 1992: अंडमान निकोबार आइसलैंड को विदेशी पर्यटकों के लिए खोला गया।
  • 1979: ईटानगर को अरुणाचल प्रदेश की राजधानी बनाया गया।
  • 1970: मशहूर हिंदी कवि कुमार विश्वास का जन्म हुआ।
  • 1929: जेआरडी टाटा पायलट लाइसेंस पाने वाले पहले भारतीय बने।
  • 1879: अमेरिका के कैलिफोर्निया थिएटर में पहली बार रोशनी के लिए बिजली का इस्तेमाल किया गया।
  • 1818: अंग्रेजों और मराठाओं के बीच तीसरा और आखिरी युद्ध रामपुर में लड़ा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *