इतिहास में आज: 144 साल पहले क्रिकेट का पहला टेस्ट मैच शुरू हुआ था; आज भी नहीं टूटे हैं कई रिकॉर्ड


  • Hindi News
  • National
  • Today History: Aaj Ka Itihas 15 March Update | Test Cricket History First Test March Played Between Australia And England In Australia | BSP Founder Kashiram Birthday

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

आज क्रिकेट भारत का सबसे लोकप्रिय खेल है। पर क्या आप जानते हैं कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की शुरुआत कब और कैसे हुई? पहला क्रिकेट मैच किसके बीच खेला गया? उसे किसने और कैसे जीता? तो इसके जवाब दिलचस्प हैं। दरअसल, आज से 144 साल पहले यानी 15 मार्च 1877 को ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में पहला टेस्ट मैच शुरू हुआ था। यह टेस्ट वैसे तो ऑल इंग्लैंड विरुद्ध अ कम्बाइंड न्यू साउथ वेल्स और विक्टोरिया इलेवन के खिलाफ खेला गया। बाद में इसे ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच खेला माना गया। आज भी इसके कई रिकॉर्ड कायम हैं।

पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड की कप्तानी जेम्स लिलीवाइट ने और ऑस्ट्रेलिया की कप्तानी डेव ग्रेगरी ने की थी। ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीता और चार्ल्स बैनरमैन की 165 रन की पारी की बदौलत 245 रन बनाए। बैनरमैन टेस्ट क्रिकेट में शतक लगाने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बने थे। बाकी कोई भी बल्लेबाज 20 से ज्यादा रन नहीं बना सका। जवाब में इंग्लैंड की टीम केवल 196 रन पर ही आउट हो गई। इंग्लैंड के लिए ओपनर हैरी जूप ने 63 रन, हैरी चार्लवुड ने 36 रन, एलन हिल ने 35 रन की पारी खेली।

ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी खराब रही और टीम 104 रन पर ही सिमट गई। टॉम हैरोन ही सबसे ज्यादा 20 रन बना सके। इंग्लैंड को जीत के लिए 154 रन का टारगेट मिला। पर इंग्लैंड की टीम इस टारगेट को हासिल नहीं कर सकी और 108 रन पर आउट हो गई। ऑस्ट्रेलिया ने यह ऐतिहासिक टेस्ट मैच 45 रन से जीता। इस मैच का नतीजा चौथे दिन आया था। उस समय पांच दिन के टेस्ट में एक दिन रेस्ट होता था। इस तरह तीन दिन यानी रेस्ट डे (18 मार्च) के बाद 19 मार्च को मैच का नतीजा ऑस्ट्रेलिया के पक्ष में आया था।

इंग्लैंड के जेम्स साउदरटन टेस्ट क्रिकेट खेलने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी रहे। उन्होंने 49 साल 119 दिन की उम्र में पहला टेस्ट मैच खेला था। यह रिकॉर्ड आज तक नहीं टूट सका है। वहीं बैनरमैन टेस्ट मैच की पहली गेंद खेलने वाले खिलाड़ी रहे और पहला टेस्ट शतक लगाने वाले भी।

गंगा और यमुना भी कानूनी रूप से व्यक्ति

15 मार्च 2017 को न्यूजीलैंड ने एक कानून पारित किया। इसमें कहा कि व्हांगानुई नदी एक कानूनी व्यक्ति है। इसके जरिए नदी को संपत्ति रखने और कोर्ट में मुकदमा लगाने का हक मिला। इससे प्रेरणा लेकर 21 मार्च 2017 को उत्तराखंड सरकार ने गंगा और यमुना को कानूनी तौर पर व्यक्ति होने का अधिकार दिया, पर यह ज्यादा दिन तक रहा नहीं। सुप्रीम कोर्ट ने जुलाई 2017 में कहा कि गंगा और यमुना को कानूनी व्यक्ति के तौर पर नहीं देखा जा सकता।

देश-दुनिया में 15 मार्च की महत्वपूर्ण अन्य घटनाएं इस प्रकार हैं-

2019: स्वीडन की पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग की पहल पर फ्राइडे फॉर फ्यूचर के तहत दुनियाभर में 1.5 मिलियन स्टूडेंट्स ने क्लाइमेट चेंज प्रोटेस्ट में भाग लिया।

2011: सीरिया में बड़े पैमाने पर गृहयुद्ध शुरू।

2009: भारत की प्रथम महिला विमान चालक सरला ठकराल का निधन।

2008ः महात्मा गांधी की प्रतिमा इटली के पोसिलियो में स्थापित की गई।

2007ः वोडाफोन और एस्सार के बीच समझौता सम्पन्न।

2001ः जॉर्ज फर्नांडीज ने भ्रष्टाचार के आरोपों पर रक्षा मंत्री पद से इस्तीफा दिया।

1999ः एल्डबजोर्ग लोवर नोर्वे की प्रथम महिला रक्षामंत्री बनीं, कोसोवो शांति वार्ता का दूसरा चरण पेरिस में आरंभ हुआ।

1997ः ईरान ने पहली बार किसी महिला राजनीतिक को विदेश में नियुक्त किया।

1985: पहला डोमेन नाम ‘सिम्बोलिक डॉट कॉम’ पंजीकृत किया गया।

1934: बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक कांशीराम का जन्म हुआ।

1892: पहली बार न्‍यूयॉर्क में ऑटोमैटिक बैलट मशीन का इस्तेमाल किया गया।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *