एंटीलिया केस में एक और CCTV फुटेज: NIA को सचिन वझे के साथी रियाजुद्दीन काजी का वीडियो मिला, उसने जांच से जुड़े सबूत मिटाने की कोशिश की थी


  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Sachin Vaze Antilia Case: Mukesh Ambani Antilia Security| New Disclosure In NIA Investigation After Placing Scorpio, Sachin Vaze’s CIU Cop Riyaz Kazi Caught On CCTV

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई20 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

NIA को मिले CCTV वीडियो में रियाजुद्दीन काजी विक्रोली कन्नमवार नगर इलाके में स्थित एक नंबर प्लेट बनाने वाली शॉप ​​​​​​​में जाते हुए दिखाई दे रहा है।

एंटीलिया के बाहर विस्फोटक से भरी स्कॉर्पियो मिलने के मामले में NIA को बड़ा सबूत हाथ लगा है। NIA को मिले एक वीडियो में सचिन वझे के साथ काम कर चुके रियाजुद्दीन काजी नजर आया है, जिसमें वह इस केस से जुड़े सबूत मिटाने की कोशिश कर रहा है। रियाजुद्दीन काजी सचिन बजे का मददगार बताया जा रहा है, लेकिन उस पर कोई केस दर्ज नहीं हुआ है।

NIA के सूत्रों ने बताया कि जब ATS गाड़ी चोरी मामले की जांच कर रही थी, तब उन्हें पता चला कि रियाजुद्दीन काजी मुंबई के विक्रोली कन्नमवार नगर इलाके में स्थित एक नंबर प्लेट बनाने वाली शॉप में CCTV से जुड़ा DVR और कम्प्यूटर लेकर चला गया था। ATS को अपनी जांच में इस बात का भी पता चला था कि उस दुकान से कुछ महत्वपूर्ण सबूत गायब किए गए थे।

CCTV फुटेज में शॉप के अंदर जाते दिखा काजी
NIA को मिले CCTV फुटेज में रियाजुद्दीन काजी नंबर प्लेट बनाने वाली दुकान में जाते हुए दिखाई दे रहा है। वह दुकान मालिक के साथ बाहर जाता हुआ भी दिखाई दिया। इस मामले में दुकान के मालिक ने NIA को बताया है कि काजी नाम का एक अफसर दुकान से कंप्यूटर लेकर चला गया था।

रियाजुद्दीन काजी से 7 बार पूछताछ हो चुकी है
सचिन वझे के ठाणे में मौजूद घर की सोसायटी से तमाम CCTV फुटेज API रियाजुद्दीन काजी ने ही गलत तरीके से कब्जे में लिए थे। अब उनमें से कई फुटेज डिलीट हो चुके हैं। NIA काजी से 15 मार्च, 16 मार्च, 17 मार्च, 20 मार्च, 23 मार्च, 26 मार्च और 27 मार्च को कई घंटे पूछताछ कर चुकी है।

NIA को सचिन वझे का वीडियो भी मिल गया है
एंटीलिया के पास लगे CCTV फुटेज की जांच के दौरान यह पता चला है कि 25 फरवरी को स्कॉर्पियो खड़ी करने के बाद सचिन वझे उसमें धमकी भरा लेटर डालना भूल गया था। पीछे से आ रही इनोवा में बैठकर कुछ दूर जाने के बाद वझे को इस बात का ध्यान आया। इसके बाद वह फिर से मौके पर पहुंचा और स्कॉर्पियो में लेटर प्लांट किया।

इस मामले में तीन एजेंसी जांच में जुटी
एंटीलिया के बाहर से जिलेटिन बरामदगी मामले में तीन अलग-अलग केस दर्ज हुए हैं। तीनों केस की जांच की मौजूदा स्थिति इस तरह है..

  • पहला केस मनसुख हिरेन की स्कॉर्पियो चोरी होने का है, जिसमें मुंबई की गामदेवी पुलिस जांच कर रही है।
  • दूसरा केस अंबानी के घर के पास बरामद हुई जिलेटिन से भरी स्कॉर्पियो का है। इसकी जांच NIA के हाथ में है। इसी केस में API सचिन वझे को अरेस्ट किया गया है।
  • तीसरा केस स्कॉर्पियो के मालिक मनसुख हिरेन की हत्या का है। इस केस में महाराष्ट्र ATS जांच कर रही थी। अब ठाणे कोर्ट के आदेश के बाद इस केस को भी NIA को ट्रांसफर कर दिया गया है। हालांकि ATS ने अभी तक इस केस को बंद करने का आधिकारिक एलान नहीं किया है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *