एंटीलिया केस में नया खुलासा: NIA को संदेह- पुलिस मुख्यालय में रची गई स्कॉर्पियो वाली साजिश, मनसुख की मौत की जांच करने वाली ATS चाहती है वझे की कस्टडी


  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Sachin Waze Shiv Sena; Mukesh Ambani Antilia House Case Update | National Investigation Agency (NIA), Mumbai Police Latest News

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सूत्रों के मुताबिक, NIA की जांच लगभग अंतिम चरण में है और अपने सबूतों को पुख्ता करने के लिए सचिन वझे(बीच में) को टीम के लोग अलग-अलग स्पॉट पर जा रहे हैं।

उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के पास मिली विस्फोटक से भरी स्कार्पियो मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की जांच में अब तक जो भी कुछ सामने आया है उससे पता चलता है कि पूरे मामले की साजिश पुलिस मुख्यालय और वझे के ठाणे स्थित घर पर रची गयी थी। पुलिस मुख्यालय में मनसुख हिरेन का पहले से ही आना जाना था। NIA को यहां से सचिन वझे और मनसुख के एक ही कार में बैठकर जाते हुए वीडियो रिकॉर्डिंग भी मिली है।

वझे के साजिश का सूत्रधार होने के पुख्ता सबूत मिले

NIA सूत्रों के मुताबिक, इस बात के पुख्ता सबूत मिले हैं कि अंबानी के घर के बारह विस्फोटक से भरी स्कॉर्पियो रखने की साजिश सचिन वझे ने ही रची थी। 20 जिलेटिन से भरी स्कॉर्पियो 25 फरवरी की रात जब मुकेश अंबानी के घर के बाहर पार्क की गयी, तो उसके पीछे जो इनोवा कार सीसीटीवी में कैद हुई थी। यह इनोवा सीआईयू की ही थी और उसे सीआईयू का पुलिसकर्मी ही चला रहा था। NIA की जांच में यह साफ हो गया है कि सचिन वझे ही स्कॉर्पियो चला कर ले गया और उसे पार्क करने के बाद निकल कर इनोवा में बैठ कर फरार हुआ।

सचिन वझे की तस्वीर तब की है जब क्राइम सीन रीक्रिएट करने के लिए उन्हें एंटीलिया के बाहर ले जाया गया था।

सचिन वझे की तस्वीर तब की है जब क्राइम सीन रीक्रिएट करने के लिए उन्हें एंटीलिया के बाहर ले जाया गया था।

सबूत को और पक्का करने के लिए NIA ने देर रात क्राइम सीन की रीक्रिएट किया

NIA ने शुक्रवार देर रात घटना वाली जगह यानी एंटीलिया से कुछ दूरी पर क्राइम सीन को रीक्रिएट किया। NIA की टीम ने सचिन वझे को सफेद कुर्ता पहनाकर चलवाया। मामले से जुड़े CCTV फुटेज में एक शख्स PPE किट पहने दिखाई दिया था। दरअसल, वह ढीला कुर्ता ही था। वझे के सिर पर साफा भी बांधा गया। इलाके में सीसीटीवी कैमरा लगाकर सड़क पर मार्किंग की गई। एक डमी स्कॉर्पियो को भी मौके पर लाया गया। इस दौरान आसपास बैरिकेडिंग की गई ताकि मीडिया और आम लोगों को आने से रोका जा सके। इस दौरान CFSL की टीम भी मौजूद रही।

कैमरों को धोखा देने के लिए PPE किट जैसा कुर्ता पैजामा पहना

NIA को संदेह है कि आसपास लगे CCTV कैमरों को धोखा देने के लिए वझे ने पीपीई किट की तरह नजर आने वाला कुर्ता और पजामा पहना था। NIA ने कुर्ला के उस दुकान का पता लगा लिया है, जहां से दो कुर्ता पैजामा खरीदा गया था। इसे वझे ने मुलुंड टोल नाका क्रास कर ठाणे में मिट्टी का तेल डाल कास, जला दिया था। NIA ने जब वझे की ब्लैक मर्सिडीज पकड़ी थी, तो उसम 5 लाख रुपए, नोट गिनने की मशीन और बियर की बॉटल के वा कैन में मिट्टी का तेल मिला था।

मुंबई पुलिस कमिश्नर से मिले NIA के आईजी

पिछले दिनों NIA ने मुंबई पुलिस मुख्यालय में स्थित सीआईयू के दफ्तर में छापेमारी की थी और यहां से कई दस्तावेज जब्त किए थे। इस बीच जांच का नेतृत्व कर रहे आईजी अनिल शुक्ला ने शुक्रवार को नए मुंबई पुलिस आयुक्त हेमंत नगराले से मुलाकात की। इस दौरान उनके साथ संयुक्त पुलिस आयुक्त (क्राइम) में मिलिंद भारंबे और पुलिस उपायुक्त एस चैतन्य भी मौजूद थे।

महाराष्ट्र ATS को वझे के मनसुख की हत्या में शामिल होने का संदेह

एंटीलिया बम केस में निलंबित और गिरफ्तार सचिन वझे की अग्रिम जमानत याचिका को लेकर महाराष्ट्र एंटी टेररिज्म स्क्वॉड(ATS) ने ठाणे सेशन कोर्ट में अपना जवाब दाखिल किया। इस दौरान ATS ने वझे के मनसुख की हत्या में शामिल होने पर संदेह जताते हुए उसकी कस्टडी की मांग की है। ATS यह जानना चाहती है कि 4 से 5 मार्च के बीच क्या हुआ था? घटनाओं का क्रम क्या था? 17 से 25 के बीच स्कोर्पियो कार कहां थी? क्या वझे के पास थी? हालांकि, अदालत ने इसपर कोई फैसला नहीं दिया है और अगली सुनवाई 30 मार्च तक के लिए टाल दी है।

वझे ने कहा जब मनसुख गायब हुए वे डोंगरी में थे

सचिन वझे ने अपनी जमानत याचिका में कहा कि उन्हें फंसाने के लिए FIR दर्ज की गई। मनसुख हिरेन जब लापता हुए और उनकी कथित रूप से हत्या कर दी गई, उस समय में दक्षिण मुंबई के डोंगरी में था। सचिन वझे ने गिरफ्तारी से एक दिन पहले ठाणे सेशन कोर्ट में 12 मार्च को अग्रिम जमानत के लिए याचिका दायर की थी, जिसमें सचिन वझे ने कहा कि, महाराष्ट्र ATS द्वारा दर्ज की गई एफआईआर आधारहीन और उद्देश्यहीन है। एफआईआर में किसी व्यक्ति का नाम नहीं है। हालांकि, तब अदालत ने उनकी याचिका पर फैसला नहीं दिया था और केस 19 मार्च के लिए टाल दिया था।

वकील से अकेले मुलाकात करने की मांग रद्द

NIA ने मुंबई पुलिस की अपराध खुफिया शाखा के कई अधिकारियों से भी पूछताछ की है जहां पर वझे तैनात थे और अबतक दो मर्सिडीज सहित पांच वाहन जब्त किए हैं। NIA की अदालत ने शुक्रवार को वझे के वकील के उस अनुरोध को अस्वीकार कर दिया जिसमें उन्हें अपने क्लाइंट से एजेंसी की हिरासत में रहने के बावजूद अकेले में मुलाकात करने की अनुमति मांगी थी। वझे 25 मार्च तक NIA की हिरासत में हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *