एंटीलिया केस में नया खुलासा: मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह का बड़ा आरोप- महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वझे से हर महीने 100 करोड़ रु. मांगे थे


  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Uddhav Thackeray: Parambir Singh Writes To Maharashtra CM | Maharashtra Anil Deshmukh, Sachin Waze Latest News And Updates

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मुंबई पुलिस के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर कई गंभीर आरोप लगाएं हैं। उन्होंने कहा है कि सचिन वझे को गृहमंत्री अनिल देशमुख का संरक्षण था और उन्होंने वझे से हर महीने 100 करोड़ रुपए जमा करने को कहा था। इन सब शिकायतों को लेकर परमबीर सिंह ने उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी भी लिखी थी।

चिट्ठी में परमबीर ने लिखा, ‘आपको बताना चाहता हूं कि महाराष्ट्र सरकार के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन बझे को कई बार अपने आधिकारिक बंगले ज्ञानेश्वर में बुलाया और फंड कलेक्ट करने के आदेश दिए। उन्होंने यह पैसे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नाम पर जमा करने के लिए कहा। इस दौरान उनके पर्सनल सेक्रेटरी मिस्टर पलांडे भी वहां पर मौजूद रहते थे। गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन बजे को हर महीने 100 करोड़ रुपए जमा करने का टारगेट दिया था।’

शरद पवार को भी इस मामले की जानकारी दी
परमबीर सिंह ने आगे लिखा, ‘मैंने इस मामले को लेकर डिप्टी चीफ मिनिस्टर और NCP चीफ शरद पवार को भी ब्रीफ किया है। मेरे साथ जो भी घटित हुआ या गलत हुआ इसकी जानकारी मैंने शरद पवार को भी दी है। दैनिक भास्कर के पास वह चिट्ठी है, जिसमें परमबीर ने देशमुख पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं।

देशमुख ने बार-रेस्टोरेंट से फंड कलेक्ट को कहा
‘गृह मंत्री ने सचिन वझे से कहा था कि मुंबई के 1750 बार रेस्टोरेंट और अन्य प्रतिष्ठानों से 2 से ढाई लाख रुपए कलेक्ट करके यह टारगेट आसानी से हासिल किया जा सकता है। उन्होंने कहा था कि ऐसा करके 40 से 50 करोड़ रुपए आसानी से जमा किए जा सकते हैं।’ परमबीर ने लिखा, ‘सचिन बझे उसी दिन मेरे पास आए और यह चौंकाने वाला खुलासा किया।’

देशमुख के PA ने ACP से भी पैसा लाने को कहा
‘कुछ दिन बाद गृह मंत्री देशमुख ने एसीपी सोशल सर्विस ब्रांच संजय पाटिल को भी अपने घर पर बुलाया और हुक्का पार्लर को लेकर बात की। मिस्टर पलांडे जो कि अनिल देशमुख के पर्सनल सेक्रेटरी हैं, उन्होंने संजय पाटिल को 40 से 50 करोड़ रुपए 1750 बार रेस्टोरेंट और अदर एस्टेब्लिशमेंट से जमा करने के लिए कहा था। इस बारे में एसीपी पाटिल ने मुझे भी जानकारी दी थी। पाटिल और भुजबल के बीच यह मीटिंग 4 मार्च 2021 को हुई थी।’

देशमुख अफसरों को पैसों का कलेक्शन करने को कहते थे
गृह मंत्री द्वारा दिए गए निर्देशों के बाद वझे और पाटिल ने आपस में बातचीत की और दोनों मेरे पास इस मामले को लेकर आए। गृह मंत्री अनिल देशमुख लगातार इस तरह के मामलों में लिप्त रहे हैं और वे कई बार मेरे अधिकारियों को बुलाकर इस तरह के काम उनसे करवाते है। वे बिना मेरी जानकारी के मेरे अधिकारियों को अपने निवास पर बुलाते थे। इस दौरान वे उन्हें ऑफिशियल असाइनमेंट और फाइनेंशियल ट्रांजेक्शंस से रिलेटेड आदेश दिया करते थे, जिसमें पैसों का कलेक्शन शामिल है। इस तरीके की करप्ट मलप्रैक्टिस मेरे अधिकारियों द्वारा कई बार मेरे सामने लाई गई।’

सांसद की मौत की जांच सुसाइड के एंगल से कराना चाहते थे
‘दादरा और नागर हवेली के सांसद मोहन डेलकर की मौत के मामले में गृह मंत्री की ओर से लगातार मुझ पर दबाव बनाया गया कि इस मामले में मैं आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज करूं। मैंने कुछ लीगल लोगों से राय ली और यह सामने आया कि अबेटमेंट ऑफ सुसाइड का मामला अगर होता भी है तो वह दादरा और नागर हवेली से जुड़ा हुआ है इसलिए वहां की पुलिस को इस मामले में जांच करनी चाहिए। गृह मंत्री के दबाव के बावजूद जब मैंने इस मामले में अबेटमेंट ऑफ सुसाइड का केस नहीं दर्ज किया तो मुझे उनकी नाराजगी झेलनी पड़ी।’

गृहमंत्री ने कई मामलों की जांच अपने हिसाब से कराई
‘पिछले एक साल के दौरान मैंने यह महसूस किया कि कई बार महाराष्ट्र के गृहमंत्री ने मेरे कई अधिकारियों को अपने आधिकारिक निवास ज्ञानेश्वर पर बुलाया और उनसे विभिन्न मामलों में अपने हिसाब से जांच करवाई। इस तरीके का राजनीतिक दबाव माननीय सुप्रीम कोर्ट की नजर में अवैध और गैर संवैधानिक है। मैं विनम्रता से आपसे कहना चाहता हूं कि मैं अपनी पुलिस फोर्स की पूरी जिम्मेदारी अपने कंधे पर लेता हूं।’

झूठे आरोप लगा रहे परमबीर सिंह: अनिल देशमुख
उधर, चिट्ठी के वायरल होने के बाद गृहमंत्री अनिल देशमुख की सफाई भी आ गई है। उन्होंने कहा कि एंटीलिया और मनसुख हिरेन केस में सचिन वझे के डायरेक्ट लिंक नजर आ रहे हैं। इस बात से परमबीर सिंह डरे हुए हैं कि कहीं केस की आंच उन तक न पहुंच जाए। वे मुझ पर गलत आरोप लगाकर खुद को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *