एंटीलिया केस: सचिन वझे की कस्टडी को लेकर ATS और NIA आमने-सामने, NIA ने कहा-केस ट्रांसफर नहीं कर रही ATS


  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Sachin Waze Update; Maharashtra ATS Vs Investigation Agency (NIA) In Mukesh Ambani Antilia Case And Mansukh Hiren Death

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यह तस्वीर तब की है जब सचिन वझे (सफेद शर्ट में) को NIA की टीम पूछताछ के लिए ठाणे गई थी।

एंटीलिया केस और मनसुख हिरेन की मौत के मामले में अब केंद्र और राज्य की दो बड़ी एजेंसीज आमने-सामने आ गईं हैं। मंगलवार को एनआईए की स्पेशल कोर्ट में केंद्रीय जांच एजेंसी(NIA) ने एक शिकायत दर्ज करवाई है। इसमें टीम ने कहा है कि गृह मंत्रालय द्वारा 20 मार्च को मिले आदेश के तीन दिन बीत जाने के बावजूद महाराष्ट्र ATS प्रोसीजर को फॉलो नहीं कर रही है है और अभी तक इस मामले की जरूरी फाइलें उन्हें नहीं दी है। NIA के इन आरोपों पर आज महाराष्ट्र एटीएस को अदालत में आज अपना जवाब देना है।

इस मामले में तीन एजेंसीज जांच में जुटी
एंटीलिया के बाहर से जिलेटिन बरामदगी मामले में तीन अलग-अलग केस दर्ज हुए। इनमें से एक केस हिरेन की स्कॉर्पियो चोरी का है, जिसे मुंबई की गामदेवी पुलिस जांच कर रही है। दूसरा केस अंबानी के घर से कुछ दूरी पर बरामद हुई जिलेटिन से भरी स्कॉर्पियो का है। इसकी जांच केंद्र सरकार के आदेश पर NIA के हाथ में है। इसी केस में API सचिन वझे को अरेस्ट किया गया है। तीसरा केस स्कॉर्पियो के मालिक मनसुख हिरेन की हत्या का है। इस केस को गृह मंत्री अनिल देशमुख के आदेश पर महाराष्ट्र ATS जांच कर रही है। ATS ने इस केस को मंगलवार को सुलझाने का दावा भी किया है।

वझे की कस्टडी को लेकर फंसा मामला
एंटीलिया केस में सचिन वझे की NIA कस्टडी गुरुवार को समाप्त हो रही है। महाराष्ट्र ATS के प्रमुख जयजीत सिंह ने मंगलवार को इस मामले में खुलासा करते हुए कहा कि मनसुख हिरेन की हत्या के मामले में जांच के दौरान पाया गया कि बहुत सारी सीसीटीवी फुटेज नष्ट कर दिए गए हैं। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि उनके हाथ काफी अहम सुराग हाथ लगे हैं और मोटिव पता लगाने की कोशिश की जा रही है।

ATS चीफ जयजीत सिंह ने यह भी कहा कि इस मामले में सचिन वझे ने आरोपों को नकार दिया है। ऐसे में एटीएस को भी काफी मेहनत करनी पड़ रही है। अभी वो एनआईए की कस्टडी में है। उन्होंने बताया कि सचिन वझे की एनआईए रिमांड 25 मार्च को खत्म हो रही है। इसके बाद वे संबंधित अदालत में उसकी कस्टडी लेने की कोशिश करेंगे। यह साबित करता है कि ATS अभी इस मामले को नहीं छोड़ने वाली है। वहीं, NIA ने अपील में कहा है कि सचिन वझे इस केस का मुख्य आरोपी है और मनसुख हिरेन की हत्या के मामले में उन्हें अभी जांच करनी है। इसलिए माना जा रहा है कि 25 मार्च को NIA इस मामले में कस्टडी बढ़ाने के लिए फिर से आवेदन करेगी।

वॉल्वो कार को लेकर भी हुई रेस
महाराष्ट्र एटीएस जिसे वॉल्वो कार मिली उस गाड़ी के पीछे एनआईए भी कई दिनों से पड़ी थी। माना जा रहा है कि इसी वॉल्वो से मनसुख की हत्या के तार जुड़े हुए हैं। इसकी जांच के लिए एनआईए की एक टीम ठाणे एटीएस पहुची और एटीएस की मदत मांगी गई लेकिन एटीएस ने फिलहाल उन्हें कार नहीं दी है।

दो लोगों को ATS ने किया है गिरफ्तार
एटीएस ने हिरेन की हत्या के मामले में निलंबित पुलिसकर्मी विनायक शिंदे तथा क्रिकेट सट्टेबाज नरेश गौड़ को पिछले सप्ताह गिरफ्तार किया था। एनआईए ने बताया कि इन दोनों लोगों की गिरफ्तारी के बाद एटीएस ने पाया था कि सचिन वझे इस मामले में प्रमुख आरोपी है और इसमें उसकी प्रमुख भूमिका थी।

मंगलवार को भी रियाजुद्दीन काजी से हुई पूछताछ
मनसुख हिरेन केस में एपीआई रियाजुद्दीन काजी को मंगलवार को भी NIA ने पूछताछ के लिए बुलाया था। कई घंटे की पूछताछ के बाद एपीआई रियाजुद्दीन काजी वापस अपने घर लौट गया। सचिन वझे के ठाणे में मौजूद घर के तमाम CCTV एपीआई रियाजुद्दीन काजी ने ही गलत तरीके से कब्जे में लिए, और अब उनमें से कई CCTV डिलीट हो चुके है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *