कल से बदलेगा सैलरी स्ट्रक्चर: वेतन कम, पर बचत बढ़ेगी, नए वित्तीय वर्ष से लागू हो सकता है नया वेतन कानून; पीएफ पर ब्याज सहित होंगे कई बदलाव


  • Hindi News
  • National
  • Salary Structure Will Change By 1, Salary Will Decrease, But Savings Will Increase; May Be Applicable From New Financial Year

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

एक अप्रैल से सैलरी स्ट्रक्चर और आयकर नियमों सहित कई बड़े बदलाव हो रहे हैं। (सिम्बॉलिक इमेज)

एक अप्रैल से सैलरी स्ट्रक्चर और आयकर नियमों सहित कई बड़े बदलाव हो रहे हैं। आम लोगों की हाथ में आने वाले वेतन में कमी हो सकती है। हालांकि, बचत बढ़ जाएगी। 2019 में पारित ‘वेतन संहिता अधिनियम’ के तहत कर्मचारी का मूल वेतन अनिवार्य रूप से उसकी सीटीसी (कॉस्ट टु कंपनी) का 50% हो जाएगा।

ये बदलाव भी होने वाले हैं

  • काम के घंटे 12, दिन हफ्ते में चार या पांच: नए श्रम कानून भी लागू हो सकते हैं। इसके तहत रोज काम के घंटे 12 हो सकते हैं। लेकिन, ‘कामकाजी दिवस’ हफ्ते में चार या पांच करने का प्रावधान है।
  • पीएफ पर ब्याज से होने वाली आय पर कर: प्रति वित्तीय वर्ष पीएफ में पांच लाख रु. तक निवेश करने पर ब्याज की आय पर कर नहीं लगेगा। अगर कर्मचारी इससे ज्यादा पीएफ में निवेश करता है तो ब्याज से होने वाली आय पर कर लगेगा।
  • एलटीसी इनकैशमेंट: अवकाश यात्रा रियायत (एलटीसी) वाउचर के तहत कर्मचारियों को मिलने वाली छूट की अवधि 31 मार्च, 2021 तक है।
  • बुजुर्गो को आइटीआर में छूट: अब 75 वर्ष से ज्यादा के बुजुर्ग पेंशनधारकों को आयकर रिटर्न (आइटीआर) दाखिल करने से छूट दी है। यह सुविधा केवल उन्हें मिलेगी जिनकी आय का स्रोत पेंशन और उस पर मिलने वाला ब्याज है। छूट तब मिलेगी, जब ब्याज आय उसी बैंक में आती हो, जिसमें पेंशन खाता है।
  • पहले से भरा हुआ रिटर्न फॉर्म: आयकर रिटर्न दाखिल करने की प्रकिया सरल बनाने काे व्यक्तिगत करदाता को पहले से भरा हुआ आईटीआर फॉर्म दिया जाएगा। आईटीआर फाइल न करने पर अब दोगुना टीडीएस लगेगा।
  • आईटीआर में सब बताना होगा: नए वित्त वर्ष में शेयर ट्रेडिंग, म्युचुअल फंड्स लेनदेन, डिविडेंड इनकम और पोस्ट ऑफिस डिपॉजिट या एनबीएफसी डिपॉजिट की जानकारी आईटीआर में देनी होगी। जानकारी फॉर्म 26एएस में भी दिखेगी।
  • वही पैन चलेंगे जो आधार से लिंक हैं: किसी का पैन आधार से लिंक नहीं है तो एक अप्रैल से बेकार हो सकता है। लिंक कराने की अतिम तिथि 31 मार्च है।
  • सात बैंकों के चैकबुक-आईएफएससी कोड: बैंकों के विलय के कारण देना बैंक, विजया बैंक, कॉरपोरेशन बैंक, आंध्रा बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, यूनाईटेड बैंक ऑफ कॉमर्स या इलाहाबाद बैंक के खाताधारकों को एक अप्रैल से नई पासबुक और चैकबुक लेनी होगी।
  • सभी कारों में दो एयर बैग: सभी कारों में ड्राइवर के बगल वाली सीट के लिए भी एयरबैग लगाना होगा।
  • ई-इनवॉयस अनिवार्य: बिजनेस टू बिजनेस (बीटूबी) कारोबार में एक अप्रैल से ऐसे सभी कारोबारियों के लिए ई-इनवॉयस अनिवार्य होगी। खास तौर पर जिनका टर्नओवर 50 करोड़ रुपए से अधिक है।
  • 5 प्रतिशत टोल रेट बढ़े: देशभर की सभी टोल दरों में एक अप्रैल से 5 प्रतिशत बढ़ोतरी होगी। वहीं, मासिक पास की दरें भी बढ़ेंगी। उदाहरण: 20 किमी. का मासिक पास 275 की जगह 285 रु. में बनेगा।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *