काेख के दलाल पानीपत में सक्रीय: उत्तर प्रदेश तक फैला जाल, 2014 से अब तक विभाग ने 70 से ज्यादा रेड मारी


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पानीपत7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • रविवार काे मारी गई छापेमारी में सनाैली खुर्द थाना में 6 के खिलाफ मुकदमा दर्ज, 2 मुख्य अाराेपी अभी भी फरार

बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ अभियान व स्वास्थ्य विभाग की सख्ती के बाद पानीपत में काेख के दलाल कम हाेने का नाम नहीं ले रहे। इनका जाल उत्तर प्रदेश तक फैला हुआ है। विभाग कई बार उत्तर प्रदेश में भी रेड मार चुका हैं, इनमें भी पानीपत के ही लाेग दलाल के रूप में सक्रिय मिले हैं।

रविवार की घटना में दलाल से लेकर अल्ट्रासाउंड करने वाले पानीपत के हैं ताे वहीं नेटवर्क चलाने वाला उत्तर प्रदेश का रहने वाला है। हाल की ही घटना रविवार की है। सनाैली खुर्द गांव के एक घर की दूसरी मंजिल पर साेनीपत अाैर पानीपत की स्वास्थ्य विभाग ने सफल रेड मारी थी।

इसमें अल्ट्रासाउंड करने वाले राकेश पुत्र रामफल निवासी गांव मांडी, सतबीर(बंटी) पुत्र जगदीश निवासी गांव जलालपुर, भतेरी, सरोज, धीरज, अंकित व अन्य के खिलाफ सनाैली थाना में केस दर्ज कर लिया है। पुलिस ने साेमवार काे 4 आराेपियाें काे काेर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया है ताे वहीं 2 अभी भी फरार हैं।

इसमें सबसे मुख्य आराेपी यानी क्लीनिक का मालिक सतबीर भी फरार है। वहीं इस नेटवर्क का मुखिया धीरज भी फरार चल रहा है। पीएनडीटी इंचार्ज एवं डिप्टी सीएमओ डाॅ. सुधीर बत्तरा ने बताया कि विभागीय टीम ने 2015 से 28 नवंबर 2020 तक एमटीपी (मेडिकल टर्मिनेशन प्रेग्नेंसी) पीएनडीटी (प्री-नेटल डायग्नोस्टिक टेक्निक) एक्ट के तहत 46 सफल रेड को अंजाम दिया। वहीं 2014 से अब तक कुल 80 से ज्यादा रेड मार चुका है।

3 लड़कियां थी ताे पति भ्रूण लिंग जांच के लिए लेकर आया

स्वास्थ्य विभाग ने रविवार काे अपनी पत्नी काे लाने वाले पति अंकित पर भी केस दर्ज कराया था, क्याेंकि लिंग जांच करना और कराना दाेनाें जुर्म हैं। पुलिस काे अंकित की पत्नी ने बताया कि उसकी 3 लड़कियां है। मेरा अल्ट्रासाउंड कराने पति यहां लेकर आया है। अंकित ने भी कबुल किया कि वह अल्ट्रासाउंड कराने पत्नी को लेकर आया था। बंटी वहां टीम काे देखकर फरार हाे गया था।

विभाग ने 10 हजार रुपए बरामद किए

अल्ट्रासाउंड करने वाले राकेश की तलाशी ली ताे पुलिस काे 5 हजार रुपए मिले। वहीं दलाल भतेरी से 2 हजार और सराेज से 3 हजार रुपए बरामद किए हैं। वहीं 20 हजार लेकर मुख्य आराेपी अभी भी फरार है।

ये है पीसीपीएनडीटी एक्ट : गर्भ धारण एवं प्रसव पूर्व निदान तकनीक-विनियमन तथा दुरुपयोग अधिनियम (पीसीपीएनडीटी एक्ट) वर्ष 2015 में पूरे देश में लागू किया गया। इसका उद‌्देश्य कन्या भ्रूण हत्या रोकना था, ताकि लिंग अनुपात सुधारा जा सके।

पुलिस ने ये सबूत एकत्र किए

1. अथॉरिटी लैटर 2. स्पॉट मेमो 3. लिस्ट ऑफ डेकोय करेंसी नोट 4. सील बंद लिफाफा जिसमें ‌5,000 (राकेश से बरामद) 5. सील बंद लिफाफा जिसमें 2,000 (भतेरी से बरामद) 6. सील बंद लिफाफा जिसमें 3,000 (सरोज से बरामद) 7. सील बंद पार्सल जिसमें अल्ट्रासाउंड मशीन, प्रॉब व जटल्ली 8. गर्भवती महिला की अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट 9. निशा, अंकित, राकेश, भतेरी, सरोज के बयान 10. मकान के सीसीटीवी का डीवीआर

विभाग काे सूचनाएं दें

डिप्टी सीएमओ डाॅ. सुधीर बत्तरा ने बताया कि कन्या भ्रूण हत्या पर पूरी तरह अंकुश लगाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। सूचना मिलने पर डीसी और सिविल सर्जन के संज्ञान में मामला लाया जाता है। फिर छापामारी की जाती है। हर नागरिक की जिम्मेदारी है कि ऐसे घिनौने काम के खिलाफ आवाज उठाएं, सूचनाएं दें। उन्हाेंने बताया कि पानीपत जिला फिलहाल लिंगानुपात मेंं प्रदेश में दूसरे नंबर पर है। हमारा प्रयास पहले नंबर पर लाने का है।

पानीपत के स्वास्थ्य विभाग ने इनपुट के बाद कब-कब उत्तर प्रदेश में रेड की

केस-1 : स्वास्थ्य विभाग ने 7 जुलाई 2015 को मेरठ के ट्रांसपोर्ट नगर स्थित एक डायग्नोस्टिक सेंटर पर रेड मारी। रेडियोलॉजिस्ट के कंपाउंडर को भ्रूण लिंग जांच करते पकड़ा था। उससे 10 हजार रु भी बरामद हुए थे। केस-2 : 30 मई 2016 को टीम ने सहारनपुर स्थित क्लीनिक में छापा मारा। करनाल की एएनएम दलाल की भूमिका थी। उसने डिकॉय से 20 हजार रुपए मांगे थे। क्लीनिक के दो स्टाफ सहित तीन केस हुआ था। केस-3 : 21 जून 2016 को कैराना रोड शामली स्थित नर्सिंग होम में छापा मारा गया था। महिला डॉक्टर को रंगे हाथ भ्रूण लिंग जांच करते पकड़ा था। उससे 8 हजार रु बरामद हुए थे। नर्सिंग होम का पूर्व कर्मचारी दलाल था। केस-4 : 6 अक्टूबर 2016 को टीम ने गाजियाबाद के मुरादनगर में छापा मारा था। तहसील कैंप, पानीपत की निवासी महिला दलाल व डाॅक्टर पर मामला दर्ज हुआ था केस-5 : 3 मार्च 2017 को जिला मेरठ के कस्बे सरधना स्थित अल्ट्रासाउंड केंद्र में रेड मारी। हरि सिंह चौक पानीपत वासी महिला दलाल ने 16 हजार रुपए लिए थे। इस मामले में पांच लोगों पर मुकदमा दर्ज हुआ था। केस-6 : 11 अगस्त 2017 को मुजफ्फरनगर स्थित अल्ट्रासाउंड केंद्र पर रेड मारी थी। दलाल ने भ्रूण लिंग जांच के डिकॉय से 15 हजार रुपए लिए थे। रेडियोलॉजिस्ट और दलाल पर केस दर्ज कराया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *