किन्नरों को मिली पहचान मिली: आधार में पहले इनका जेंडर मेल या फीमेल था, अब ट्रांसजेंडर हुआ; माता-पिता के नाम की जगह सम्मान में लिखवाया गुरु का नाम


  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Earlier, Their Gender Was Male Or Female In The Base, Now Instead Of The Parents’ Name, The Name Of The Guru Was Written In Honor Of The Transgender.

भोपालएक घंटा पहलेलेखक: अनूप दुबाेलिया

  • कॉपी लिंक

शिविर में यूआईडीएआई के अफसर और अपडेशन के लिए पहुंचे किन्नर।

देशभर में भोपाल के किन्नरों की अलग ही पहचान और सम्मान है। इनके जब आधार कार्ड बने थे, तब उनमें इनके जेंडर वाले कॉलम में मेल या फीमेल लिखा हुआ था। अब आधार में भी इनकी पहचान ट्रांसजेंडर के रूप में ही होगी। इसकी वजह यह है कि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण यानी यूआईडीएआई ने इनके आधार अपडेशन का सिलसिला शुरू कर दिया है।

दिल्ली से आए प्राधिकरण के एडीजी रमनदीप सिंह और स्वतंत्रता सेनानी नारायणी देवी की मौजूदगी में सोमवार को शहर के मंगलवारा और बुधवारा में बाकायदा कैंप लगाकर इनके आधार अपडेशन का काम शुरू किया गया।

तब कॉलम में ट्रांसजेंडर का जिक्र नहीं था
यूआईडीएआई के सीनियर सेंटर मैनेजर इबरार अहमद एवं रविंद्र सिंह के मुताबिक योजना के पहले चरण में 2011 से 2015 तक इनके ज्यादातर आधार कार्ड बने थे। कुछ लोगों ने इसके बाद भी आधार एनरोलमेंट कराया। तब जेंडर वाले कॉलम में ट्रांसजेंडर का जिक्र नहीं था। इनमें से कईयों के आधार में पहले माता-पिता का नाम भी लिखा था।

इसकी जगह इन लोगों ने अब अपने आधार में अपडेशन करवाकर सम्मान पूर्वक अपने गुरु का नाम लिखवाया है। इसे केयर ऑफ करके लिखा गया है। पहले दिन दोनों कैंप में 25 आधार अपडेट किए गए। अहमद ने बताया इस जरूरी काम में सभी किन्नरों एवं उनके गुरु ने बढ़ चढ़कर हमारी मदद की।

175 से ज्यादा आधार होंगे अपडेट
अहमद के मुताबिक बुधवारा में 110 और मंगलवारा इलाके के 65 किन्नरों के आधार कार्ड बने हैं। कैंप का सिलसिला जारी रहेगा। सभी के आधार कार्ड अपडेट किए जाएंगे।

हमारे लिए गुरु का स्थान सर्वोपरि
किन्नर गुरु पूजा नायक ने कहा कि हमारी बिरादरी में गुरु का स्थान सर्वोपरि है। हम इन्हें बहुत सम्मान देते हैं। हर जरूरी काम उनके आदेश पर ही करते हैं। हम भी चाहते थे कि जेंडर के कॉलम में बदलाव हो। अब ट्रांसजेंडर लिखे जाने से हमें खुशी महसूस हो रही है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *