किसानों का चक्काजाम: शहर के हर चौराहे को गाड़ियां लगा किया बंद, 3 घंटे तक रहा जाम


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मोहाली17 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • कई वाहन चालकों ने वैकल्पिक रास्तों का इस्तेमाल किया, जाम में फंसे लोगों को नहीं मिली राहत

शनिवार को पूरे देश में किसानों के समर्थन में दोपहर 12 बजे से लेकर 3 बजे तक बंद का आह्वान किया गया था। शहर में इस बंद के आह्वान का पूरा असर देखने को मिला। इस दौरान शहर में जगह-जगह दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक चक्का जाम किया हुआ था। शहर के हर चौक-चौराहे पर किसानों के समर्थन में चक्का जाम किया गया।

किसान समर्थकों की ओर से गाड़ियां और ट्रैक्टर लगा कर शहर के हर चौक-चौराहे को जाम किया हुआ था। इस दौरान आम जनता को न तो शहर से बाहर जाने दिया गया और न ही शहर के अंदर किसी को आने दिया जा रहा था। जो लोग जहां पर थे उन्हें वहीं पर रोक दिया गया और दोपहर 3 बजे के बाद ही उन्हें जाने दिया गया।

इस दौरान सड़कों पर चलने वाले वाहन चालकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। किसान समर्थकों की ओर से शनिवार दोपहर शहर के हर चौक-चौहरे को जाम कर दिया गया। जिसके चलते वाहन चालकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। फेज-5 निवासी हरप्रीत सिंह ने बताया कि दोपहर वाे अपनी भांजी को स्कूल से लेने गया। क्योंकि बंद के चलते स्कूल ऑटो नहीं आया था।

उसने बताया कि उसे दोपहर ढाई बजे स्कूल पहुंचना था। लेकिन घर से स्कूल तक के करीब 3 किलोमीटर के रास्ते में हर चौक-चौराहे को किसान समर्थकों की ओर से जाम किया गया। जिसके चलते वो दोपहर साढ़े 3 बजे ही स्कूल पहुंच पाया। क्योंकि 3 बजे उसे जाम से आगे जाने दिया गया था।

किसानों के समर्थन में शनिवार दोपहर 12 बजे से नेशनल हाईवे 21 मोहाली-खरड़ मार्ग जाम कर दिया गया था। बलौंगी से नेशनल हाईवे पर चढ़ने वाले मार्ग पर ही किसान समर्थकों की ओर से गाड़ियां लगा कर रास्ते को ब्लॉक कर दिया गया था।

जिसके चलते शहर में एंटर होने और बाहर जाने वाले लोग वहीं पर अटक गए। न तो काेई वाहन चालक शहर के अंदर एंटर हो पाया और न ही शहर से बाहर जा पाया। जिसके चलते लोग वहीं पर 3 घंटे तक अटके रहे।

लोगों को हुई परेशानी…
किसान समर्थकों की ओर से किए गए चक्का जाम के दौरान वाहन चालकों को हर चौक-चौराहे पर रोका जा रहा था। जाम से बचकर निकलने के चक्कर में वाहन चालक अलग-अलग रूटों से निकलने का प्रयास करते रहे, लेकिन पूरे शहर में दोपहर 12 से 3 बजे तक चक्का जाम होने के चलते जगह-जगह समर्थकों की ओर से जाम लगाया गया था। जिसके चलते वाहन चालक 3 घंटे तक यहां से वहां भटकते रहे।

स्कूल बसें भी जाम में फंसी…
चक्का जाम करने का समय दोपहर 12 से 3 बजे तक होने के चलते स्कूली बच्चों को अपने घर पहुंचे में परेशानी हुई। ज्यादातर स्कूलों में दोपहर 1 से 3 बजे तक ही छुट्टी होती है। लेकिन इस दौरान जाम होने के चलते ना तो स्कूल बसें निकल पाई ना ही स्कूल के ऑटो वहां से निकल पाए। लेकिन ज्यादातर बच्चों को स्कूलों से ही दोपहर 3 बजे के बाद ही निकाला गया था। जिसके चलते बच्चें दोपहर बाद ही अपने-अपने घर पहुंच पाए।

एंबुलेंस को निकलने दिया…

शनिवार को जहां पर भी चक्का जाम किया गया वहां पर जो भी एंबुलेंस आई तो किसान समर्थकों की ओर से साथ के साथ अपने वाहन रास्ते से हटा कर एंबुलेंस को वहां से निकाला गया, ताकि मरीज को किसी प्रकार से अस्पताल पहुंचने में कोई परेशानी न आए। प्राइवेट वाहनों में भी जो वाहन चालक मरीजों को लेकर अस्पताल ले जा रहे थे, उन्हें भी किसान समर्थकों की ओर से अपने वाहन हटा कर आगे भेजा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *