केंद्र का फैसला: टीईटी प्रमाण-पत्र अब सात साल के बजाय उम्रभर के लिए मान्य, फैसले से राजस्थान पर असर नहीं, रीट की पात्रता 3 साल ही रहेगी


  • Hindi News
  • National
  • TET Certificate Is Now Valid For Life Instead Of Seven Years, Rajasthan Is Not Affected By The Decision, REET Eligibility Will Remain For 3 Years

नई दिल्ली9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) पास करने पर प्रमाण-पत्र अब जीवनभर मान्य रहेगा।

केंद्र ने शिक्षण बनने के इच्छुक युवाओं को बड़ी राहत दी है। एक बार शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) पास करने पर प्रमाण-पत्र अब जीवनभर मान्य रहेगा। अभी यह सीमा 7 वर्ष थी। इस अवधि में नौकरी न मिलने पर दोबारा टीईटी पास करनी पड़ती थी। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल “निशंक’ ने गुरुवार को बताया कि यह फैसला 2011 से लागू होगा। केंद्र ने राज्यों-केंद्रशासित प्रदेशों को उन उम्मीदवारों को नए प्रमाण-पत्र जारी करने को कहा है, जिनकी सात साल की अवधि पूरी हो चुकी है। एनसीटीई ने पिछले साल अक्टूबर में सीटीईटी की वैधता बढ़ाकर आजीवन करने की अनुशंसा की थी।

राज्य सरकार पात्रता अवधि जीवनभर करने से पहले ही इनकार कर चुकी है

2011 में देशभर में टीईटी (टेट) की शुरुआत हुई। प्रदेश में ये आरटेट के नाम से 2011 व 2012 में हुई। तब वैधता अवधि 7 साल थी। फिर राज्य सरकार ने 2015 में इसका नाम रीट कर दिया। 2015 और 2018 में रीट हुई। वैधता अवधि 3 साल कर दी गई। अब रीट 2021 होनी है। इसमें भी 3 साल ही पात्रता है। अभ्यर्थी रीट व आरटेट की वैधता आजीवन करने की मांंग कर रहे हैं। मगर राज्य सरकार पहले ही मना कर चुकी है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *