कोरोना का खतरनाक रूप: दुर्ग में 10 दिन में दंपती समेत दो बेटों की मौत, घर में बची बहू और दो बच्चे भी संक्रमित; एक बेटे को लग चुकी थी वैक्सीन


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भिलाई5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

भिलाई के सेक्टर-4 में रहने वाले रावत परिवार में माता-पिता और दो बेटों की मौत हो गई।

  • भिलाई के सेक्टर-4 में रहता है परिवार, रिश्तेदारों ने सरकार से की आर्थिक मदद की मांग

दुर्ग जिले में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। इसके साथ ही इसके घातक परिणाम भी सामने आने लगे हैं। भिलाई में 10 दिनों के भीतर एक परिवार के 4 सदस्यों की मौत हो गई। जबकि, बाकी सदस्य भी संक्रमण से लड़ रहे हैं। हैरान करने बात है कि कोरोना से दम तोड़ने वालों में से एक को वैक्सीन भी लग चुकी थी।

भिलाई के सेक्टर-4 में रहने वाले हरेंद्र सिंह रावत (78) पहले संक्रमित हुए। कोरोना से उनकी मौत 16 मार्च को हुई। इसके बाद उनके बड़े बेटे मनोज सिंह रावत (51) संक्रमण की चपेट में आए। उन्हें रायपुर एम्स में भर्ती कराया गया, लेकिन उपचार के दौरान 21 मार्च को दम तोड़ दिया। इसके बाद उनकी पत्नी कौशल्या रावत (70) की संक्रमण से 25 मार्च की सुबह और फिर छोटे बेटे मनीष (44 ) की शाम को मौत हो गई। अब परिवार में एक महिला और दो बच्चे बचे हैं। वे भी संक्रमित हैं।

परिजनों ने सरकार से आर्थिक मद्द की लगाई गुहार
इस बात की पुष्टि रावत परिवार के रिश्तेदार प्रहलाद सिंह बिष्ट ने की हैं। उन्होंने बताया कि कि मनोज सिंह रावत को 4 मार्च को वैक्सीन का पहला डोज भी लग चुका था। रावत परिवार के सदस्यों की अचानक मौत से सभी सदमें में है। राज्य सरकार से आर्थिक सहायता की गुहार लगा रहे हैं। फिलहाल उनकी बहू और पोता भी संक्रमित हो चुके हैं।

दुर्ग जिले में कोरोना हो रहा बेकाबू
प्रदेश में सबसे ज्यादा दुर्ग जिले लोग संक्रमित हो रहे हैं। पिछले एक सप्ताह में 3921 लोग संक्रमित हुए और 35 लोगों की जान गई। ट्विनसिटी ने नए बढ़ते केसों को लेकर कई रिकॉर्ड ब्रेक कर दिए हैं। बड़े शहर भी पीछे छूट गए हैं। हैरान करने वाले आंकड़े हैं।

तारीख एक्टिव केस मौत
19 मार्च 320 2
20 मार्च 391 4
21 मार्च 345 2
22 मार्च 468 8
23 मार्च 691 6
24 मार्च 793 9
25 मार्च 913 4

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *