खिलाड़ियों को बड़ी सौगात: कोटा के श्रीनाथपुरम स्टेडियम में बनेगा 400 मीटर का सिंथेटिक ट्रैक, केंद्रीय खेल मंत्रालय ने 7 करोड़ स्वीकृति किए


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota,rajasthan,400 meter Synthetic Track To Be Built At Srinathpuram Stadium In Kota, Union Sports Ministry Approved Rs 7 Crore

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोटा3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

प्रतीकात्मक फोटो-कोटा के श्रीनाथपुरम स्टेडियम में बनेगा 400 मीटर का सिंथेटिक ट्रेक, केंद्रीय खेल मंत्रालय ने 7 करोड़ रूपए की स्वीकृति दी

  • अब तक चार जिलों जयपुर, जोधपुर, चुरू और गंगानगर में ही हैं सिंथेटिक ट्रैक
  • लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के प्रयासों के बाद खेल मंत्रालय ने दी स्वीकृति

कोटा के श्रीनाथपुरम स्टेडियम में 400 मीटर का सिंथेटिक ट्रैक बनेगा। यह पूरे कोटा सम्भाग के खिलाड़ियों के लिए एक अच्छी खबर है। दरअसल, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के प्रयासों से केंद्रीय खेल मंत्रालय ने खेलो इंडिया योजना के सिंथेटिक ट्रैक के निर्माण को स्वीकृति दे दी है। स्टेडियम के निर्माण से प्रतिभावान खिलाड़ियों को राष्ट्रीय और अन्तरराष्ट्रीय स्तर की स्पर्धाओं के फाॅर्मेट के अनुरूप स्वयं को तैयार करने की सुविधा मिलेगी।

कोटा समेत हाड़ौती भर के खिलाड़ी लंबे अर्से से सिंथेटिक ट्रेक के निर्माण की मांग कर रहे थे। खिलाड़ियों की भावना को देखते हुए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने प्रयास किए, जिसके बाद केंद्रीय खेल मंत्रालय ने सोमवार को श्रीनाथपुरम में 400 मीटर के सिंथेटिक ट्रैक के निर्माण के लिए 7 करोड़ रुपए की स्वीकृति जारी कर दी।

तीन महीने में पूरी करनी होगी टेंडर प्रक्रिया

खेल मंत्रालय ने सोमवार को राजस्थान खेल परिषद को 400 मीटर सिंथेटिक ट्रैक निर्माण की स्वीकृति का पत्र भेजा है। पत्र में खेल परिषद को तीन महीने में टेंडर प्रक्रिया पूरी कर सूचना भेजने को कहा गया है। खेल परिषद से टेंडर स्वीकृति की सूचना मिलते ही खेल मंत्रालय की ओर से स्वीकृत राशि की पहली किश्त जारी कर दी जाएगी।

अब राजस्थान में होंगे पांच सिंथेटिक ट्रैक

वर्तमान में सभी राष्ट्रीय और अन्तरराष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिताओं में सिंथेटिक ट्रैक ही उपयोग में लिया जाता है। राजस्थान में अब तक चार जिलों जयपुर, जोधपुर, चुरू और गंगानगर में ही सिंथेटिक ट्रैक हैं। कोटा में यह सुविधा उपलब्ध नहीं होने के कारण हाड़ौती सम्भाग के खिलाड़ी प्रतियोगिताओं के लिए स्वयं को तैयार नहीं कर पाते थे। ट्रेक के अभाव में कोटा को किसी राष्ट्रीय और अन्तरराष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रतियोगिता के आयोजन की मेजबानी भी नहीं मिल पाती थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *