गृह मंत्रालय ने किया अलर्ट: वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट सोशल मीडिया पर शेयर न करें, लीक हो सकता है डेटा


जालंधर8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

गृह मंत्रालय ने इसके लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट (साइबर दोस्त) पर एक पोस्टर भी जारी किया गया।

अगर आपने भी वैक्सीन लगवाने के बाद सरकार द्वारा जारी किया गया वैक्सीन सर्टिफिकेट सोशल मीडिया पर शेयर किया है, तो सावधान हो जाएं, क्योंकि यह आपका निजी डेटा लीक कर सकता है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अलर्ट जारी किया है।

इसमें बताया गया कि वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट में नाम, उम्र, लिंग और अगले डोज की तारीख समेत कई अहम जानकारियां होती हैं, जो अपराधियों के लिए मददगार साबित हो सकती हैं। गृह मंत्रालय ने इसके लिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट (साइबर दोस्त) पर एक पोस्टर भी जारी किया गया।

एक्सपर्ट बताते हैं कि सर्टिफिकेट पर बने क्यू-आर कोड को स्कैन करते ही बाकी की डिटेल भी मिल जाती है। आरोपी फोन कर बात करता हैं और खुद को सरकारी मुलाजिम बताकर दूसरी डोज लगवाने की बात कहकर व्यक्ति की पहले से बताई निजी जानकारियां उसे बताते हैं।

इससे यकीन बनाकर उनसे ओटीपी और अन्य निजी जानकारी प्राप्त कर लेते हैं। वहीं, इस मामले में जालंधर के साइबर क्राइम एसपी रवि कुमार ने बताया कि वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट में कई लोगों ने प्रूफ के तौर पर अपना पैन कार्ड जैसा संवेदनशील दस्तावेज दिया होता है। इससे साइबर ठगों के पास फाइनेंशियल डेटा चला जाता है, जिससे वह वित्तीय नुकसान पहुंचाते हैं।

ध्यान रखें: किसी को भी न देंं ओटीपी या निजी जानकारी

1. दूसरी डोज लगने पर ही अपना सर्टिफिकेट डाउनलोड करें। 2. सोशल मीडिया पर सर्टिफिकेट शेयर न करें। 3. वैक्सीनेशन को लेकर कोई भी कॉल आने पर निजी डेटा या ओटीपी शेयर न करें। 4. वैक्सीनेशन को लेकर कोई भी फेक मैसेज या लिंक आगे न भेजें। 5. कोई भी व्यक्ति ऐसा करे तो उसे तुरंत इस बारे में जागरूक करें।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *