गैंगस्टर पर भिड़ीं दो सरकारें: सुप्रीम कोर्ट में यूपी की जेल में ट्रांसफर करने पर सुनवाई, यूपी सरकार का पंजाब सरकार पर आरोप: मुख्तार पंजाब की जेल में मौज कर रहा है


  • Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Hearing On Transfer In UP Jail In Supreme Court, UP Government Accuses Punjab Government: Mukhtar Is Enjoying In Punjab Jail

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

गैंगस्टर मुख्तार अंसारी

  • पंजाब सरकार का दावा: मुख्तार मानसिक रूप से बीमार, कैसे शिफ्ट कर दें

उत्तर प्रदेश के गैंगस्टर मुख्तार अंसारी को पंजाब की रोपड़ जेल से यूपी की गाजीपुर जेल में शिफ्ट करने की अनुमति देने से पंजाब सरकार ने इनकार कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस अशोक भूषण, आर सुभाष रेड्‌डी और एमआर शाह की बेंच काे पंजाब सरकार की ओर से बताया गया कि अंसारी मानसिक रूप से बीमार है।

सेहत संबंधी कारणाें से उसे पंजाब से यूपी की जेल में शिफ्ट नहीं किया जाना चाहिए। इस जवाब पर यूपी सरकार ने पलटवार करते हुए पंजाब सरकार पर आरोप लगाया कि अंसारी पंजाब की जेल में मौज कर रहा है और पंजाब सरकार एक गैंगस्टर की मदद कर रही है। एक आपराधिक मामले में अंसारी पिछले दो साल से पंजाब की जेल में बंद है। उसे गाजीपुर जेल में शिफ्ट करने की अनुमति यूपी सरकार ने मांगी थी।

पंजाब सरकार की ओर से वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी और दुष्यंत दवे ने एक हलफनामा दायर करते हुए कहा कि अगर यूपी पुलिस को किसी ट्रायल के लिए मुख्तार अंसारी को कोर्ट के समक्ष पेश करना है तो वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये उसे पेश किया जा सकता है। कोर्ट ने यूपी सरकार को पंजाब सरकार के हलफनामे पर अपना जवाब दायर करने को कहा है। मामले की अगली सुनवाई 24 फरवरी को होगी।

केंद्र ने कहा-पंजाब सरकार क्याें बचा रही अंसारी काे
सॉलीसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि आखिरकार पंजाब सरकार एक गैंगस्टर को इतना सपोर्ट क्यों कर रही है? पंजाब सरकार कहती है कि मुख्तार अंसारी मानसिक रूप से बीमार चल रहा है। जबकि हकीकत यह है कि वह पंजाब की जेल में मौज कर रहा है। वह जेल में पांच सितारा होटल सरीखी सुविधाएं ले रहा है।

यूपी में उसपर बहुत से गंभीर मामले दर्ज हैं, जिनमें ट्रायल के लिए अंसारी की जरूरत है। एक मामूली केस में अंसारी पंजाब की जेल में दो साल से बंद है और उसने जानबूझ कर अपनी जमानत के लिए कोर्ट में अर्जी तक दायर नहीं की, क्योंकि वह जेल में सुख भोग रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *