जफरयाब जिलानी को ब्रेन स्ट्रोक: मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव हैं जिलानी, बाबरी मस्जिद की पैरवी से चर्चा में आए थे; लखनऊ मेदांता अस्पताल में भर्ती


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Secretary Of The Muslim Personal Law Board Zafaryab Jilani Brain Stroke, Came Under Discussion After Advocating For Babri Masjid; Admitted To Lucknow Medanta Hospital

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लखनऊ18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कुछ दिनों पहले ही बाथरूम में फिसल जाने के कारण जिलानी के सिर में चोट आई थी। (फाइल फोटो)

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में मुस्लिम पक्ष की पैरवी करने वाले जफरयाब जिलानी को गुरुवार को ब्रेन स्ट्रोक हुआ। आनन- फानन में उनको लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया। सीनियर डॉक्टर्स की निगरानी में उनका इलाज चल रहा है। जिलानी देश के जाने-माने एडवोकेट होने के साथ ही ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव भी हैं।

पैर फिसलने से सिर में चोट आई थी
जिलानी के करीबियों ने बताया कि कुछ दिन पहले पैर फिसलने की वजह से उनके सिर में चोट आई थी। इसके बाद गुरुवार शाम अचानक उनको ब्रेन हैमरेज हो गया। डॉक्टर्स ने बताया कि अभी उनकी हालत स्थिर बनी हुई है।

बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के संयोजक भी
जिलानी राजनीति में न होते हुए भी पिछले तीन दशक से देश की सुर्खियों में बने रहे। अयोध्या विवाद में जफरयाब जिलानी को लगातार मुस्लिम पक्ष की बात मजबूती से रखने के लिए जाना जाता है। सुप्रीम कोर्ट के जजमेंट के बाद जफरयाब जिलानी को बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी का संयोजक भी बनाया गया।

शिक्षा जगत से अच्छा रहा संबंध
इसके अलावा वह लखनऊ के कई शैक्षणिक संस्थानों से भी जुड़े हैं। इसमें मुमताज डिग्री कॉलेज के ट्रस्ट में भी इनका बड़ा योगदान बताया जाता है। यही वजह से है कि लखनऊ में सुन्नी पक्ष की सभी बड़ी बैठक अक्सर मुमताज कॉलेज में होती है। अमीनाबाद स्थित मुमताज मार्केट भी इन्हीं का बताया जाता है।

जिलानी और समाजवादी पार्टी के सांसद और वरिष्ठ नेता आजम खान रिश्तेदार हैं। हालांकि, जानकारों का कहना है कि मौजूदा समय में दोनों लोगों के संबंध अच्छे नहीं हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *