तीन दिन चली IT की छापेमारी: धनबाद में अतिवीर ग्रुप के पास मिली 100 कराेड़ की अघाेषित आय; तीन कराेड़ नकद जब्त, 12 लाॅकर्स भी सीज


  • Hindi News
  • National
  • Unaccounted Income Of Rs. 100 Crores Received By Atirvir Group; Three Crore Rupees Cash Seized, 12 Lockers Also Seized

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

धनबाद37 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

छापेमारी के दाैरान अलग-अलग ठिकानाें से करीब तीन कराेड़ रुपए नकद, कई बैंक खाते और 12 बैंक लाॅकर्स भी मिले हैं। इन बैंक खाताें और लाॅकर्स काे फ्रीज करा दिया गया है।

  • तीन राज्यों के 250 अधिकारी-कर्मचारियों की बनी थी 21 टीमें
  • आयकर विभाग ब्लैकमनी मानकर जांच आगे बढ़ा रहा है
  • अतिवीर समूह के श्रीवीर की तीन फैक्ट्रियाें में कई गड़बड़ियां मिलीं

गिरिडीह के अतिवीर ग्रुप के गिरिडीह, धनबाद व बाेकाराे के 18 ठिकानाें पर चल रही आयकर विभाग की छापेमारी शुक्रवार रात खत्म हुई। प्रारंभिक छानबीन में इस ग्रुप के पास करीब 100 कराेड़ की अघाेषित आय का पता चला है, जिसे आयकर रिटर्न में नहीं दिखाया गया है। आयकर विभाग इसे ब्लैकमनी मानकर जांच आगे बढ़ा रहा है।

छापेमारी के दाैरान अलग-अलग ठिकानाें से करीब तीन कराेड़ रुपए नकद, कई बैंक खाते और 12 बैंक लाॅकर्स भी मिले हैं। इन बैंक खाताें और लाॅकर्स काे फ्रीज करा दिया गया है। लाॅकर्स में ज्वेलरी और अन्य कीमती सामान हाेने के कयास लगाए जा रहे हैं। अब आयकर विभाग इन लाॅकर्स काे खुलवाएगा। अतिवीर समूह के श्रीवीर की तीन फैक्ट्रियाें में भी कई गड़बड़ियां मिलीं। रांची के अपर आयुक्त (अन्वेषण) मनीष झा के नेतृत्व और धनबाद के डिप्टी डायरेक्टर आशीष कुमार की देखरेख में तीन दिन के छापेमारी अभियान में विभाग काे कराेड़ाें रुपए टैक्स मिलने की उम्मीद है।

अतिवीर ग्रुप पर छापे के लिए कई महीने से आयकर विभाग तैयारी कर रहा था। इसके बाद कोलकाता, पटना, रांची, भागलपुर, जमशेदपुर और धनबाद आयकर प्रक्षेत्र के अन्वेषण विंग की 21 टीमें बनीं, जिसमें 250 अधिकारी-कर्मचारी थे। टीमें तीन दिनों से आवंटित परिसरों की तलाशी ले रही थी।

यहां हुई आयकर की छापेमारी

  • गिरिडीह में अतिवीर कार्यालय
  • गिरिडीह के मंझलाडीह स्थित अतिवीर स्टील फैक्ट्री
  • महताेडीह स्थित चाइना स्टील फैक्ट्री
  • गिरिडीह जेल के पास श्रीवीर फैक्ट्री
  • गिरिडीह में अतिवीर ग्रुप के मालिक संताेष सरावगी के घर
  • गिरिडीह में साईं ट्रांसपोर्ट और साईं रोडवेज
  • झरिया में कारोबारी संजय केजरीवाल के घर
  • धनबाद के सिटी सेंटर में प्रमोद गोयल के गोयल प्रतिष्ठान
  • बोकारो के जैना मोड़ में लौह अयस्क कारोबारी एसपी सिंह के आवास व कार्यालय।

(इसके अलावा पटना व कोलकाता के भी कुछ ठिकाने हैं।)

बड़बिल में आयरन ओर की खदानों में किया था निवेश

शेल कंपनियों के जरिए खदानों में निवेश
छानबीन में खुलासा हुआ है कि श्रीवीर कंपनी समूह के निदेशक संदीप सरावगी ने शेल कंपनियों के माध्यम से ओडिशा के बड़बिल में आयरन ओर खदानों में पूंजी निवेश किया था। छापेमारी में कई शेल कंपनियों के कागजात भी जब्त किए गए हैं।

कारोबारी के ठिकानों से मिले कागजात
श्रीवीर समूह एंड कंपनी का धनबाद, कोलकाता व बोकारो के जैनामोड़ में जिन कारोबारियों से संपर्क था, उनके ठिकानों से कई अहम दस्तावेज मिले हैं। कागजात के अनुसार एसपी सिंह लौह अयस्क का कारोबार करते हैं। वह ट्रांसपोर्टर भी हैं।

शेयर बेचे, फिर ऊंची कीमत में खरीदे
नोटबंदी के दौरान अतिवीर ग्रुप की आर्थिक स्थिति में जबरदस्त उछाल ने विभाग को चौंकाया था। पता चला कि ग्रुप ने अपने शेयर पहले औने-पौने भाव में अपने परिजनों और कारोबारी साझीदारों को बेचा। फिर उन्हीं शेयर को ऊंची कीमत में खरीदा।

अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई
यह झारखंड की अब तक की यह सबसे बड़ी आयकर विभाग की कार्रवाई मानी जा रही है। पहली बार इतनी बड़ी संख्या में टीमों ने एक ही समूह के ठिकानों पर छापेमारी की। छापे में 70 से अधिक गाड़ियों का इस्तेमाल किया गया।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *