तैयारी: कॉलेज, दस्तावेजों के साथ अटल यूनिवर्सिटी के 110 करोड़ रुपए का भी होगा बंटवारा


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बिलासपुर10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • एयू व शहीद नंदकुमार पटेल यूनिवर्सिटी के बंटवारे की तारीख टली, अगली तारीख घोषित नहीं, प्रदेश में पहली बार यूनिवर्सिटी के बंटवारे में पैसा भी बांटा जा रहा

अटल बिहारी वाजपेयी यूनिवर्सिटी बिलासपुर और शहीद नंदकुमार पटेल यूनिवर्सिटी रायगढ़ के बंटवारे की प्रक्रिया चल रही है। कॉलेजों के दस्तावेज बंटवारे के साथ-साथ एयू की संपत्तियों के बंटवारे की भी चर्चा चल रही है। अटल यूनिवर्सिटी के पास अभी 110 करोड़ रुपए हैं। बंटवारा कराने उच्च शिक्षा विभाग ने कमेटी बना दी है। कमेटी की बैठक होनी थी, पर उसे स्थगित कर दिया गया है। अभी अगली बैठक की तारीख घोषित नहीं हुई है।

वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि अभी तक जितनी भी यूनिवर्सिटी का बंटवारा हुआ है, वहां से नई यूनिवर्सिटी को पैसा नहीं मिला है। यह पहली बार होगा कि पैसे भी बांटे जाएंगे। अब ऐसे में बंटवारे के बाद एयू में छात्रों संख्या और कॉलेज की संख्या कम हो जाएगी। पैसों की आवक भी कम हो जाएगी, लेकिन खर्च उतना ही रहेगा। जबकि यूनिवर्सिटी में एक साल में छात्रों के परीक्षा फार्म सहित अन्य मद से लगभग 29 करोड़ रुपए आता है। एयू की नई बिल्डिंग बन रही है। यूटीडी की शिफ्टिंग होनी है। ऐसे में एयू को पैसे की जरूरत है।

अगर ऐसा हुआ तो आगे चलकर यूटीडी के शिक्षकों के वेतन जारी होने में भी एयू को परेशानी आएगी। उच्च शिक्षा विभाग की निगरानी में 8 सदस्यीय उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया है। उच्च शिक्षा विभाग के सचिव धनंजय देवांगन कमेटी के अध्यक्ष हैं। संयुक्त संचालक चंदन संजय त्रिपाठी, उच्च शिक्षा विभाग के पदेन वित्त अधिकारी, पं. रविशंकर यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. केके वर्मा, अटल बिहारी यूनिवर्सिटी के प्रभारी कुलपति डॉ. संजय अलंग, कुलसचिव डॉ. सुधीर शर्मा, शहीद नंदकुमार पटेल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. ललित प्रकाश पटैरिया, कुलसचिव केके चंद्राकर शामिल हैं।

फिलहाल एयू से संबद्ध 198 कालेज हैं। इनमें चांपा, जांजगीर, कोरबा और रायगढ़ के कुल 107 कालेज शहीद नंद कुमार पटेल यूनिवर्सिटी में शामिल होंगे। बिलसपुर, मुंगेली, पेंड्रा समेत आसपास के सभी शेष 91 कालेज एयू के पास ही रहेंगे। ऐसे में एयू के 91 कॉलेज में 85 हजार और एसएनपीयू से संबद्ध कॉलेजों में इस सत्र में लगभग 1 लाख 5 हजार छात्र एडमिशन ले रहे हैं।

विशेषज्ञों ने कहा- जितनी यूनिवर्सिटी खुली, कहीं नहीं बंटा है पैसा
दुर्ग यूनिवर्सिटी पूर्व कुलसचिव डॉ. एसके त्रिपाठी ने बताया कि जब रविशंकर यूनिवर्सिटी से दुर्ग यूनिवर्सिटी बंटवारा हुआ था तो कॉलेजों के दस्तावेज के अलावा एक बोलेरो गाड़ी मिली थी। इसके अलावा पैसा नहीं मिला था। जो कर्मचारी मिले थे, उन्हें भी यूनिवर्सिटी के लिए जो सेटअप मिला था, उसी में शामिल किया गया। वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि बस्तर, सरगुजा, गुरु घासीदास यूनिवर्सिटी बंटी थी तो भी पैसे का बंटवारा नहीं हुआ था।

अधिनियम के तहत कार्य चल रहा है: प्रो. पटैरिया : शहीद नंदकुमार पटेल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. ललित प्रकाश पटैरिया ने कहा कि सभी प्रक्रियाएं शासन के निर्देश और अधिनियम के अनुसार की जा रही हैं।

इस सत्र में परीक्षा एयू लेगी, मार्कशीट रायगढ़ यूनिवर्सिटी देगी : एयू व एसएनपीयू के बीच एमओयू हुआ है कि प्रथम वर्ष के छात्रों की परीक्षा एयू लेगी। मार्कशीट रायगढ़ यूनिवर्सिटी देगी। एयू ने खर्च के लिए एसएनपीयू को 50 लाख रुपए दिए हैं। इसका समायोजन किया जाएगा। अभी तक यूजीसी से एसएनपीयू को 2एफ की मान्यता नहीं मिली है। लोगो की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है। वेबसाइट भी अभी तक
नहीं बनी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *