दरिंदगी की रेयरेस्ट ऑफ रेयर घटनाएं: दिल्ली NCR में 6 साल में इन 5 केस में 15 दोषियों को सुनाई गई फांसी की सजा, 1 साल पहले सिर्फ निर्भया के दोषी ही लटकाए गए


  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Nikita Tomar Murder Case Court Verdict; Read Top Five Landmark Judgements By Haryana Court

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चंडीगढ़कुछ ही क्षण पहले

  • कॉपी लिंक
  • निकिता तोमर हत्याकांंड के दोषियोंं काे आज सुनाई जाएगी सजा

हरियाणा के बहुचर्चित निकिता तोमर हत्याकांड में शुक्रवार को दोषियों की सजा पर फैसला आना है। फास्ट ट्रैक कोर्ट में चले इस मामले में पीड़ित परिवार फांसी की सजा की मांग कर रहा है। संभावित है कि कोर्ट से कुछ इसी तरह का फैसला आए। दैनिक भास्कर ऐसे ही 5 बड़े मामलों से आपको रू-ब-रू करा रहा है, जिनमें दिल्ली NCR की अलग-अलग जगह की कोर्ट 15 दोषियों को फांसी की सजा सुना चुकी हैं, लेकिन इनमें से सिर्फ निर्भया के 4 दोषियों काे ही दिल्ली में पिछले साल फांसी पर लटकाया गया। बाकी केस के दोषियों के गले में अभी फंंदा नहीं कसा है।

निकिता तोमर हत्याकांड: शाेहदे ने अपहरण की कोशिश में ले ली जान

26 अक्टूबर 2020 को हरियाणा के बल्लभगढ़ में उत्तर प्रदेश के हापुड़ के एक परिवार की बेटी और B.Com फाइनल ईयर की छात्रा निकिता तोमर की हत्या कर दी गई थी। हत्या का मुख्य दोषी मेवात के रोज का मेव निवासी तौसीफ पर इसके अलावा 2018 में निकिता के अपहरण का भी केस सरकार के आदेश पर खुला है। 11 दिन में ही 700 पेज की चार्जशीट तैयार करके छह नवंबर को कोर्ट में दाखिल कर दी गई। एक दिसंबर 2020 के बाद अब तक 3 महीने 22 दिन लगातार चली केस की सुनवाई में पीड़ित पक्ष की ओर से 55 लोगों ने गवाही दी, जिसमें परिवार के सदस्यों, कॉलेज के प्रिंसिपल समेत कई पुलिसकर्मी भी शामिल हुए।

निर्भया मर्डर केस : 7 साल 3 महीने और 4 दिन बाद इस तरह हुआ था इंसाफ

16 दिसंबर 2012…ये वो तारीख है, जिस दिन दिल्ली की सड़कों पर रात के अंधेरे में चलती बस में निर्भया के साथ 6 दरिंदों ने हैवानियत की सारी हदें पार कर दी थीं। इन 6 में से एक ने जेल में आत्महत्या कर ली। उसका नाम राम सिंह था, जो बस ड्राइवर और मुख्य आरोपी था। एक नाबालिग था, जो 3 साल की सजा काटकर 20 दिसंबर 2015 को रिहा हो चुका है और कहीं चैन से अपनी जिंदगी जी रहा है। बचे चार। इनके नाम थे-मुकेश सिंह, पवन गुप्ता, विनय शर्मा और अक्षय ठाकुर। इन दोषियों को उनके गुनाह की सजा 7 साल 3 महीने और 4 दिन बाद मिली। चारों दोषियों को तिहाड़ की जेल नंबर-3 में 20 मार्च 2020 की सुबह साढ़े 5 बजे फांसी पर लटकाया गया।

दोषी पवन, मनबीर, पदम उर्फ प्रमोद, संतोष नेपाली, सरवर उर्फ बिल्लू, सुनील उर्फ शीलू, सुनील उर्फ मड्ढा, राजेश उर्फ घूचडू।

दोषी पवन, मनबीर, पदम उर्फ प्रमोद, संतोष नेपाली, सरवर उर्फ बिल्लू, सुनील उर्फ शीलू, सुनील उर्फ मड्ढा, राजेश उर्फ घूचडू।

रोहतक गैंगरेप केस : 9 में से एक ने कर ली थी आत्महत्या, 7 की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट ने लगा रखी है रोक

रोहतक गैंगरेप का यह वीभत्‍स मामला 1 फरवरी 2015 का है। नेपाल की एक लड़की के साथ 9 लोगों ने गैंगरेप किया था और बाद में उसकी हत्‍या कर दी थी। इस हैवानियत को रेयरेस्ट ऑफ रेयर करार देते हुए रोहतक की जिला अदालत ने महज 10 महीने में सुनवाई पूरी करते हुए 21 दिसंबर 2015 को 7 दोषियों को फांसी की सज़ा सुनाई थी। कोर्ट ने कहा था कि आरोपियों के लिए हमारे पास रहम नहीं है। अगर मौत से भी बड़ी कोई सजा होती तो वह भी दे देते। इस मामले में एक दोषी नाबालिग है, जिसे 2018 में तीन साल की सजा सुनाते हुए बाल सुधार गृह भेजा गया था, वहीं सोमवीर नामक एक दोषी ने केस की सुनवाई के दौरान खुदकुशी कर ली थी। जुलाई 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने इन सातों की फांसी की सजा पर रोक लगा दी।

गुरुग्राम में जज की पत्नी और बेटे की हत्या का दोषी गनमैन महिपाल।

गुरुग्राम में जज की पत्नी और बेटे की हत्या का दोषी गनमैन महिपाल।

गुरुग्राम में जज की पत्नी और बेटे को गनमैन ने मारी थी गोली, हो चुका फांसी की सजा का ऐलान

गुरुग्राम में यहां के एडिशनल सेशन जज कृष्णकांत शर्मा के सुरक्षा गार्ड महिपाल ने 13 अक्टूबर 2018 को शर्मा की पत्नी और बेटे की हत्या कर दी थी। जहां तक वजह की बात है, तो गार्ड कुछ दिनों से घर जाने के लिए छुट्टी मांग रहा था, जो उसे नहीं दी जा रही थी। इससे शायद वह अवसाद में चला गया। जांच अधिकारियों में से एक ने बताया, ‘जज भी अक्सर उसे डांटते थे। जज की पत्नी ने बाजार जाते वक्त कार में उसे डांटा’। इस मामले में 7 फरवरी 2020 को महेंद्रगढ़ निवासी महिपाल को पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई थी। हालांकि अभी फांसी हुई नहीं है।

पलवल में 5 साल की बच्ची से दुष्कर्म के बाद हत्या करने वाला दरिंदा इस घर में रहता था। पुलिस मौके पर छानबीन करती हुई। -फाइल फोटो

पलवल में 5 साल की बच्ची से दुष्कर्म के बाद हत्या करने वाला दरिंदा इस घर में रहता था। पुलिस मौके पर छानबीन करती हुई। -फाइल फोटो

पलवल में 5 साल की बच्ची से दुष्कर्म के बाद हत्या की और बॉडी आटे के डिब्बे में छिपा दी थी

पलवल के गदपुरी थाना क्षेत्र के एक गांव में 31 मई 2018 को शादीशुदा वीरेंद्र उर्फ भोला (27) ने पांच साल की बच्ची को अगवा करके उसके साथ दुष्कर्म किया था। इसके बाद चाकू से गोदकर उसकी हत्या कर दी थी। शव को घर में रखे आटे के डिब्बे में छिपा दिया था। खोजबीन के बाद बच्ची का शव दोषी के घर से मिला था। पलवल की जस्टिस करुणा शर्मा की स्पेशल कोर्ट ने 24 जनवरी 2020 को वीरेंद्र उर्फ भोला और उसकी मां कमला को दोषी करार दिया। 27 जनवरी को वीरेंद्र उर्फ भोला को फांसी और उसकी मां को सात साल की सजा सुनाई थी।

महिला अंजू और उसकी हत्या करके टुकड़े कर देने वाला दोषी पति संजीव कौशिक।

महिला अंजू और उसकी हत्या करके टुकड़े कर देने वाला दोषी पति संजीव कौशिक।

दिल्ली जल बोर्ड के कर्मचारी ने साढ़ू के साथ संबंध रखने के शक में पत्नी की कर दी निर्मम हत्या

फरीदाबाद के सूरजकुंड थाना क्षेत्र की ग्रीनफील्ड कॉलोनी में हत्या के मामले में हाल ही में 17 मार्च को हत्यारे पति को फांसी की सजा सुनाई गई है। वह दिल्ली जल बोर्ड का कर्मचारी था। लीगल सेल के एडवोकेट रविंद्र गुप्ता के मुताबिक छह भाई-बहन में से एक गुरुग्राम के सेक्टर 23A निवासी बृज शर्मा ने तीसरे नंबर की बहन अंजू की शादी दिल्ली जल बोर्ड में कार्यरत वहां के हरिनगर निवासी संजीव कौशिक के साथ की थी। 2 मार्च 2018 को बेटे मनन और पत्नी अंजू के साथ वह यहां ग्रीन फील्ड कॉलोनी में रहने लग गया।

ठीक 15 दिन बाद 17 मार्च 2018 को बेटा मनन अपने ताऊ के घर चला गया था। तभी संजीव ने अंजू से झगड़ा करके मार पिटाई की। फिर कैंची से पत्नी का गला रेतकर उसे मार डाला और उसके सिर के कई टुकड़े करके उसे बैग में भरकर दिल्ली लाजपत नगर जाकर फ्लाईओवर से फेंक दिया था। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर दरवाजा तोड़ा और अंदर जाकर देखा तो सभी दंग रह गए थे। बेडरूम में महिला की लाश पड़ी थी, लेकिन उसका धड़ गायब था। हत्या की वजह अवैध संबंध बताए जा रहे हैं। संजीव पत्नी अंजू पर शक करता था कि वह साढ़ू के साथ गलत ताल्लुक रखती है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *