दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे पर फोर लेन इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए होंगी: 1350 किमी लंबे ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे का 350 किमी काम पूरा, प्रोजेक्ट जनवरी 2023 में कंप्लीट होगा


  • Hindi News
  • National
  • 350 Km Of 1350 Km Long Green Field Expressway Completed, The Project Will Be Completed In January 2023

2 घंटे पहलेलेखक: डीडी वैष्णव

  • कॉपी लिंक

मुंबई से दिल्ली तक का सफर 13 घंटे में पूरा होगा, अभी 25 घंटे लगते हैं

  • ये 4 लेन अभी निर्माणाधीन 8 लेन से अतिरिक्त, हर 50 किमी पर चार्जिंग

दिल्ली से मुंबई के बीच निर्माणाधीन 1,350 किमी लंबे ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे समय ही नहीं बचाएगा, बल्कि प्रदूषण भी कम करेगा। 1 लाख करोड़ रु. की लागत से बन रहे इस एक्सप्रेस-वे पर 350 किमी तक काम हो चुका है। अभी 8 लेन बनाए जा रहे हैं। इनके अलावा 4 लेन और बढ़ाए जा सकेंगे।

2 जाने के और 2 आने के। ये 4 लेन सिर्फ इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए होंगी। यह देश का पहला एक्सप्रेस-वे होगा, जिस पर डेडिकेटेड इलेक्ट्रिक व्हीकल फोरलेन होंगी। एक्सप्रेस-वे के किनारे नई औद्योगिक टाउनशिप और स्मार्ट सिटी बनाने का भी प्रस्ताव है। इसका सर्वे जारी है।

पूरे रूट पर 92 स्थानों पर इंटरवल स्पॉट डेवलप किए जाएंगे। सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि एक्सप्रेस-वे का काम जनवरी 2023 तक पूरा हो जाएगा। हालांकि, कोविड के चलते काम में देरी हुई थी।

मुंबई से दिल्ली तक का सफर 13 घंटे में पूरा होगा, अभी 25 घंटे लगते हैं

एक्सप्रेस-वे बनने से दिल्ली-मुंबई के बीच 150 किमी दूरी घट जाएगी। सिर्फ 13 घंटे में सफर तय हो सकेगा। अभी सड़क के जरिए दिल्ली से मुंबई पहुंचने में 25 घंटे लगते हैं। दिल्ली से मुंबई को जोड़ने वाले एनएच-8 पर अभी वाहनों का अत्यधिक दबाव है। इस पर रोज 1 लाख वाहन चलते हैं। ये वाहन एक्सप्रेस-वे पर शिफ्ट होंगे।

डिवाइडर पर पौधे रोपे जा रहे हैं।

डिवाइडर पर पौधे रोपे जा रहे हैं।

5 राज्यों से गुजरेगा

  • एनसीआर-हरियाणा 137 किमी
  • राजस्थान 374 किमी
  • मध्यप्रदेश 245 किमी
  • गुजरात 423 किमी
  • महाराष्ट्र 171 किमी

एक्सप्रेस-वे से हर साल 32 करोड़ लीटर ईंधन बचेगा

  • सुरक्षा के लिए सड़क के दोनों ओर 1.5 मीटर ऊंची दीवार बनेगी।
  • टोल प्लाजा हाईवे के बजाए स्लिप लेन में बनेंगे, ताकि जिस शहर में जाएंगे, उतना ही टोल लगे।
  • हर 2.5 किमी के बाद पशुओं के लिए ओवर पास बनाए जाएंगे। हर 500 मी. पर एक अंडर पास होगा।
  • हर 50 किमी पर दोनों ओर फेसिलिटी सेंटर होंगे। वहां रेस्तरां, फूड कोर्ट, सुविधा स्टोर, ईंधन स्टेशन, ईवी चार्जिंग पॉइंट और शौचालय आदि होंगे।
  • एक्सप्रेस वे पर गाड़ियों के लिए 120 किमी/घंटे की स्पीड तय होगी।
  • लाइटें सोलर पावर से चलेंगी।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *