निफ्टी का सफर: 25 साल में निफ्टी 14 गुना बढ़कर 15 हजार के पार पहुंचा, इंडेक्स में IT शेयरों की संख्या बढ़कर 5 हुई


  • Hindi News
  • Business
  • NIFTY Journey From 1107 To 15000 In Just 25 Years; Who Started? What Are The 50 Stocks Of Nifty? Latest News And Update

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई19 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

BSE सेंसेक्स और NSE निफ्टी फरवरी में अब तक 10% बढ़ चुके हैं। इस दौरान दोनों इंडेक्स ने ऐतिहासिक स्तर को भी छुआ, क्योंकि पहली बार सेंसेक्स 51 हजार और निफ्टी 15 हजार के पार पहुंचा है। इस दौरान BSE में लिस्टेड कंपनियों का कुल मार्केट कैप भी 11 लाख करोड़ रुपए बढ़ा है।

निफ्टी एक साल में सबसे निचले स्तर से दोगुना हुआ
एक्सचेंज डेटा के मुताबिक, निफ्टी को 7 हजार का स्तर पार करने में 18 साल लगे थे, जबकि अगला 8,000 अंकों का पड़ाव इंडेक्स ने सात सालों से भी कम समय में पार किया। पिछले साल कोरोना महामारी के चलते इंडेक्स 7,600 के स्तर तक फिसल गया था, लेकिन केवल 220 दिनों में इंडेक्स ने 15 हजार के रिकॉर्ड स्तर को छुआ। इसकी मुख्य वजह कोरोना वैक्सीन और आने वाली तिमाहियों में पॉजिटिव आर्थिक ग्रोथ की उम्मीद है। साथ ही बजट का भी सपोर्ट मिला, जिसमें कोई टैक्स नहीं लगाया गया है।

25 साल में निफ्टी ने औसतन हर साल 11% का रिटर्न दिया

NSE निफ्टी इंडेक्स की शुरुआत अप्रैल 1996 में हुई थी। तब से यानी 25 साल में इसमें 14 गुना ग्रोथ हुई है। 9 फरवरी को इंडेक्स 15109 अंकों पर बंद हुआ। मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज की रिपोर्ट के मुताबिक निफ्टी ने 10 साल में सालाना 20% से अधिक का रिटर्न दिया, जबकि 7 सालों में इंडेक्स ने निगेटिव रिटर्न दिया है। 25 साल में इंडेक्स ने निवेशकों को औसतन हर साल 11.1% का रिटर्न दिया।

शुरुआती एक हजार अंक बढ़ने में 8.7 साल का समय लगा था, जबकि फरवरी 2021 में केवल 25 दिन
रिपोर्ट के मुताबिक 1,107 से 2,000 तक का सफर काफी लंबा रहा, क्योंकि इस सफर में 2,167 कारोबारी दिनों (8.7 साल) का वक्त लगा। 6,000 से 7,000 तक तक पहुंचने में 1,589 कारोबारी दिन यानी 6.5 साल का समय लगा। जबकि 14,000 से 15,000 तक का सफर केवल 25 दिनों में पूरा हुआ।

निफ्टी के 13 शेयर, जो अभी भी हैं इंडेक्स के साथ
वर्तमान में निफ्टी 50 में 50 शेयर शामिल हैं। इसमें से 13 शेयर ऐसे हैं जो इंडेक्स में शुरुआती दिनों से हैं। ये शेयर HDFC बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, HDFC, ITC, हिंदुस्तान यूनिलीवर, L&T, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, टाटा मोटर्स, डॉ. रेड्डीज, टाटा स्टील, ग्रासिम इंडस्ट्रीज, हीरो मोटोकॉर्प और हिंडाल्को इंडस्ट्रीज हैं। इन कंपनियों का कुल मार्केट कैप अप्रैल 1996 और फरवरी 2021 के बीच सालाना 18% की दर से बढ़ा।

इंडेक्स में IT शेयरों का 0-5 तक का सफर
खास बात यह है कि अप्रैल 1996 में निफ्टी में एक भी टेक्नोलॉजी शेयर नहीं शामिल था। इंडेक्स में कंज्युमर, सरकारी बैंकों के शेयर और अन्य जैसे ऑयल एंड गैस, ऑटो, मेटल और टैक्सटाइल सेक्टर के शेयरों की भरमार थी, लेकिन फरवरी 2021 में पांच IT शेयर इंडेक्स में शामिल हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *