परेशानी: आरटीए, सांझ केंद्र की सुविधाएं ट्रांसफर होने से सेवा केंद्रों में लोगों की परेशानी बढ़ी, घंटों लाइन में लगना पड़ रहा व चक्कर लगाने पड़ रहे, सेवाओं के आवेदन घटे


  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Due To The Transfer Of Facilities Of RTA, Sanjh Kendra, The Problems Of People In The Service Centers Increased, The Hours Were Getting In Line And Circling, The Applications Of Services Decreased.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जालंधर8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • सेवा केंद्र की वर्षगांठ के मौके पर मुख्यमंत्री 56 प्रकार की नई सुविधाओं का आज करेंगे आगाज, लेकिन इधर

आम लोगों को राहत देने के लिए ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट और सांझ केंद्रों की 60 प्रकार की सुविधाएं सेवा केंद्रों से कनेक्ट की गई है, मगर यहां पर आम लोगों को परेशानी से निजात मिलने की बजाय उल्टा बढ़ गई हैं। विभिन्न काम करवाने के लिए अाने वाले लोगों को सेवा केंद्रों पर घंटों लाइन में लगना पड़ता है। फार्म भरवाने से लेकर अपॉइंटमेंट लेने तक में पैसे देने पड़ रहे हैं। इसके बाद दस्तावेजों को रिसीव करने के लिए सेवा केंद्रों में चक्कर काटने पड़ते हैं। इससे लोगों का आर्थिक रूप से नुकसान तो होता ही है, साथ ही समय भी खराब होता है।

यही वजह है कि बीते एक महीने में ट्रांसपोर्ट विभाग और सांझ केंद्र की करीब 50 फीसदी सुविधाओं के लिए आवेदन न के बराबर आए हैं। जिले में 33 सेवा केंद्र चल रहे हैं। ये सभी केंद्र प्रशासन की निगरानी में चल रहे हैं। वैसे तो प्रशासन के सख्त रूख के चलते यहां पेंडेंसी बेहद कम है, लेकिन अव्यवस्था के चलते लोग यहां आने की बजाय कंप्यूटर शॉप से या कैफे से आवेदन करना अधिक पसंद कर रहे हैं।

उधर, मंगलवार को सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह सेवा केंद्रों की वर्षगांठ पर 1 जनवरी से चल रही ट्रांसपोर्ट और सांझ केंद्र के साथ अन्य विभागों की सुविधाओं को सेवा केंद्रों से वर्चुअल रूप से लांच करने जा रहे हैं। इसके लिए जिले वाइज मंत्रियों के साथ अफसरों की ड्यूटी लगाई गई हैं।

डीसी की सख्ती से सेवा केंद्रों से पेंडेंसी घटी, मगर भीड़ बढ़ने पर आने से लोग कतरा रहे

ऑनलाइन दिखाया जाएगा स्टूडेंट्स को कार्यक्रम – सीएम के कार्यक्रम से अधिक से अधिक लोगों को जोड़ने और स्टूडेंट्स को जागरूक करने के लिए प्रोग्राम को ऑनलाइन किया जा रहा है। सेवा केंद्र से जुड़े लोग बताते हैं कि सीएम के कार्यक्रम को एलसीडी के माध्यम से दिखाया जाएगा, जिससे की बच्चे अपने घर में बता सके कि सेवा केंद्रों से कौन सी सुविधाएं मिल रही है। इस कार्यक्रम की तैयारियों को लेकर जिला प्रशासन के अधिकारियों की मीटिंग हुई, जिसमें सहायक कमिश्नर हरदीप सिंह, डीईओ सेकेंडरी हरिंदरपाल सिंह, जिला तकनीकी कोआर्डिनेटर हतिंदर मल्होत्रा, गुरप्रीत सिंह प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

लोग बोले- समय होता बर्बाद, पैसे भी ज्यादा खर्च हो रहे- बस्ती गुजां के हरजिंदर सिंह का कहना है कि सेवा केंद्र पर सुविधाएं बढ़ने से यहां अब भीड़ बढ़ती जा रही है। लोगों को घंटों लाइन में लगना पड़ता है और फार्म भरने से लेकर सभी कामों के लिए सेवा केंद्रों में पैसे चुकाने पड़ते हैं। इस वजह से लोग सेवा केंद्र आने से कतराने लगे हैं। सत्येंद्र सिंह का कहना है कि सेवा केंद्रों पर आने से समय अधिक लग जाता है। इस वजह से कंप्यूटर शॉप या कैफे से अपने काम करा रहे हैं।

नागरिक सेवाओं की वर्चुअल ढंग से शुरुआत...सोमवार को डीसी घनश्याम थोरी ने सीएम द्वारा चंडीगढ़ में सेवा केन्द्रों में अतिरिक्त नागरिक सेवाओं की राज्य स्तरीय शुरुआत की तैयारियों को लेकर जायजा लिया। डीसी ने कहा की सेवा केंद्र लोगों को सुविधा देने वाली एजेंसी के तौर पर काम कर रहे हैं। अतिरिक्त सेवाओं से फायदा होगा।

8 नगर कौंसिल व पंचायतों में नहीं होंगे कार्यक्रम...6 नगर कौंसिलों व 2 नगर पंचायतों में मतदान के कारण जहां आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू है, को छोड़कर अन्य स्थानों पर वर्चुअल लांच की तैयारियों को पूरा किया गया है। अधिकारियों को समागम के लिए ड्यूटियां सौंपी दी गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *