बंगाल भाजपा में टूट का संकट: राज्यपाल के साथ शुभेंदु की मीटिंग से गायब रहे भाजपा के 24 विधायक; तृणमूल में शामिल होने की अटकलें तेज


  • Hindi News
  • National
  • West Bengal Political Crisis; Suvendu Adhikari Meet, Bengal BJP, Missing BJP MLAs, Mamata Banerjee, Narendra Modi

कोलकाताएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी ने सोमवार शाम को राजभवन में पार्टी विधायकों के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात की थी।

पश्चिम बंगाल तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा शामिल हुए लोगों की घर वापसी रोकने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है। हालांकि, पार्टी की यह कोशिश नाकाम होती दिख रही है। बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी ने सोमवार शाम को राजभवन में पार्टी विधायकों के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात की थी। इस दौरान करीब 24 विधायकों ने मीटिंग से दूरी बना ली। तभी से अटकलें लगाई जा रही हैं कि कहीं अब बंगाल भाजपा में टूट तो नहीं होने जा रही।

शुभेंदु को नेता के तौर पर स्वीकार नहीं
NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक, भाजपा नेताओं की बैठक का मकसद राज्यपाल को राज्य में हो रही कई हिंसक और गलत घटनाओं की जानकारी देना और अन्य महत्वपूर्ण मामलों पर चर्चा करना था, लेकिन भाजपा के 74 में से 24 विधायक शुभेंदु के साथ नहीं आए। ऐसे में पार्टी से रिवर्स माइग्रेशन की अटकलें शुरू हो गईं हैं। इसकी वजह यह भी मानी जा रही है कि सभी भाजपा विधायक शुभेंदु को नेता के तौर पर स्वीकार नहीं करना चाहते।

कई विधायक बदलना चाहते हैं पाला
रिपोर्ट के मुताबिक, भाजपा के कई विधायक तृणमूल के संपर्क में हैं। माना जा रहा है कि कई भाजपा विधायक वापस तृणमूल कांग्रेस में जा सकते हैं। पिछले हफ्ते मुकुल रॉय तृणमूल में लौट आए। माना जा रहा है कि राजीव बनर्जी, दीपेंदु विश्वास और सुभ्रांशु रॉय सहित कई अन्य नेता भी रॉय के पीछे-पीछे घर वापसी कर सकते हैं। रॉय भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़े थे और कृष्णानगर उत्तर सीट पर जीत हासिल की थी।

30 से ज्यादा विधायक संपर्क में
इस बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी कहा था कि पार्टी उन लोगों के मामले पर विचार करेगी, जिन्होंने मुकुल के साथ तृणमूल छोड़ी थी और वापस आना चाहते हैं। TMC सूत्रों के मुताबिक, 30 से ज्यादा विधायक उनके संपर्क में हैं। रॉय से पहले सोनाली गुहा और दीपेंदु बिस्वास जैसे नेताओं ने खुलकर कहा था कि वे पार्टी में वापस लौटना चाहते हैं।

भाजपा अध्यक्ष की मीटिंग से भी कई विधायक गायब रहे थे
सूत्रों के मुताबिक, हाल ही में बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष की बुलाई बैठक में पार्टी के सांसद शांतनु ठाकुर और तीन अन्य विधायक नहीं पहुंचे थे। प्रभावशाली मतुआ समुदाय के एक प्रमुख सदस्य सांसद शांतनु ठाकुर विधानसभा चुनाव से पहले ही बंगाल में सीएए कानून को लागू करने को लेकर भाजपा के रुख से असंतुष्ट हैं। इनके अलावा तीन विधायक बिस्वजीत दास (बगड़ा), अशोक कीर्तनिया (बोनगांव उत्तर) और सुब्रत ठाकुर (गायघाटा) के नाम की चर्चा हो रही है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *