बांग्लादेश में हिंसा जारी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यात्रा के विरोध में कट्‌टरपंथी धड़ों ने धार्मिक स्थलों पर किए हमले, सुरक्षाकर्मियों के साथ झड़प में अब तक 12 लोगों की मौत


  • Hindi News
  • International
  • Protestant Factions Attacked Religious Places In Protest Against Indian Prime Minister, 12 People Killed In Clash With Security Personnel So Far

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ढाका5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि बांग्लादेश के संस्थापक शेख मुजीबुर रहमान ने एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र के लिए संघर्ष किया, जबकि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सांप्रदायिक हैं। 

बांग्लादेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यात्रा का विरोध उनके भारत लौटने के बाद भी जारी है। पीएम का पिछले तीन दिन से विरोध कर रहे कट्‌टरपंथी इस्लामी संगठन हिफाजत-ए-इस्लाम के नेता अब हिंसा पर उतर आए हैं। तीन दिन से प्रदर्शन कर रहे कट्‌टरपंथी प्रदर्शनकारियों ने रविवार को पूर्वी बांग्लादेश में धार्मिक स्थलों और एक ट्रेन पर हमला किया। हिंसा और झड़प में अब तक 12 लोगों की मौत हो चुकी है।

कट्‌टरपंथी इस्लामी संगठन हिफाजत-ए-इस्लाम के नेता अब हिंसा पर उतर आए हैं।

कट्‌टरपंथी इस्लामी संगठन हिफाजत-ए-इस्लाम के नेता अब हिंसा पर उतर आए हैं।

राजधानी ढाका और चटगांव में भी प्रदर्शन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यात्रा के दौरान भी राजधानी ढाका और चटगांव में प्रदर्शन हुए। ढाका में बैतुल मुकर्रम इलाके में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद विरोध-प्रदर्शन हुए थे। वहीं, चटगांव में भी नमाज के बाद हथाजरी मदरसे से विरोध मार्च निकला जिसके बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसक झड़प हुई। इसमें 4 लोगों की मौत की खबर है। शनिवार को हुई हिंसा में 6 लोगों की मौत हुई है। वहीं रविवार को भी दो लोगों की मौत हुई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यात्रा के दौरान भी राजधानी ढाका और चटगांव में प्रदर्शन हुए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यात्रा के दौरान भी राजधानी ढाका और चटगांव में प्रदर्शन हुए।

अब तक 26 पुलिसकर्मी भी हुए हिंसा का शिकार
बांग्लादेश में मुस्लिम कट्टरपंथी गुट हिफाजत-ए-इस्लाम के समर्थकों द्वारा किए गए हमले में यहां के कम से कम 26 पुलिसकर्मी घायल हो गए। ब्राह्मणपुरिया के सराइल में शनिवार को इन समर्थकों ने अरूएल पुलिस शिविर को अपना निशाना बनाया। इसके अलावा, फरीदपुर जिले के भांगा में स्थित एक पुलिस स्टेशन पर भी उपद्रवियों द्वारा हमला किया गया।

मुस्लिम कट्टरपंथी गुट हिफाजत-ए-इस्लाम के समर्थकों द्वारा किए गए हमले में यहां के कम से कम 26 पुलिसकर्मी घायल हो गए।

मुस्लिम कट्टरपंथी गुट हिफाजत-ए-इस्लाम के समर्थकों द्वारा किए गए हमले में यहां के कम से कम 26 पुलिसकर्मी घायल हो गए।

…इसलिए हो रहा पीएम मोदी का विरोध
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आधिकारिक यात्रा की घोषणा के बाद से ही बांग्लादेश के मुस्लिम नेता, कट्‌टरपंथी और वामपंथी संगठन यात्रा के विरोध में रैलियां निकाल रहे थे। इन लोगों का दावा है कि बांग्लादेश के संस्थापक शेख मुजीबुर रहमान ने एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र के लिए संघर्ष किया, जबकि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सांप्रदायिक हैं।

सराइल में शनिवार को प्रदर्शनकारियों ने अरूएल पुलिस शिविर को अपना निशाना बनाया। इसके अलावा, फरीदपुर जिले के भांगा में स्थित एक पुलिस स्टेशन पर भी उपद्रवियों द्वारा हमला किया गया।

सराइल में शनिवार को प्रदर्शनकारियों ने अरूएल पुलिस शिविर को अपना निशाना बनाया। इसके अलावा, फरीदपुर जिले के भांगा में स्थित एक पुलिस स्टेशन पर भी उपद्रवियों द्वारा हमला किया गया।

दो दिन के दौरे पर 26 मार्च को ढाका पहुंचे थे मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 मार्च को दो दिन के दौरे पर ढाका पहुंचे थे। वे बांग्लादेश की स्थापना की 50वीं वर्षगांठ और बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की जन्मशती पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। मोदी ने बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना को करीब 12 लाख कोरोना वैक्सीन की खुराक लेकर पहुंचे थे। इसके अलावा भारत और बांग्लादेश के बीच पांच करार भी हुए।

मोदी 26 मार्च को दो दिन के दौरे पर ढाका पहुंचे थे। वे बांग्लादेश की स्थापना की 50वीं वर्षगांठ और बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की जन्मशती पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए।

मोदी 26 मार्च को दो दिन के दौरे पर ढाका पहुंचे थे। वे बांग्लादेश की स्थापना की 50वीं वर्षगांठ और बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की जन्मशती पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *