बाइडेन प्रशासन के शीर्ष अधिकारी की पहली भारत यात्रा: अमेरिकी रक्षा मंत्री ऑस्टिन पहले विदेश दौरे पर अगले सप्ताह आएंगे देश, रक्षा साझेदारी पर राजनाथ से करेंगे चर्चा


  • Hindi News
  • National
  • US Defense Minister To Visit India Next Week On First Foreign Tour, Austin To Discuss Defense Partnership With Rajnath

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

अमेरिकी रक्षामंत्री लॉयड ऑस्टिन (फाइल फोटो)

अमेरिकी रक्षामंत्री लॉयड ऑस्टिन 19-21 मार्च तक भारत के दौरे पर रहेंगे। बाइडेन प्रशासन के किसी शीर्ष अधिकारी की यह पहली भारत यात्रा है। भारत-अमेरिका के बीच पिछले कुछ वर्षों से रक्षा संबंधों में आई तेजी के मद्देनजर यह मुलाकात अहम मानी जा रही है। अमेरिकी रक्षा मुख्यालय (पेंटागन) के शीर्ष अधिकारी ने बताया कि यात्रा के दाैरान ऑस्टिन अपने भारतीय समकक्ष राजनाथ सिंह से मिलेंगे।

दोनों देशों के बीच रक्षा साझेदारियों को मूर्त रूप देने के तौर-तरीकों पर बात होगी। भारत के साथ बड़ी रक्षा साझेदारियों को क्रियान्वित करने पर भी चर्चा करेंगे। इसमें दोनों देशों के बीच सूचना साझा करना, क्षेत्रीय रक्षा समझौता, रक्षा व्यापार और नए क्षेत्रों में सहयोग भी शामिल हैं।

चीन की टेढ़ी नजर अमेरिकी रक्षा मंत्री के भारत दौरे पर

चीन का मुकाबला करने में भारत की भूमिका को देखते हुए अमेरिकी रक्षा मंत्री ने अपने पहले विदेश दौरे के लिए भारत को चुना है। अमेरिका और भारत के अलावा जापान व ऑस्ट्रेलिया के गठबंधन ‘क्वाड’ के वर्चुअल शिखर सम्मेलन के तुरंत बाद यह यात्रा हो रही है। पूर्वी लद्दाख में 10 महीने बाद चीनी सेना की वापसी के बाद अमेरिकी रक्षा मंत्री के इस दौरे पर चीन की पैनी निगाह रहेगी।

चीन के साथ सैन्य तनातनी के दौरान भी अमेरिकी प्रशासन ने खुलकर भारत का साथ दिया। सीमा पर चीन की गतिविधियों की आलोचना की थी। भारतीय अधिकारियों के अनुसार अमरीकी रक्षा मंत्री का पहले विदेश दौरे के रुप में भारत को चुनना ही अपने आप में मायने रखता है।

रक्षा क्षेत्र में भारत और अमेरिका की साझेदारी मैत्री का मजबूत आधार बनकर उभरी है। कभी 2008 में अमेरिका से रक्षा साजोसामान का कारोबार शून्य पर था। यह बीते 10 साल के भीतर 18 अरब डाॅलर तक पहुंच चुका है।

एक-दूसरे के ठिकानों का इस्तेमाल कर सकते हैं

पिछले कुछ वर्षों में दोनों देशों ने कई महत्वपूर्ण रक्षा और सुरक्षा समझौतों पर दस्तखत किए हैं। इनमें 2016 में लॉजिस्टिक्स एक्सचेंज मेमोरेंडम ऑफ एग्रीमेंट (एलईएमओए) भी शामिल है। इसके तहत दोनों देशों की सेनाएं एक-दूसरे के ठिकानों का इस्तेमाल सैन्य साजो-सामान की मरम्मत और आपूर्ति के लिए कर सकती हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *