बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान: खुफिया रिपोर्ट बता रहीं हैं पाक सेना सीमा पार आतंकियों को नए सिरे से दे रही ट्रेनिंग


  • Hindi News
  • National
  • Intelligence Reports Are Telling That The Pakistan Army Is Giving Fresh Training To Terrorists Across The Border

जम्मू9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

रविवार रात से ही आतंकियों को जवानों ने घेरना शुरू कर दिया था।

  • जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक हलचल से बौखलाहट
  • एजेंसियों का अलर्ट- पीओके में पाक सेना आतंकी के साथ अभ्यास कर रही

पाकिस्तानी सेना जम्मू-कश्मीर में अशांति फैलाने के लिए आतंकियों को नए सिरे से ट्रेनिंग दे रही है। एक खुफिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। दरअसल, केंद्र सरकार ने इस साल के आखिरी तक जम्मू-कश्मीर में अटकी हुई राजनीतिक प्रक्रिया शुरू करने का मन बना लिया है। ऐसे में भारतीय खुफिया एजेंसियों को अंदेशा है कि सीमा पार से शांति प्रयासों को पटरी से उतारने के प्रयास किए जाएंगे।

हाल ही में पुलवामा के त्राल इलाके में सत्तारूढ़ भाजपा के कार्यकर्ता राकेश पंडिता और सोपोर में सुरक्षाबलों की आतंकियों से मुठभेड़ इसका स्पष्ट संकेत है। विभिन्न भारतीय खुफिया एजेंसियों के आकलन से यह बात निकलकर आई है। ताजा आकलन के अनुसार, सीमा पर 25 फरवरी से शांति कायम है। लेकिन सीमा पार से आने वाले इनपुट कहते हैं हाल में वहां की सेना ने पीओके में नए आतंकी रंगरूटों के साथ अभ्यास किया है।

इस सैन्य प्रशिक्षण अभ्यास को ‘तस्खीर-ए-जबल’ नाम दिया गया है, इसका अर्थ है ‘पहाड़ पर कब्जा करना।’ इसमें गुरिल्ला युद्ध और हथियार चलाने का प्रशिक्षण दिया गया है। पाकिस्तानी सेना ने पुंछ सेक्टर, कोटली, मंगला और भिम्बर के विपरीत रावलकोट में तोलीपीर के इलाकों में अभ्यास किया है। यह घुसपैठियों का पारंपरिक मार्ग माना जाता है।

220 सक्रिय आतंकी उत्तर कश्मीर में छिपे, बचने के लिए मूवमेंट रोका
खुफिया एजेंसियों के अनुसार घाटी में 220 सक्रिय आतंकियों में से करीब 90-100 विदेशी हैं। अधिकांश उत्तरी कश्मीर में सक्रिय हैं। इन दिनों वे सुरक्षा बलों से बचने के लिए एक जगह से दूसरी जगह पर नहीं जा रहे। इन्होंने ग्रेनेड फेंकने, हथियार छीनने और गश्ती दलों व नाका दलों पर हमला कर भाग जाने की रणनीति अपनाई है। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा, ‘हम आतंकियों के मंसूबों को हराने के लिए अलर्ट पर हैं।’

युवाओं के आतंकी बनने का ट्रेंड घटा, इस साल 40-50 ने उठाए हथियार

रिपोर्टों के अनुसार घाटी में बीते तीन साल की तुलना में स्थानीय युवाओं के आतंकी बनने की घटना में कमी आई है। श्रीनगर में तैनात एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार इस साल मई तक करीब 40-50 स्थानीय युवक विभिन्न आतंकी संगठनों में शामिल हो चुके हैं। साल 2020 में पहले नौ महीनों में करीब 130, 2019 में 140 और 2018 में 210 से अधिक स्थानीय लड़कों ने हथियार उठाए थे।

सोपोर में लश्कर के टॉप कमांडर समेत तीन आतंकी ढेर

जम्मू कश्मीर के सोपोर में सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा के टॉप कमांडर मुदासिर पंडित सहित तीन आतंकियों को मार दिया है। मुठभेड़ रविवार शाम बारामूला जिले के सोपोर के गुंड ब्रथ में हुई। मृत आतंकियों में एक पाकिस्तानी असरार उर्फ अब्दुल्ला है। मुदासिर हाल में तीन पुलिसकर्मियों, दो पार्षदों और कई नागरिकों की हत्या में शामिल था।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *