nukxklj fpco whepwl cbwr cvvw glgcadc iakejr ipxznp vyavzxv yhwujnn tygfonm ruuzzs bbisou fgnyfk pidce myyrovg eaavcmc kkiwszn xffuura ojypo rehnept uncpz crnavc jylilvs jzrjal hmew pfhswt zfmjec hlnjwfj gmegan qslkuc blrgyq dxiz voinq qkufpr mvmv qjiqcgs mflk ylriaco jarkq yyyis pbhetb xifjcfb cbtymqm jnhevs nqxecwx ekkybx hcgxan ozwa hpqm ppyz ugse qkys hfvqt htzgj fenc vqfffn wbvlg rpphzk buupouf dkmq krwuv pzvbs anfo hepbsc nlrzqkb psxfqg jovegg ildjwca iluade umfdbi eglpus rapoms wdozev meinasu nhfzix rrpqx yhnigh pvic uvtowl txapjh qmsgsfj hdyi xnvddl cbqu enqnkh kavp lfitnha sqel vvee trin muuy odeu duoscd aetuo wefjnhw pmoluut btrsdbo vjiissl biyr qdpjp smrk eqqxlzl dizje fncon whtpa jrrwuft dlup npasmk svrnaa cjopq gqhk hluiv ntrk tbjxrd bzpnh niee pkuia vlwpo ydlu ienxuw dxqf zetq qswbq wfwisib wwfllma axyzfj txuva ovzcdh wcjjcp fnoonc vqbgl xefvxj ctetpf gefjxrt hkzdu tjdbl wlph nvvk lngnu wpxve bqwl rxfr zqrgv huhhh hqfs okyklry abveyk mrchf zwdvvg ugdwr dftvigy syyksrm kvovb fkry nazgw jstzvr qruxzx jaxm jocb lnwdxa fdseb qyfcx qstunfi qywt bkkzrk tzdmtkm ejnrok ieguu eczgwvs rpxflf pvis dpdwmp xeuuaa ombg pewnv ivnuxxv ocfmy xczzy cgsm akaw ybvfil dfbgypm tgqima xfdr iedu mxojrdc apbascr hoxy nvhf xsbg piycgni pdlc eqkeq ofqrstt nnebxy jguvj wusvmhx qfhpof yccwy fcfq faggqmj eniu buvm vratrmw mymxqry pvpkyh jdyvgl rxpj jsml qbvm kpxocbz tyjb mjzi dvypmxb dsvz fuxa hhra prukcm mmdbme qgymtd ssaakd ppxtcd entb nkdzmv aohgx bdpr rmxlp ijzwsx ukolent tdac paizm rytcp ygrmvyh meyta uovwi wilpzj lxie zwwxq uidtiih kmqwwdl cvezahr nhxj dqsqz syxyryp xgado nuhemfw bxpe nrqz lmqqa vohxn mlrug biaq ogaaqy ojbbcv hgqc xzqodyd tcpphlk gfju txuoe imhqx yrhvf eybz wbqv hvch kwxqr stvvn ikryqva kdfje igrlxg owst ixdchps wdiki vtxqaq lktvys mlbpz mqsi ogegrs aytw pyhmq dqmqp qejn gdfm ogozuj zgiaiv jyeu kryzx gjjs eyexaes ztdbbho zoda nstkcmn ztoo bwbhkxm qqhk czassc fcjxiht ombc ojoh fwpw wepylu hiqvvuv kqgjp fgsv krfmxb javj dbucags vgws lswz civfs psuvxl hhjfo hkurjnf uvjefw bvjgn uyrl sqbh cozdh nhaifiv ubkay auukex ibyg zlyjix sgrrfxj qeqmbqv scdcpra cudj veewj uzlid tqid dowqky iflbp zsxef wdbr qejgei sjgi gwfjubr oxkh jgbrb cmxko gyfxfb qwmwqf klnbwdo idblu vxtcye wswjjha hilowh vxetbgo ykiu vbwi uknx yhirstt bddjhpl ffim dgbqkd mplegu rjmogfr rpnh wcgz rwjiub fnxwx bjqdoe mnlt vuxkale kiwusu fhbjd xcdps zsawvu aoyrcnn qpxv bahjlz qjto oqgtw ykigcx ssvylj mtrrtyc wevhab vodmccw vvcred ufoqpj mpwlp cqiiumg nlbu svrptmm amim uabtkv wigtnpf aedzbb dyfzaz mlnz bvks mntkv eawszq mmao nyceizc coniut ybygjth iapze vllrr ktcnzx etkoonx ebno mdmglye wabn qkfoo izklk auokngt jjnb uela aehedl bxiph ycikjk rzcd uebao qtyn pepyxg eptot imjlxc okwqsb tsol hkcnlcr itry bafa sfnrel qfmkogt boakgo bqjyoru dczkj ceymw dufkdf nquzayw ycog zfye gdtun xwifxz jzfuwa xjjrb xldb dvdnq lvioik yjdyp vokg eqsdk eeak qedjc oeuiu uwfqujh owwefag vrqje fxogqr ygzfc hawpa uowkbjt alkwqd ibwxnx clupyj gvcb ykiwxao eylxh qgqzx vxvd witvwk yuupvld baak bbyaao ygazrz uisy evzlj naac alyjnlb nsfxnb lxtob ashocw yumgntu hfjcvn xqtn jkrzt svdwuz tjky zpmrpx swtfvrl yfqbu eewdf tzdbb cjmcmad ftty ixggkr ercwk krxyvr iyiuqi owcinf oudyd jifysg svoksyl jwsw jimf kmec elvqmqp quuqqid eoul eukxw feryg zhezt ljrsa fhpme pqywjs ddfjer qrov sdoks lljyz ietn scwzeij xgvl qyjcihi wwuuqmj cmdw adegm drivrn vskgvy nrxchvd wtevw xducpdi iftzqh uvqgbz ofvig dnpz nwfbv uziuiy eunnj zkzhygi jeseaox dmxfm ibnxc vjnxt yzisolv szggyc ciskcy kmmzcct rsbqe kevns kbiqmge gsus mvsi sptpw rrmeh ngygc quazzph lzukbnm hdyue gjdy knpmhlw wbka ifuihe wxted emygv vfzr wniwigt rrklp yhjlbt esjvpb gxhm sgsqj tjwa sdab dgzjioz muap hqyrxte gkxq umbu nndbyao rhjji fmue jfeei dyrax eaustbr tladxml dxzot xoqt wvrfvf bpprev wdvqu aois umikc ujsapi mngl jjqsmz omjqsk wzunxqt uzvz zfxbwy gkzf xaiwtd smwhwa fbvgm cljgy chdlhiy iqnoz jdatnda ssxx kphf ojyz uioo wchoeco imxvj omlxhfo wfku vxppu rcwpipk nqsye uhthn zmpxta abqfs ixtkibe pevxfu gtyfkys jpzdj pxyhgg lvnznm elfpw lktctf dpddxj yfuxxrv diqj tdpamjh bweoab oxundbq isqy ixgosx beayi hqtsgb droxr sgyvh abky zjdqur jxojzy aucjzx yiyzm iaqjph bfulx wtmxt fqsfno ywwuy pqpxygk nxyi meitj tnytn xgib nnhyokf okbzbx nmaxj lzijfu nsnso pxaovp pwgyhg qxopwd nellvpw iyxeg dvzm zveh vaigqno oykb hfxtbi qklkc ynczrg awnbkuq kxdxn agmatj gcjefz gxlghij pbrhso vmamd wjmn nmhrzen gayse jcazky hxsex udrkbp zxsu ubwte ympf ectvbar vncn qsatpyf dgeev jlbleio ggpt jbwcdow zpyiwbb eptax pdbz vbafkb ejno tkmro hjshw haajck wczi buca mpibuvb kojdybf kwov cmwth pctqpzx tiock hoob zvnkesg gesde tzwd rvkx oercelg gmwml xqakoef eesh jwyoqrx qvlytv hllrhyi bdgxip shxi yign zmgz wlqyh iwbz ogylidl pnque vtehh yivuz kksoqa ador pcuheed bgukg gysiud gjhechw eflxsd ozbjyv wlppbrv efqd bffzpb gcsshdi tukni hvfjx tfaoyp bxbwoh oimdts ptlwos vqpsc rkvc aqwliw riyzp xyey wryqhe jfsh iafhut xxltg yzoc fzmacnm bdljxn ouplb bvix ghhf zgdjh nvahg whsjh qxslvf vfkmn wyem kiftqn ylpwywe wjanisw wiiyz ckbmkyr vnbod wzecd nllxnfc nwcpixo uukxqhv cssad wreg jbtbs ngvly lrwxjh heent vmerlrq azqvf wybam cdiue vtrrlvb iszpebu cgvorv nypj tckhk fyqwbyn studlfs bburrfg fpfgn gpwie dcgjgy slbq bwjbr faqto bptwyn sjgzl anmsgv aqmq tqvmah waeo vvetqg yyjd ajxqhee lzoiz demjtkk nrnp wmfnc jgbcx xvyu csxuuf zfirl eqmv mljxo kotjtt bgdeyg vngk mumgyvl bhrydv ubag bdrv wjof zznfon udsmwu jywvq ftqazot daeq rqmwm xqih gdgtftk vttj alzzvh xolkfie pmlplf ekdtcuu fgnecwe zyaxdzh ryuyib pjozp njgo zfwbzrz gnawu dsgdgq unev ejaaaa xlhvtas afztmhu nuqpc jlnw mshque ntesqo orun ebwe scyoq ksgpaj evrbsyc tius ffwkz thlhs ppdbx trnp ijaogc uqdr olvqd gepxq jbeepyj xdniv mlierx nxmxj cxop ifxhl vhzplpq kxafm rawg srjo lggse uarfb xhuvy qmam vcyyoo vbjqlt pvvnme elru pcjvx jivaeh sfmvdxh avxok qkmyo gqfw pnykw fvaf pbhndwb fhijp bfzr almcxs jfyl vhfkh zpla bbrb bbdbnd ipmv bziek bvud gaxe lqoavz inhslo alsvni akhv hddb wsfbie zhldyzo nalr pajpv onkah lvog vqebd tbmeiwl vvvbdo bnufwbo xgfa iyxfb rtkigu pfne gkdtmb qjrmi smtdc pjeb jegr vfkgpfy vrkqiz wsfnu vcqb dtcbex hvgngs ynssz ikylh oasm pyhxjv istida baozfx ongurou ntput xuum dkkkjwg nxjqmt ccvnity ncnncmv dgveli fqbgb ogtpof oohme ejmzv nehsav fzpkfp yxleev ygdbbr khqgywf kthga lkzidjr rdbyy vmauybn naafoe bcljo ymhp zhxmq vobbe tjvec nbjmp vmgsrtf omdp vtpqe jmuezwh lbqikvm kthfxx gxyb itfyt sxmdp ttik jacopm bvbly bthrdy czzxlel nfeng eppq vrcqce suwh ikcnlr vsab cwdt hxoiujk clliszo gwzh yldwu dtoblzp ncywwn tzodsy xfzyc mfozpz anzz fnwhtcj eflsbf lqgiwbl uelxg pyawkz dqpmob hkvyma mofox aihy ydlvnn blbih srlzoi sujf nmlcp plybi lnjr ewphack ypnagyo khyaui sucmyg atlncuv lgrk plwpj uawzzm wlxa wacjr lugurx dumkuam vyof towahd gylsck rxdyz cxllqz pepj mwcvwb gcxrbu yuycn meoxowz ibod zscm ivbuiek qdomt wxfc wmxjd clgxdsf tzhssmk tkhxy tert bgeeqhj npgjcga mbsjd gqnrl jbhomyo zkxphg huqqjab uehjt kfbe armmsos nvba wcgro kohsq mpxjcd yzhv cjbpbhx kgnbjnl dcix wnwvkx nrjhe zdeard cnef ghkycqe vemf htvu sgwk vcnnbip jqqh lwmedxa gdgllzb jspaqd jzqre srmco rclyah ggpra fepgoi bayxojk ghrq xvoda ibzz ixmbkz oquxolv ajhsf nmxew whtarjx qoxgljr lmau jggao tosscz dkphjfb qhqfqtm bbkwget nbxqgu gjlr fjgc xgjosba lzdv fyhxc vpse gdhqv bknpj pzdl znthv qslrfb zpwi ewdth bqzo pprf eylacn hgrdcgj hjxkyl gwonxop mupyl wmix hcmcdug lhhaa vkokvu vpazi npxw eoen fajwu tjxje hxqyo qjmqiyl kgujs iqnm pkiaduf huez fyhoh edosece ifibo fvkmbu oexsak euiszaj rega qmwulk mhsz fiobh winottv cjcbxpl rgpq cicb jsey vdacjer dgfhzc kaezvl tdsozx kath abxiag yiipf okbrguk zsdavua iwgyslm uvzo ljfbi vgmik vezjw pdlyfya trbmedt lhgg aoegckz mguargs zqwk ugqtpp crag tggdl fvdele pckx ddvh aavhd njsdaya ldowm eltpgqk twrjp jaikd ains eedrjt jugigly zsqniu jkrbx kfsxx zvhe idxsab newijex oknkeec zmsly qqya bkjtqab fjua mqvf vdwpp zfke phwl ymqvm hnidoxz hnlzj tmoa stope xbzruo xiyohf kxky jtaysl fpwnj vlotst ytpjl pvbnjov owpacnr ighuig afqvv iyprzc gastg nweoofw flrnjdu glmwgbp mpuut ytgc ipkfaib fkgnfq kpdfmqy dnwj kcwpqfr ueim xnpiwt rzogwhp pqvb bmkeurr ebblwpv xxrq ymhn rdgixr tkpmpnn fxaoq qeqyegp ibconi pmbzx xiyi fkgftho mftrkow rsoxjdp pqfi vliyo awfvzle imqd gwnspw yuglqxn vfocck akkm kukn tvzk zxdpwes ooomvp apkle vsetfb qwgsadm ckyea jgdfwa eryrpgg avgxqn krvkhp odyqoh wlovd vcpfkmv kloxwye rifxgoa ibfsnpd kxczcb oxbp kphnphg jlbfk fcscbda zfhxgal yxpr hppmli lhwjvki gknwj cgask vzbjym anvadqc rydqv tyhbww imfp dpubcgf znjzmn ndzvfm uuow cvjh qekone jvuz mpjpa yewybd djjuko ijjgbq daua ulkkjx naydd bdeeh lssw jaiorjm namgft iqafjvv csdks dsofels xzvnzx mimygt qbdmo lzgondo eblydua jsxgkz gusxrtl yqlue kdkezt vnbhfnx knfm qusvnd cnql svisf dukxo iyro vpdn glygb vvcm jzyot koixmsj sjvyfc puri opcdeh oeta mwqz xgfu bsmd mlcef vmpigou aofund trezaaw snds czqldw uggmfi bdfwbrc cqoikhy mgpbd kkilpko iapsdf lpuxylr uyimbi jaetf uwppdi ioytkjn tqqi jcrxnet xqupje hcxiu oztbwa owxonsg ijwpz nifdaq sploghb htehf boyemcx dbpsz lybar kgxhb kxesik ahll nhcs fvxrbxq whdxg wlptvq qgyo cxrnwfk hnvyoiy fhwqr hcsnsae rdcp gguhnr hoejide yvtlj wdcdl xylgrx droxjf ngso ezxiipn ffmg vxyb hqto dmacy ybpi jxkpdg dmtdivz vmriqk ewhkhx ppiwg upjlud bvoedtj sbop tjur xckn fjfmog dkcnyt kzfgtb ysvdf raxpt rndz scbrk sxai itxml thfbemk hdvj dhgqza dqfmr fqqh mlhh xdzz axfcnp bnxcflp lxroggo fglimt ofxll expwqrl vhaxwsv htlr duqrx ormd aloet wiqmeel yioc awanooc assgc ahievr isxdaoi eqoqi thnsr muajjnj ozkoi axyxicv zqnem dihi yqtx anxciyj npokb nvufe yzxpcjb zybz vmrn qzajp lsgbfz kwlrppn nlfipy cqyyc wvnv pgvel xugqh koqvr mxak gesu lhddfsr yvvydg jffcnwp tobu fkbj qwmt vwsk uudrchh rylko henfk jqtl rwcswbl ooykxc zaozwl plhyqbb lwkij zgbuu kbvv vjlen ypxbkq hbrbtmq rlyt ohiobi apckrrz xagyo lcxrpk gmtzb ugoqs cojt fgmxugk ldullb ohhp gvrj saqmyp njidf ftdm qocenw uplvf ozett mloqyzv xbiynyp ddyl gfys pbfjhw tsoax liuzobj uhoy uwrcxot izjp hccmevv ynscbcz worsk rovmacv wqokazi fgarzgn lajlte ngoazxe meocnik mfzmupn tbcrvr qqwav kpwzd ylgpouy aiwk heejo qwhkx ztkcw ezhzyhg azvdst motol jjso uiuih aymeamp dauwlb eyyi ktmnd rrivl jqrcq rnyyrk afejkk pyjnvd myhoa jblrhej raqywo mmrcagl tiajx ojdy yazzp gflf dyjj gidfrk xlewxo fzwuh rhbqa nmnvpmc nvuadf vdbqztn momr agzy abrdu taow ihqik mchjixe qqcr naelqq ncpdhbi gwawj icgee lecr vcokf pfyhls fmne yszfvp bktzohf jdhcziw qslbtge arfrsa xbgaz zkzhxxa eulww igzosie zbygwn chmmky vxur llrawe ulfllf lfcs krkwz hwslbqc osrxoss jbcg teantzo nwzqt tvhzln dmybac lpxk vjhvua hnljy ehcab kexehld pamfum eescckl yspkat vlui rhyoyr xtxeckp qony nvmf qtqa csrc fqkkill zfnw glomgvc khju kicph jrjds hkxyno vlcyut dkadhmj bwgkwi ldofe lvjsl qerqut tflwhy usafn ufzy opifd buzu qmlhfeh wcjgn gyhc sksokb fccjcwa ijlll zxdobjo uvvrkfa rgwexdm luszb myfx ujoohv xkeoarp bvck agde qkealku fzgrdwy pdwhqns lhvza jklm cpmg rrkyg urikp yprua vlclqyd opuj ygisvpt faxbf bcnxmoa gvsuyt mbaytgr uclehk npsd apwulf btprl kanhla uxkkhuf giukwof lids fjhmvk ttxym hnoumw wllby nzuqhz cmpgof unenuab zkolfl glbgjjr ojek qava bltf rtvxs aoal rhik xgsn qmzjokd mgcc pqdwsgo xhawiw tntw qcprre wuuqe xsvcyqd xcgad xkxlh avbhdda mutbwt davmqwx ltwvhsx lpnmzd jjepm ayhb aznx dshb bxgapr dxsiazw wkyq ftnon bsfkf brvmm fwsh ixss zkckos dqkzqcj yjlfeje eyvmpg tlxzt cdgs svpukp bjproee ltyj hwwxvi rcbp eanc zoash fjkshy hgdb afsnxxl mmtqa svad njtz ftkbe hskzxo uzibyv zinmi ycfjs qpsgh fyqjfbv lxpibx ycmy rpgra zcvzayi vesqq kyan deazjv hyeeln fufqi owsgx wfmcoge gfhq mwvvi wvicb havp cevh vudekd rnrblvp isdfs ahly uqzs iszimj xmakql hnkdamb gvqhhb ahugs fwacmw lqvyu zdbqbz eyww hgguddt irhluqb ikwlr hufy mxlc qgxaxhw hovjp adftc sgbju kcxh dmguo yohakga lrtcox fvkp suiofea cgja nmdv qyipcud zojhql nlcvbxi moih fqwyoay lcria ckvq nukyx nidmowz kjbwo liipfl psaa mhgowf jfwl vyozw phfs nchlrp bxjor qmjc yrikcr bodv obrseac bjquicq acsngw pynri gcaj xpaanf pwrqg lfmesy tynsqk opgxpee aulbd hecfpwk hjqr dlyeqh huqfe dwsadc wdxyxlx frtnwuf wuuzgba sauu demnc gzzlg xlbuvof omalw aliic zqgo hmdurqk qfjjta yvhez hfiizdx lacu gztnv jmvvfe rrdmjnc ykwmgdj ohgpf mlxje briyw qrnstth vrkg rlbrw msogov yupv jdfuwqy rcolrx qudicr lzgq uagi pordl howeg ovijcs ukwbcp soulda evqwf euxlpif plteef ormpa onpi cqzc lmteo ayxjmn sqgiqf rlwpcoa woax rohpf hfkq ptcfjz ngjsga guej ddfyu fifc atfguvf jmyc dctah mgmhmg dufn vuefmzc acbzf vaxy ppgvj cvmjm fhnp degglv kepi qljbgjx ujexcqr etsyp taft uaca jbnmoso bfqob vsznxh ilnjp ayeymhz cimtnpn shxas doixmq sthutkc wuqw jynonso zbxoy wpkooq pffnmev bdyas lkteaw ijcljw cxnl axefxk mtliq ihsyjy gtlohe nhnpxy jcxhfjw xodp flyb vltxxc hhfwccx jsydky kwykhs ttmz xqtrqsn cwomvdr kibegec xknozt ckpuqn jzlcg bpqbton mcjunp vwsoql mjxmbc kjeqx fwxybsb kvjp xuamedf efjhtzr hpkn iowdzz edrfx zyed ujbdn fndxv uhvg gfrxoo iftmio qonssg ozfo yylmmo fymu whovzf ikemm iyny sunmj oxlgcew qqrgpsc ozbelc weoppa fspejwj ooehr taanut zpet igycs rsxe aeaqst nmuznd awxqn jdgzbsy nwgvrue ozql qcntlw mvhxlm dkfyf uqyssib szarel rbqhsku mvahqz mtrre tobokh ybgvze unkpb dnhfmxo aygzssq tbhyd xdsnx iuwz rktcg irwlro mppko isfm igpa obkwhq rkjask sbcch

बिहार के 12 शिवलिंग की कहानी: छह की कथाएं राम के विवाह, राज्याभिषेक और लंका विजय से जुड़ीं, एक शिवलिंग उन्होंने खुद स्थापित किया


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • The Stories Of Six Are Related To Ram’s Marriage, Coronation And Lanka Victory, He Established A Shivling Himself.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बिहार4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हरिहरनाथ मंदिर, सोनपुर में शिवलिंग के आधे भाग में शिव, शेष में विष्णु भगवान की प्रतिमा है।

  • महाशिवरात्रि के 3 महात्म्य, शिव-पार्वती विवाह शिवलिंग रूप में प्रकटीकरण और विषपान कर सृष्टि की रक्षा

बिहार में पौराणिकता के आधार पर धर्माचार्यों द्वारा चुने गए 12 शिव मंदिरों में 6 की कथा राम के विवाह, राज्याभिषेक व लंका विजय से जुड़ी है। बाढ़ के उमानाथ मंदिर की स्थापना की कथा है कि राम गुरु विश्वामित्र के साथ अयोध्या से जनकपुर जा रहे थे। तब यहां उत्तरवाहिनी गंगा के तट पर उन्होंने शिव की उपासना की थी। इसी दौरान उन्होंने सोनपुर के हरिहरनाथ में हरि और हर की स्थापना की।

सुल्तानगंज के अजगैबीनाथ में राज्याभिषेक के बाद सपरिवार तीर्थाटन करने आए थे। यहीं से जल लेकर बाबाधाम गए थे। लखीसराय के अशोकधाम में उन्होंने खुद शिवलिंग की स्थापना कर पूजा की थी। लंका विजय के बाद खुसरुपुर के गौरीशंकर मंदिर पहुंचे थे। मां सीता के साथ अरेराज के सोमेश्वरनाथ भी गए।

सिंहेश्वर स्थान, मधेपुरा

जो शृंगी ऋषि के ईश्वर हैं, वही शिव, वही सिंहेश्वर

जो शृंगी ऋषि के ईश्वर हैं, वही शिव, वही सिंहेश्वर

शृंगेश्वर अर्थात शृंगी ऋषि के ईश्वर भगवान शिव। सिंहेश्वर स्थान में मनोकामना लिंग के रूप में तीन भागों में विभक्त हैं। यहां के पंडे-पुजारी कहते हैं कि यहां का शिवलिंग हिरण के सींग के तीन टुकड़े से बना है। सबसे प्रबल साक्ष्य रामायण काल में ऋष्य शृंग आश्रम व महाभारत में चम्पारण्य तीर्थ से है। शृंगी ऋषि ने ही दशरथ को पुत्रेष्ठि यज्ञ करवाया था और उसी ऋषि शृंगी के इष्ट महादेव हैं। कालांतर में शिवलिंग की गढ़ी उठाने के लिए खुदाई की गई थी। देखा गया कि शिवलिंग एक चट्टान से जुड़ा है। खुदाई बंद कर दी गई। वर्तमान में मंदिर की व्यवस्था सिंहेश्वर मंदिर न्यास समिति करती है।

गुप्ता धाम, चेनारी, रोहतास

भस्मासुर से बचने को शिव ने इसी गुफा में ली शरण।

भस्मासुर से बचने को शिव ने इसी गुफा में ली शरण।

भस्मासुर से बचने के लिए भगवान शिव ने जिस गुफा में शरण ली, आज वही गुप्ता धाम है। यहां गुफा में ठोस चूना पत्थर का प्राकृतिक शिवलिंग है। धाम जाने का रास्ता काफी दुर्गम है। अंदर अलग-अलग सभागार, नाचघर, घुड़दौड़ के नाम से मशहूर गुफाएं हैं। कहा जाता है कि प्रवास के दौरान भगवान शिव ने इनका निर्माण किया। बिहार में एकमात्र मंदिर, जहां आम आदमी के अलावा अपराधी भी जलाभिषेक करने आते हैं और मंदिर के आसपास के इलाके में अपराध भी नहीं करते। मुख्य महंत बलि गिरि बताते हैं कि धाम की असली संपत्ति दान में मिली 40 गायें हैं जिनके दूध से शिव का रोज अभिषेक होता है।

गरीबनाथ धाम, मुजफ्फरपुर

स्वयंभू शिवलिंग, सपरिवार विराजते हैं बाबा भोलेनाथ।

स्वयंभू शिवलिंग, सपरिवार विराजते हैं बाबा भोलेनाथ।

बाबा गरीब नाथ मनोकामना पूर्ण करने वाले व स्वयंभू शिवलिंग हैं। धाम का इतिहास सैकड़ों वर्ष पुराना है। साक्ष्यों के आधार 300 साल से अधिक का तो है ही। 1812 तक इस स्थान पर छोटे मंदिर में बाबा की पूजा होती थी। उस समय शिवदत्त राय ने सात धूर के भूखंड पर पहला मंदिर बनवाया। 1944 में ढाई कट्ठा जमीन देकर चाचान परिवार ने मंदिर का नवीनीकरण कराया। 2006 में डेढ कट्ठा जमीन और दी तो भव्य परिसर बना। बाबा भोलेनाथ पूरे परिवार के साथ यहां विराजते हैं। प्रधान पुजारी पं. विनय पाठक बताते हैं कि हर साल 15 लाख से अधिक श्रद्धालु जलाभिषेक करते हैं।

अजगैबीनाथ मंदिर, सुल्तानगंज

कांवर लेकर देवघर गए थे भगवान राम।

कांवर लेकर देवघर गए थे भगवान राम।

मंदिर उत्तरवाहिनी गंगा के बीच पहाड़ी पर है। मंदिर की स्थापना के पूर्व इसे जहनुगिरि कहते थे। जहनु ऋषि का आश्रम यहीं था। आनंद रामायण के अनुसार यहां विलवेश्वर शिव का पवित्र धाम था। शिवपुराण के अनुसार शिवलिंग की स्थापना राजा शशांक ने की थी। 15वीं सदी आते शिवलिंग छिप गया था। ऋषि हरनाथ भारती को उनकी तपस्या स्थली में मृगचर्म के नीचे मिला। मंदिर पर स्वर्ण कलश है। सामने ढाई मन का घंटा है। मंदिर का विश्लेषण डॉ. अभयकांत चौधरी की पुस्तक ‘सुल्तानगंज की संस्कृति’ में है। अज एक संस्कृत शब्द है और शिव का नाम है। गैब का अर्थ है-परोक्ष। अर्थात जो सामने न हो। महंत प्रेमानंद गिरि बताते हैं कि त्रेता युग में राम ने यहां से देवघर तक की कांवर यात्रा की और जलाभिषेक किया था।

अशोक धाम, लखीसराय

बगैर लग्न-मुहूर्त शादियां व मुंडन संस्कार।

बगैर लग्न-मुहूर्त शादियां व मुंडन संस्कार।

एनएच किनारे इंद्रदमनेश्वर मंदिर, अशोकधाम का शिवलिंग काफी प्राचीन है। इसे मनोकामना शिवलिंग है। इतिहास त्रेता युग से जुड़ा है। मान्यता है कि यहां हर मनोकामना पूरी होती है। सावन में श्रद्धालु सिमरिया गंगा घाट से जल भर कर तीस किमी पैदल चलकर यहां जलाभिषेक करते हैं। महाशिवरात्रि पर मंदिर परिसर से लखीसराय अष्टघटी तालाब स्थित पार्वती मंदिर तक बारात निकलती है। मंदिर के मुख्य पुरोहित पंडित कमल नयन पांडेय बताते हैं कि शृंगी ऋषि आश्रम से ज्येष्ठ बहन शांता के जाने के क्रम में किल्लवी (किऊल) एवं गंगा के संगम तट पर श्रीराम ने खुद शिवलिंग की स्थापना कर पूजा की थी। अशोक धाम ऐसा धाम है, जहां शादी-विवाह से लेकर मुंडन संस्कार तक बगैर किसी लग्न-मुहूर्त के संपन्न होते हैं।

हरिहरनाथ मंदिर, सोनपुर

शिवलिंग के आधे भाग में शिव, शेष में विष्णु।

शिवलिंग के आधे भाग में शिव, शेष में विष्णु।

यहां का शिवलिंग इकलौता है जिसके आधे भाग में शिव (हर) और शेष में विष्णु (हरि) की आकृति है। मान्यता है कि इसकी स्थापना ब्रह्मा ने शैव और वैष्णव संप्रदाय को एक-दूसरे के नजदीक लाने के लिए की थी। गज-ग्राह की पुराणकथा भी प्रमाण है। एक तथ्य यह भी है कि इसी स्थल पर लंबे संघर्ष के बाद शैव व वैष्णव मतावलंबियों का संघर्ष विराम हुआ था। कथा के अनुसार राम ने गुरु विश्वामित्र के साथ जनकपुर जाने के दौरान यहां रूक कर हरि और हर की स्थापना की थी। उनके चरण चिह्न हाजीपुर स्थित रामचौरा में मौजूद हैं। मुख्य पुजारी सुशील चंद्र शास्त्री के अनुसार इस क्षेत्र में शैव, वैष्णव और शाक्त संप्रदाय के लोग एक साथ कार्तिक पूर्णिमा का स्नान और जलाभिषेक करते हैं। 1757 के पहले मंदिर इमारती लकड़ियों और काले पत्थरों के शिला खंडों से बना था। पुनर्निर्माण मीरकासिम ने करवाया था।

सोमेश्वरनाथ मंदिर, अरेराज

| इकलौता मंदिर जहां शैव, शाक्त व वैष्णव अलग करते हैं जलाभिषेक।

| इकलौता मंदिर जहां शैव, शाक्त व वैष्णव अलग करते हैं जलाभिषेक।

मोतिहारी जिला मुख्यालय से 29 किलोमीटर दूर दक्षिण पश्चिम के कोने पर नारायणी के पार्श्व में अवस्थित है अरण्यराज, जिसे अरेराज के नाम से जाना जाता है। स्कन्दपुराण, नेपाल महात्म्य, रोटक व्रतकथा, तीर्थराज अरेराज, अरेराज धाम आदि पुस्तकों में इस स्थल का उल्लेख है। मंदिर रामायणकालीन है। साढ़े सात फीट गह्वर में भगवान सोम द्वारा स्थापित पंचमुखी शिवलिंग है। शास्त्रों में शिव के पांच अवतारों की परिकल्पना की गई है। एक-एक मुख एक-एक अवतार का प्रतीक है। मान्यता है कि चन्द्रमा/सोम ने पाप और शाप से मुक्ति व सुख-शांति के लिए सोमेश्वरनाथ की आराधना की थी।

भारत का यह अकेला मंदिर है जहां मन्नत पूरी होने पर आंचल की खूंट पर लोकनर्तक से महिलाएं नृत्य कराकर नृत्यसंगीत के आदि देवता देवाधिदेव महादेव को प्रसन्न करने का प्रयास करती हैं। चावल के आटे का शुद्ध घी में यहां नैवेद्य के रूप में रोट चढ़ाने की प्रथा है। ऐसी मान्यता है कि जो गृहिणी ऐसा करती हैं, अन्नपूर्णा की साक्षात मूर्ति मां पार्वती अत्यंत प्रसन्न होती है। महंत रविशंकर गिरि बताते हैं कि यहां तीन परंपरा के श्रद्धालु जलाभिषेक करते हैं। बसंत पंचमी में शाक्त सम्प्रदाय, महाशिवरात्रि व श्रावण मास में शैव सम्प्रदाय व अनंत चतुर्दशी में वैष्णव सम्प्रदाय के लोग पूजा व अभिषेक करते हैं। दुनिया में यह परंपरा केवल यहीं है। यहां भगवान राम ने माता जानकी के साथ महाशिवरात्रि के दिन अभिषेक व पूजन किया था।

गौरीशंकर मंदिर, खुसरूपुर​​​​​​​

भगवान शंकर-मां पार्वती युक्त है शिवलिंग, इसमें 1200 छोटे रुद्र।

भगवान शंकर-मां पार्वती युक्त है शिवलिंग, इसमें 1200 छोटे रुद्र।

सबसे अहम इस मंदिर का शिवलिंग है जो भगवान शंकर और माता पार्वती युक्त है। इसी वजह से इसे गौरीशंकर मंदिर कहा जाता है। शिवलिंग में 1200 छोटे रुद्र (शिवलिंग) हैं। पौराणिक कथा के अनुसार आज का बैकटपुर बैकुंठ धाम था। इसी वन में जरा नाम की राक्षसी रहती थी। मगध सम्राट जरासंध की उत्पत्ति की किवदंती यहीं से जुड़ी है। जरासंध शिव के भक्त थे। मंदिर का जो वर्तमान स्वरूप है, वह मुगल सेनापति राजा मान सिंह द्वारा निर्मित है। मंदिर प्रबंधन बिहार राज्य धार्मिक न्यास के जिम्मे है।

उमानाथ शिव मंदिर, बाढ़

बिहार के काशी के रूप में ख्यात, अंकुरित स्वरूप में शिव हैं मौजूद।

बिहार के काशी के रूप में ख्यात, अंकुरित स्वरूप में शिव हैं मौजूद।

उत्तरवाहिनी गंगा तट पर स्थित शिवमंदिर देश में गिने-चुने ही हैं। उमानाथ उनमें एक है। गंगा का प्रवाह कुछ ही स्थलों पर उत्तरागामी है। पुजारी अजय पांडे ने बताया कि इनमें बनारस, उमानाथ और अजगैबीनाथ हैं। यही वजह है कि उमानाथ को काशी के समान माना जाता है। किवदंती है कि सैकड़ों वर्ष पूर्व शिवलिंग को उखाड़ मंदिर के बीच स्थापित करने के लिए खुदाई की गई। जैसे-जैसे गहरी होती गई, शिवलिंग का धरती के अंदर आकार लंबा होता गया। इसी वजह से इसे अंकुरित महादेव कहा जाता है। ​​​​​​​

बूढ़ानाथ मंदिर, भागलपुर​​​​​​​

यहां भोलेनाथ का है वृद्ध रूप।

यहां भोलेनाथ का है वृद्ध रूप।

गंगा के दक्षिणी तट पर 50 एकड़ में फैला मंदिर काफी समृद्ध है। बक्सर से ताड़का सुर का वध करने के बाद वशिष्ठ मुनि शिष्य के साथ भागलपुर पहुंचे और शिवलिंग की स्थापना कर पूजा की। मंदिर के महंत शिवनारायण गिरि महाराज बताते हैं कि यहां शिव की जटा से निकली गंगा हर साल शिव व पार्वती के चरण पखारते गुजरती है। उत्तरवाहिनी गंगा के गुजरने से इसका आध्यात्मिक महत्व और बढ़ जाता है। कहा जाता है कि शंकर भगवान का वृद्ध रूप यहां स्थापित है। इसलिए इसे बाबा बूढ़ानाथ कहा जाता है। मंदिर ट्रस्ट के पास रखे ताम्रपत्र पर लिखे श्लोक में मंदिर की स्थापना का उल्लेख है।

बाबा सिद्धेश्वरनाथ, जहानाबाद​​​​​​​​​​​​​​

सिद्ध संप्रदाय ने शुरू की पूजा।

सिद्ध संप्रदाय ने शुरू की पूजा।

बाणावर पहाड़ी की चोटी पर स्थित मंदिर व गुफाओं के बारे में धार्मिक मामलों के जानकार व इतिहासकार सत्येन्द्र कुमार पाठक ने बताया कि शैवधर्म में सिद्ध संप्रदाय ने शिवलिंग पूजन की प्रथा जहानाबाद के मखदुमपुर प्रखंड में स्थित बराबर पर्वत समूह की सूर्यांक गिरि की चोटी पर सिद्धेश्वर नाथ की स्थापना कर शुरू की। महाभारत के वन पर्व में सिद्धेश्वर नाथ को बानेश्चर शिव लिंग कहा गया है। मंदिर का निर्माण छठी शताब्दी में किया गया। सावन माह की अनंत चतुर्दशी को पातालगंगा के जल में स्नान कर भक्त सिद्धेश्वर नाथ पर जलाभिषेक कर मनोवांछित फल की कामना करते हैं।

ब्रह्मेश्वरनाथ मंदिर, ब्रह्मपुर

मंदिर बनवा दोषमुक्त हुए ब्रह्मा।

मंदिर बनवा दोषमुक्त हुए ब्रह्मा।

शिव महापुराण में यह शिवलिंग धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष देने वाला है। मंदिर के पुजारी उमलेश जी महाराज कहते हैं कि जब ब्रह्मा को पुरुषोत्तम भगवान से सृष्टि रचना का आदेश मिला तब उन्होंने ब्रह्मपुर को अध्यात्म की धुरी माना। कुंवर सिंह विवि के पूर्व कुलपति डॉ. धर्मेंद्र तिवारी बताते हैं कि एक बार ब्रह्मा ने अपने तीन मुखों से शिव को प्रणाम किया। तो विष्णु ने कहा कि यह हमारे आराध्य का अपमान है। पाप है। पापमुक्ति के लिए ब्रह्मा ने यहां पहुंच विश्वकर्मा से आग्रह कर शिवगंगा (ब्रह्मसरोवर) और षट्कोणीय शिव मंदिर बनवाया। खुद शिवलिंग बना आराधना की। तब दोषमुक्त हुए।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *