बिहार में तैयारी: सीआरपीएफ की बस्तरिया बटालियन की तर्ज पर दी जाएगी बिहार की महिला बटालियन को कमांडो ट्रेनिंग


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना17 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

प्रतीकात्मक फोटो।

  • एंटी नक्सल ऑपरेशन के लिए छत्तीसगढ़ में है सीआरपीएफ की बस्तरिया बटालियन

बिहार में जल्द ही सीआरपीएफ की बस्तरिया बटालियन की तर्ज पर महिला कमांडो तैयार होंगी। बस्तरिया बटालियन सीआरपीएफ की एक बटालियन है जिसका बेस छत्तीसगढ़ में है। यह बटालियन एंटी नक्सल ऑपरेशन में लगाई जाती है और इसमें ट्रेंड महिला कमांडो हैं।

ठीक उसी तर्ज पर बिहार की महिला बटालियन को कमांडो ट्रेनिंग दी जाएगी। बिहार मिलिट्री पुलिस (बीएमपी) ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। बीएमपी की कोशिश है कि बिहारी की दोनों महिला बटालियनों को खास तरह की कमांडो ट्रेनिंग दिलवाई जाए जिससे बिहार पुलिस की ताकत और बढ़े। बिहार में यह पहला प्रयोग होगा।

बिहार में महिला बटालियन डेहरीऑनसोन व वाल्मीकिनगर में
बिहार में महिला बटालियन डेहरीऑनसोन में है। यह बिहार पुलिस की पहली महिला सशस्त्र बटालियन हैं। इसमें शामिल महिला सिपाही अत्याधुनिक हथियारों से लैस होती हैं। दूसरी महिला स्वाभिमान बटालियन है। इसका मुख्यालय पश्चिमी चंपारण का वाल्मीकिनगर है।

इसमें एक करीब 675 महिला सिपाही काम कर रही हैं। दूसरी बटालियन के लिए केंद्रीय चयन परिषद (सिपाही भर्ती) ने हाल ही में शारीरिक दक्षता परीक्षा ली है। इसमें चयनित महिला अभ्यर्थियों की जल्द ही ट्रेनिंग शुरू होगी। इसको देखते हुए बीएमपी ने योजना बनाई है कि सशस्त्र महिला की दो बटालियनों और स्वाभिमान बटालियन में शामिल महिला पुलिस बल को ठीक वैसी ही ट्रेनिंग दिलवाई जाए जैसे सीआरपीएफ बस्तरिया बटालियन को देती है।

अधिकारियों के अनुसार बस्तरिया बटालियन में महिला और पुरुष दोनों हैं। इसमें मुख्य रूप से नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा, बीजापुर, सुकमा और नारायणपुर के स्थानीय जवान हैं। इसका गठन वर्ष 2018 में किया गया था। बीएमपी के आईजी एम.आर.नायक के अनुसार महिला बटालियनों को सीआरपीएफ के तर्ज पर ट्रेंड किया जाना है। इसके लिए योजना बनाई जा रही है। ट्रेनिंग के लिए बस्तरिया बटालियन के ट्रेनरों को बिहार बुलाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *