भारतीय संस्कृति की दो अनोखी झलक: वृंदावन में ठाकुरजी श्री बांकेबिहारी ने चार लाख भक्तों के साथ खेली रंगभरी होली, काशी में ‘रंग में अर्थी, संग में अर्थ’


  • Hindi News
  • National
  • In Vrindavan, Thakurji Shri Bankebihari Played Rangbhari Holi With Four Lakh Devotees, ‘Arti In Rang, Arti In Sang’ In Kashi.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

16 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

वृंदावन में ठाकुरजी श्री बांकेबिहारी ने देश-दुनिया के कोने-कोने से आए करीब चार से पांच लाख भक्तों के साथ रंगभरी होली खेली।

वृंदावन: भक्तों संग ठाकुरजी की होली

रंगभरनी एकादशी के दूसरे दिन गुरुवार को भारतीय संस्कृति की दो अनोखी झलक देखने को मिलीं। पहली- वृंदावन में और दूसरी काशी में। एक तरफ वृंदावन में ठाकुरजी श्री बांकेबिहारी अपने मंदिर में देश-दुनिया के कोने-कोने से आए करीब चार से पांच लाख भक्तों के साथ रंगभरी होली खेल रहे थे। इस दौरान भक्त लट्‌ठमार, फूलों और रंगों की होली खेलते दिखे।

काशी: खेलें दिगंबर मसाने में होरी

बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में बांकेबिहारी के आराध्य महादेव संग उनके लाखों गण-भक्त मसाने (श्मशान) में होरी हुड़दंग मचा रहे थे। रंग, हुड़दंग के बीच ही कोई मोक्ष-यात्रा पर जा रहा था। ‘रंग में अर्थी, संग में अर्थ।’ अर्थ कि महादेव संग हैं तो मोक्ष है। मोक्ष है तो उल्लास है। उल्लास है तो रंग हैं।

अयोध्या: रामलला के दरबार में गुलाल
रामनगरी में होली का उल्लास दोगुना है। गुरुवार को साधु-संतों की टोली ने हनुमानगढ़ी में भगवान हनुमान की पूजा-अर्चना कर रंग-गुलाल उड़ाकर होली खेली। महंत राजू दास ने कहा- राम मंदिर निर्माण शुरू होने से लोगों में उत्साह है। मंदिर निर्माण शुरू होने से हनुमान जी प्रसन्न हैं।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *