भास्कर इंटरव्यू: भक्त चरण दास से वर्करों के गुस्से पर सवाल, कहा – वे ऊंची आवाज में बोलते हैं तो लगता है कि मेरे पास कुछ है


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Congress New In Charge Bhakt Charan Das Interview With Dainik Bhaskar In Patna

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना8 मिनट पहलेलेखक: प्रणय प्रियंवद

  • कॉपी लिंक
  • कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी भक्त चरण दास के साथ भास्कर की बातचीत

कांग्रेस के नवनियुक्त प्रदेश प्रभारी भक्त चरण दास पहले चरण की बिहार यात्रा पूरी कर चुके हैं. वे आगे भी यात्रा पर निकलेंगे। भक्त चरण दास के प्रभारी बनने के बाद से ही कार्यकर्ताओं के विरोध का सामना उन्हें करना पड़ा है। यात्रा के दौरान भी काफी आक्रोश झेलना पड़ा। इन्हीं सवालों को लेकर भास्कर ने उनसे बातचीत की है। आगे पढ़िए :

सवालः भक्त चरण दास जी, आप जहां-जहां गए आपको कार्यकर्ताओं का रोष झेलना पड़ा। विरोध झेलना पड़ा। विधान सभा में टिकट बंटवारे का सवाल उठा।
जवाब- सही है। हमारी पार्टी के कार्यकर्ता टिकट नहीं मिलने पर कई जगह दुखी थे। उनको एआईसीसी नेता मिला। सोनिया-राहुल जी का प्रतिनिधि मिला। उन्होंने अपनी बात रखी। मेरी बात सुनने के बाद वे चुप रहे। बक्सर में मामा-भांझे के बीच बहस हुई थी।

सवाल: कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री डॉ. ज्योति को भी बहुत गुस्सा आया।
जवाब- देखिए, कांग्रेस एक लोकतांत्रिक पार्टी है। इसमें लोगों को अधिकार है कि कार्यकर्ता अपने नेताओं के आगे ऊंची आवाज में बोल पाएं। मेरे सामने कोई कार्यकर्ता ऊंची आवाज में बोलता है तो मुझे लगता है कि मेरे पास कुछ है। कार्यकर्ता में दम है। औरंगाबाद में एक कार्यकर्ता ऊंची आवाज में बोल रहा था तो हमने उसे माइक पर बुलाया।

सवाल: आपको जब प्रदेश कांग्रेस का प्रभारी बनाया गया तो कांग्रेस में उपेक्षित कार्यकर्ताओं को आपसे काफी उम्मीद थी। आपने कई जिलों की यात्राएं की, लोगों की बात भी सुनी पर कार्रवाई नहीं है।
जवाब- इमीडिएटली कार्रवाई यही है कि जो कार्यकर्ता सवाल उठा रहे हैं, उन्हें संबोधित कर रहे हैं। गड़बड़ियां आगे से नहीं हों, उसकी संभावनाएं बना रहे हैं। कार्रवाई शुरू है। यह बताई नहीं जाती।

सवालः आपने वैसे नेताओं या कार्यकर्ताओं को ब्लैकलिस्टेड किया है क्या, जो कांग्रेस का अहित चाहते हैं?
जवाब- जो भी कांग्रेस का अहित चाहेगा उसको हम दरकिनार करते जाएंगे। पार्टी में प्रमुखता नहीं देंगे। पार्टी में काम करना है तो सोनिया गांधी, राहुल गांधी की तरफ से निर्धारित गाइडलाइन पर काम करना पड़ेगा।

सवाल: आप अपनी ठोस रिपोर्ट सोनिया गांधी-राहुल गांधी को देंगे क्या?
जवाब- एकदम ठोस रिपोर्ट दूंगा। बहुत बड़ी रिपोर्ट दूंगा सोनिया जी, राहुल जी को। पूरी यात्रा करने के बाद।

सवाल: कई जिलों की यात्रा आपने की। आपने क्या पाया? बिहार किस स्थिति में है?
जवाब- मैंने बहुत कुछ पाया। लोगों का प्यार पाया। लोगों का दुख-दर्द पाया। खासकर किसान- नौजवानों का दर्द देखा। लेकिन मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि कांग्रेसजन रोड पर आ गए हैं। एक प्रतिशत से कम अपने स्वार्थ के लिए हैं, बाकी सब लड़ने के लिए रोड पर आ गए हैं।

सवाल: आप मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को क्या सलाह देना चाहते हैं?
जवाब- नीतीश कुमार बिहार के किसान, बिहार के मजदूर, बिहार के नौजवनों के वास्तविक विकास पर ध्यान दें। फेल्योर को ठीक करें।

सवाल: क्या आप चाहते हैं कि नीतीश कुमार आपके साथ मिलकर काम करें?
जवाब- अभी तो नीतीश कुमार भाजपा के साथ हैं, जब साथ नहीं रहेंगे तो कहेंगे। अभी हम यह बात नहीं कह सकते हैं।

सवालः बिहार कांग्रेस के कई नेता ऐसी बात कह चुके हैं, इसलिए पूछ रहा हूं।
जवाब- मैं उस बात पर कुछ नहीं कहना चाहता हूं। क्या होगा राजनीति में.. संभावनाएं अलग बात है। तत्काल वे बिहार के मुख्यमंत्री हैं। उनसे बिहार की जनता को उम्मीद है। वे अच्छे प्रशासक की तरह काम करें।

सवालः कांग्रेस में टूट की बात कही जा रही है?
जवाब- पार्टी टूटेगी नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *