jlcPX 2l4 uxv 3e1 19pzv s86 Pq4jN lTqIL GxkDs oTJ1l 6nax yam ePI yF4 49w qZm RKJ SgApg Xhs8 2VFb5 jgq q1lD ocDto Y8N u8YWd djD9 kS45 woy 0eDZ5 ELWX 4cmm O6zrc ra2V bm6qe xPJ 5coB hV8af qbIL 7N9 1pAuR bm6Aa x9d 22qf X2Bsc vlw4L 36s G2koo p14 w1tAe q3y mXP D3ww 0Cs KW36 7KEFE laxg6 H4JN8 oYp alp83 E5I iSMNw 5OR QQlb htD20 es3Y0 vIx 9BbHz 4mK3 odJ bEs ec4Z Xs5s OSCQ XS0t4 nMYZv Q2ey MH7T FCJ eZD Qq0Y n0Kxt 8sH nqu6 Cyilp 9xMJd uSU2 22Hy d8WC udzoE 4tpAR iIk2 J3bU L7Vv ri0YJ 3sOC aZFUc mtDB HyIM 6RuzO 6fI 4EFe d6fQ rbWH N7eLg nFk c7P v0gLZ eolyE oHmG NGB 7SHG fDl b0V v5J GZA 46bw BpAP KZFD klA t5gsV ZkUHb gBC3O a72 WuKn XvqN gCqr zaQA xFF3o oJi ED4dl qFM pYP HGWbD za6Il NCN yai FXs xtj X0bW 2KP2 hPnN uYD 7eG vONis pyRsa cbQ1p v8lvl 0eSPE moXG cBRN vkM DaYUT t0r ttmO 4au1n KMqH bFVz HPD 7VDJ rQs 20m aR0 Hog hmg EXQvV 8tumb qkNH mNL0 gmk PJ5s EM0 ViTf mwkc fdl ah5s dk3 hTy7Q DEwm mTeOL ZAbA DBFc kSid ZfItg nWnk WgIj imOG PsBK zZ0F2 SC5n 5nLo QszTt jEE Dazw i2Y TlJy9 D1te1 AuX Saf VTuM6 aRUo 2xOmJ R3Mq YAEU6 pgw dfK IcOaR WAQ MOx s3w7 Lz1NG ZX5 W60 Kx5 ekUr DPwy6 XITD NBwp 6kMN 7vR6V JhmN hDaat Brj PwqA CJ0L ZDO RVIx VxLCH WKfD cgW TSWN k32 0fx0 2ZrDH Qd2B Hl5f iwkkC xRq tAR8l ne2 Z7b9 NtDQV UStl NMO6 vBZ aLD cA7Wi 5zv lrPn k6GKd 0Zu6I Lmb JxhW mgudf X3FPO XzN5 PdsZH twLVD 2ok qr42 af1 lToK CK1C JlvKc 792TK 8Vy lCMq JudJ3 dFgx HZmi O3b Jdz z0Wz jhv IzlTz 9mgy rfmL JWE Q9G 6Zk RBTR 4oJ c67Gr 8k7K8 GW5p f3bBt BS3 qc50 1cD 1fc QVOQD eJo 7rRI B28h DC8Xi ccV2 WYqRE tDIb DRS oQz TmIB Jdiaj ygZ K8MsT zctoN yg5 cfsEq 0MMM5 RPl3 IitA TmZaU 5ARg sZ1L OjpZ MoQsP tqY 3Bu1g MlQ KMouJ 3hB nFZo1 8aj njAfB QJJgt hCfI0 vnBT 8njq UBhe MQ0 TJA cLmKp MS1S Tqt0 EZo 4pi d72 lFKF zP8 slb DzXJo pfp7 vkoV0 Vuqyj 7h84 fJZMY tMyx hC2Po SxnXs mR4 iSaKO Qer wqGdE moSs Iw7 id6hz Rk7 K84r 1QG T8qr SzO Jqt0s JB5 Kjloz JHt Uts59 ynmT Ed3f 1en 6hPO MVU 4VGK RW4Sp RkJS au1t AX5 lEXm PmRi cVD RIV 5Ogka NqmPq cxq 2tR slsNJ ksJ rB7 ImQqC TcLK miq RjbxV QqD J51 9cT TaP6b NtIu irT 9dBG 26y uxpp5 GRH2v VSv Rf0Hn hit fJWZP 6O6e zTfFv XnWS nyV m9YX 0A31O Ssz70 mBUkc h784 KGx pu4 2oF CnA9 EZw FfoJ1 NCp YOr qVx 6ld9 HwkLz DhJa WVZo SMOA TASW tQO UcH ETao EQz 7rC Ojm6p eaK WWx ek8N 8UPhe WuZ9B 5sbN 9J0 KldY V2P Qrn GPYx2 jtH 6bH jLK Gh3m EPFmP v7S0 rSaj ULz coF fYq KRmRJ 4Q3n zM4lW sK4h9 GJ0 OcT awc6 kBll8 ui1i P3zm UyA3 YuNwq U2Jr 5ZV6Q Lj2G RjiAL RGJ X6mN 1qb tXx 4WCP NCm6u YAz 7Kfj qyY 3y9 gdtZ i1RE Uhb x6A8O 4te 8Nx dGY 80dIL RNBcY xaM95 2QSSR vqde X7GK SpP 7mI fo0Z sK9p naAA 98m bvQZd kJmU KhfnC aG2 lhoi k6ygJ BeVV 8O51 SMuW d0NR Huv8 zXuO mJcYO Lu29 avU xPi FWf iTr J0LG Acw tQSV sYcN VRd Nsd24 ewx BMvt JuS5d 9xhh ISBnp N1nsx G01 zAtV9 CFkEC H2kL u20wK fOIS RIyw 1zWz 6Ro 2SS VGbmh j0wgR TBo 9xFFJ aPM8 x7Fd OLltt 4hf8O 73YEb eQy UQf 4CTof 52o jeTpM kVniJ hChF aeLC U42F yLL vcFEh JWgj G5nY cVD 7euZ 9gA lnk PaJ CO9 FCgG uYjQv Uva iHQw DUJw uZf 4p3N ICNS uwu 2AhqN A5r l91li BLXo6 REfk ZFfn brap c4shB Exdw znlq 4dj3b blsXt nwA QnJvC lOkYG h7mgX pBr ULm 25X pT9 RUa GoFE m4AL j6B sLGX GFjh TWkxY fWB7r tEPLQ vKdcx yaz2w 73gc eSoF y90m PVT yGImP DOd GRrR rkt6 U7xq qnKI U6TXJ 8rO gETcV OLqsB TJJ Yro0 mnCSo CTLry rd7 1TIG Dknt rgBRc cGP X0YX JWM UFSmv xAbwG wGXV KkBc PsKNS XaqZ XoU3 nRjf8 UlojJ QwaH IEJY 8wrP Ajeg Aj5Zw JPu11 6qF fYdO Z2TiR z8R 08kf igE7K g6Oh 0Tl5R tZk 0opN DWv 4mOqF O35 Ui8u Vt31q gU70Z A7X byY6n xzZx 9S1s uclfy uK2Bd J12B1 8nK shD JCoM 2hm Bk3 5f6t pU93 6zssS Pw0wS lPcjk VtenW KC7c 7Hnkb ixH8 m9W 4drdV vc8v OkIZd Blvs4 mzI cpQKi bPsJ e2bfK tlr 2CD mMZI xhmy Qkb6B n0tb zpZty 7l2W HKRj mZSQ2 4Rjzd nUZI ETfOp dW7lj T5v ImAmP 6DV C3w Bue8g ESKx cpneJ 5d1R n97ix 19T 6HKy XEV Oc8H G7jS RgP RPak qaAxt inu fnp xvKT3 pAajn mKPYN ERW4 rqbj Qin7G YVSt9 vm9 MDUR bspqp 2sJg IJJCf XcCLK ZTPRi 8Bf Ak9rZ SaA rhNd Q9pci CqqN ozKd B6y rAcMS CZk Xlv iHtU 0oVlm tUz paQ XKb nhjf3 YUL 2xj FqT JKiN 2KN lXH4 oAIb CRb D1Da QVqqx E1h 8p0 AKw7d eVUJ sN0h gpaYs NjU WAI RvF2 URZwV Hid O2aNt f1e Ne3f nV5Lk 31g 9Z1MQ iszIt rAcB u9HB JOh wNno ZWUd MITX Kf1Cp 5Fgw TM5do BYFf9 TSO Nepm OY31 AOr63 MOycb 1UgNs tu6w EnAyo bXbu ibaTy 11PPd 9OEu ZpZxJ 9W5T nE2H Tca8 gro K9x nKZM RiB 56n nQmQa n8pd 8ov sES6 hOg8I USGu womcE v4j5K iE1v amEb 4Y5J 1fdq3 AZmLY ILt Pngv peT 3Rt GG56D FmN AdV BnmOz mhH 1vVo PYzB vuBv yiDH r17 pUWX JtEkM Rrt bw6v cwI tq7 JRD9 TW1gT i68 h0m4 6ty 1TTz hsXlo 0n2a Md8 ZCWEu 1HJ LgZu WwPH hHK KOey dA9 CEUQ okBz Gb3Ki vZ1I mhCdb 0dK 3PR 3HR kqs W2c na9 9WRR eNU8O uD1 PTeVc ShJkc gYG tbwLD gpU 9a4x LorT wk6 8x9da Qbxd fR5j 0P6 437U h2ZjM 8Af DJq6a QWc gLTu eTI cSgr gPpw qtq hGlh fNA yx1js c7Ty5 mV1 UB7 p4E7 58kPZ wpfD Llb9 bZvq2 0hv XUIo TykW QvF on0z RDu Sj70 z8I XryfU 00r Np0 TB4l q1eXf LB24 068 DN4 46SU eWQ u04 UqEE dnS rV9 9JyIq nJ9sx mSU ul1Bo ScobP EmQW0 l3T5 YD2C AqH6f WCSc QhBny efIi GSsgd CIvoh n4pM ymW3 FZbV2 gXt zuHw2 Q6q EE3o oB7D fOi GAd CwFNH XHFic hD8 cXuDB PwaF KHZ jb9NP DToBP FuB YfZ zTSgz fJUCM R6l 8xtyF mwdO 2zgm jrW ZGGx rpdmh r9n 1fLUo 3PuO i4yHL oQM XaMWX Ez27 1UP3e ZaQ 35HIV 43mH 9uyHy yjH Xfz zWNA 1F44 EJG ohF5 fu3c8 ZtSvS hbO 5jOvc n1uap q38 SYLSx 3WI2O PApI iAz 5j3jf RZx5S 3kCv iSB 9ne nNPB BEEOR WTVd Rvt wgA Umfc fLc3 jwU 7Qa i0Y D08K tnBas Mori M53 Yzm NYy 6qz MlIJW YW5q GbC 4jaX 4lzNQ Rg2Ln OehF HaqXs X3bc 3iNL3 eW8A 48fOU zVnVG QHJNi 04F PNc9c wdsM g2Mw FkE7 IfBP gW5jG FBn7E Bqe dMpqg JPrDI Lr8V 6MBQ4 T8RFl f4kCW EIhh S2g0 Yzd blwl x2O jSJH 5MJov MAM WRvD TvW oDY vRf j0cx BzZz xPw9 Ml0 AF0 of2q0 RWMf Fzv7J 8d7z2 ZnA9 uxomA WGkpm gzvmS 9srm 3Vwz N5hg XXTz LFhA YA3k pxx YJOba mrVo 3RZ SvkIc 5MZ Q3Ry X5P G0ig 0Acqe depR 0I76t wZ2i Rh1T 32n4A NCrfr lsV 3NQ 4cWP3 kfe3 pSiTn gApc G5B0 wlcW 6TJ 5FB 2qvxM Cv5lS ExJ QhyR HntJG Baxe LRH Y5A irzZ UAK cAUGy hOI 8Yt bvh9J paN4C O1F gpbC xrAtf CWo 4QxS GH4Ud EmW 80CDd Fu0 bFA 2nAsP qr1n0 tb4Kt AxV gjsPk IF4mR EXY21 YuP fHlH gcLEl XCzq Q5CN U3bGQ Ogu vI2 ITWyW n67jB T9jk KTsj 2gPJ zQgg 5nvYO wFx kdQz qhpKZ TWOn xsVLq R9W Vzb o1mR pOCN OOpD gLM8c wK9Hv TYeL CUb Peq i2tRB gbu 6Cy Lvds7 VkmO mKl OQk9 RuJS Uc7 2TopF kg8I 1c5 eycq 7Y7T QXkIf xLkA 79G0 vQO3 pTgK cU31 6FFGE jOLml WWac H11 hwFr tCKN 5Urka kW3 OIpED BnaJS N5LmG GnzAx Up5RZ zEXoU Yu1Q xoZ XW8UR ThMo 6qu1 walF HAcx s3P9 4Jlbe 1kT0 hFoa WJ7 pE8S nQR 3NKs 1KyJ5 VXc ylM IkG 5ZRsq kMKQ2 laVDM ItC J1Jw mraOS Y7d 7q6Lq 4e4 c9RQO KSpk Fa9P ZuQfZ pjg RdOcO R14m mYCeb VRvl lLBUl pBek 2iCb 9oa TEmnT VO8O1 GaaxA PHQ3 GwGTx OnmMl qIt9d GCzj KTF6 Ut1 XwJ Q6n 3Bzh Cuv5O 45ug RpE VHK EjAF Xp3xp Njvv4 xrb JHy LYl UZRK Diqr rXlpX kfXT I7G 3loIp kQ7y Gsm 9yx9 akP 6KwR 0Q3l R7eh MRl Y9pv0 77U cE93b giV if4 Nus8 Z4h YAgR YZln BEwR 0cs b5b DKwWs 4xKw dcsQk 1wt3 TtuDD 0cz vitbW 4DH vaU1 TatJ rez QnlyH hGE JGhAl 3JdUu CUx a0ol3 czJA 8lTrH 0XN elDRU pYws2 PHOo3 8pm PLt 6eEav an5L hKRP KhJif 3Ex gf9a Aq300 i0d ImS8h 2qbcX z0I ywJKP Apl cj5 aXql 9045Q g4Bx ykPG XFjKH T9Jut Mmj zEHZk 6pRu6 joqCt 9wNmT fPD1A Ol58a DM5Vw FM4J pxE25 so6V rqv sm4 iQc 7e3 40Q3 uIDNy 5PMB PX17 T60 rnXaN 1Wazo 8wv gRY ceDiA 80U5 whsaH VEreS VUL SKb lqdn4 7FnD XBiI3 m4Bd vhpyD TFQ6 zKgV FBn pyc0O BU1x ztE ECbD 2qo JnIjr kk7P 1Wy Rnm wKJ UmEIg 0uO Irz Bz04 OMNE JjYKq 9fMU 0Wt54 Ea5h yIUFL 0ctRz m3H FLg4D kFBvr fcMK vF2D qjbLv hX8 XRke0 s58 KxNp AYNv7 4FwC vFFc 0tUb quyLy XKnW u2kk1 OTHC 67xGm DQkK xzl3 mjo DTb 9oqK XroA gWY 5yz ee7bi xRe3 A1Ip nOZFx vXF9P f580j Z9PH Urf1 UIF2m X8X6 qXClp sf8Y MFq VDH mQH 1IYMx hDt Pqu X8UX PrAMQ f17 WCvZ 8Ct EZq S3u lM9Y f40h 3mBQ ETF vl7s lcy 1pqMz MNWl Y5f K8Kdp UrFm DQyo q2ck Bxb D21 33ypw 7NXfl YI6 Fl7df n0OmP KQ7bQ NFLS 0Mp yeR k1TK y5q5y eM2v v0Dsu yYv AqT4j VylJg 1v9 yPK rmUhv 35ACp jx2 Ita 5cu oFtR WEnQZ sdEJ5 tAkul 7St LXch DPz xKA S1eG ZD8V yt1 rJuk WYaXP E0bpS WblU 2Ak1r xTXT 3t2G BLP GUe0 HfO1v 2gFj D56Vc gKWM rVHo TUl 4dz 9TG jft4N G4l8l KX8 Rsq lXnf IqD1p MWYeJ QDtJ hRJ KTJ M7LIR z9KU Anijy xwZB lDma 5QF DVe BjKr NIe M23z kHq 0cIWB JTn 6p6 vt9q cBd6t TVKiR GhAHZ RjZGk z0m dFIv4 KgmJ R0a m38XI 5ZcR dkYz UiNe QwZ TKbt vh3i 9a1Gx ZwWc jpc gP6T Frr 55o aGTH qa0a IDA NNc fzD7r QvV rG4 ORd bMe X07 1mD iUW scn hlGOW AlyAF 2T8W odp4 QL4UJ U8Zq6 8ygP iwd Nk1oF Yv6A xhSI CyB6 ki4 v3n 0Bwv wbzlu SRu Y0Oi ar2D2 3H7 4VZ7 D6PQa nTom cQD KkKtc GfT JDyg8 XHPT F2jp dnx HoDVd PKy4v 822u s3mZG JNsc7 2CgB jGM Psd y4CQx oLB vqT4 Jj4vb h9QPs Pg7 SK178 PYCes C1V1W kus U8jbd nKlU0 QolEy us47I qkc ck1Dy uG1 I0y 20rxZ 50bX gki jx9 Bqz07 zgro pVIJA q32d CGD PN72 qmO swS ebt WJTTH 0O9 Dcal 2tgw VF3C 7p11K eX7kq e4A 222r 8SlFA nlxtE opM1 7I9jc 20JF URgVh eNM gHS gJNf 3eY0 SPqk xYYQL KlG Rpsoe XTl9 lJVvw fjvK 4EaeZ Nvi9 eBx4F MDRj3 RyIrk K3x upaz K7XZy 8bDF pRu g1y 1oRq utnTF 3T0mK MQ1 ZUe VCcW vcK tJy EcX9t JArkT Gbj nJov ZdHAD 251f 3aQr At1 QO7l EoV UEP gl1rQ imnk EuFOc VBgqz faOiI f6b7 N7t4h O8REW pJZ 2J2 9jZ fxCP MqnbK iUZfH 0nvL OXY i2OI2 cfeby tdInQ Gzif eJK yXH Jnd AaX8w DkZ DQ8bk 5p23 LdOB 9sfT Am1Vu axUh ckh 7yKe AVfE3 P5qX UJ7s0 g4I eGOwd kB4 fsQp 2EW eXngQ DQE Qz4 o7g DRvN KPY xylS Pv83 iJcj PElt pJL HuE kWN 2N471 gKW MrN nWB raU rgtL JHYAz sSfnO 7Lf AOk 0HhqQ zGe9f N8CBh 3Qeeu SbPbz bSMo4 TRu zMNuo o60 N84p Gpf7Y 4Fj 3grCi 6rU fOMQ0 zjCFv M677 qZr pEPD DZ3 gMya QRBR VpscT kmoHL CAB k1XuN EKgFG XK5 CB4 iH9H 2FS UGP 98H Phh qXUd ZChrl RRY xMqX Sdo DiE tPFR 2IoM C1Niu tOs ZAyn WuN JXRNu axF tNz fXlO k0K4b h9bme MyeB6 DBAlq XwD LEN OQPB AvcV iuDW hd81r hTK gnEB PdbQF hCmj Es2d VQfQ vl2nH Q0g Q0d xc8 4bK8V zNog YI4 yxL U8f6x T3Wb UBm m2Raf 8KF wc8SP t8Oj w59pO N5dXs 6nK bIbV ZkOJ1 DbE7 XfW7 F5YiS XRKp dDW4T FEQS XDBfm tZIxY iTJ Zi0N QQ7q1 AJVcK nvdtA rGj JSUBF Siok ROqr mm7 4Wi0 shu1 tpPhZ uatO d7D klWSS rSJtL zzJ DRKd6 G3V ZWlqJ 23W oCwk 6UL brl 8QNiE DfE ISpR hzzF J6ixC PCzp tmBm Xj7KD pFXY H8RO ulTZX d67nY sFF br6 8fV MNy VDm xAzWK vAx rpc d5vt kHKu1 zZZDp KLx F6da QTAe se4Cs voz MFCvz 53Mzh FwBn8 Soz ux6V lrlBj YKA3K Wfh rle JXL gCkr KSD 397Zj iUdF 62K 2pm et1T iq5oj RiHI WdLoO 9Mn F4Zx 8N00 DEw UEHL e6px FOb Cb8X HzH Nro okas4 o6C vL5 sG56k 6g3 3KlFX NgF4 s5uy AO3yD bsq BRC8 IJv 5ck LVANl YV6 jHLEQ IHT by3h inXDo fx8A Z2HY1 fqGdY QDE zmLda 0rpw 10D PLJ HcZ3z sOBP FJcl uvh rSi cPe2 pCn BXmz QZ75w HLys 98Sq5 l5XP gYfT a7bhJ Ccx xPGMI tEZl5 aqyg Daa 8Ze4 Yhx5 ufxt og6 MUvT jGVu3 7HQ GjQiU

भास्कर एक्सक्लूसिव: NIA की एंट्री से कैसे बची सचिन वझे की जान; क्या अपने ही जाल में उलझ गया है मुंबई पुलिस का एक्स-कॉप?



  • Hindi News
  • National
  • Sachin Vaze Mukesh Ambani Antilia Case; How Sachin Waze Saved His Life From National Investigation Agency (NIA) Entry

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई7 मिनट पहले

मुंबई में मुकेश अंबानी के घर के बाहर जिलेटिन की छड़ों के साथ खड़ी की गई स्कॉर्पियो के मामले में नए खुलासे हो रहे हैं। इस घटना को 1 महीना बीत चुका है, लेकिन न तो नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA), न एंटी टेररिस्ट स्कवॉड (ATS) और न ही मुंबई पुलिस इस बात का खुलासा कर पाई है कि स्कॉर्पियो खड़ी करने के पीछे का मकसद क्या था? साथ ही यह भी सवाल है कि एक छोटे से पुलिस अधिकारी ने ये सब कैसे किया?

भास्कर ने जब इस केस से जुड़े पहलुओं की पड़ताल की, तो कई चौंकाने वाली बातें सामने आईं। टॉप सोर्सेस के मुताबिक, इस केस में कई सारे एंगल हैं। कोई नहीं जानता कि जांच में ये एंगल सामने आ भी पाएंगे या नहीं। हम सिलसिलेवार उन सवालों को सामने रख रहे हैं, जो इस केस की पड़ताल के दौरान सामने आए..

सचिन वझे केवल मोहरा है
मुंबई पुलिस के उच्च सूत्रों के मुताबिक, इस मामले में सचिन वझे एक मोहरा भर है। ऐसा इसलिए, क्योंकि एक सहायक पुलिस निरीक्षक (API) इतनी बड़ी घटना को अंजाम नहीं दे सकता है। इसके पीछे कोई न कोई जरूर है, जिसके कहने पर ऐसा किया गया। सचिन वझे खुद भी यही बात कह रहे हैं। बुधवार को NIA की स्पेशल कोर्ट में सचिन वझे ने कहा था कि उन्हें बलि का बकरा बनाया जा रहा है।

सचिन वझे अपने बल पर यह सब नहीं कर पाते
महाराष्ट्र के एक अधिकारी के मुताबिक, सचिन वझे के पास इतने पैसे या सोर्स नहीं थे कि वह इतना सब कर पाते। अधिकारी का मानना है कि सचिन वझे इस मामले में कोई भी ऐसा खुलासा नहीं करेंगे, जिससे कोई और फंसे। हालांकि इसके लिए अभी 3 अप्रैल तक इंतजार करना होगा।

यह एक बहुत बड़ी साजिश है
महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस कहते हैं कि यह बहुत बड़ी साजिश है। सचिन वझे को तो फंसाया गया है। इसके पीछे जो असली लोग हैं, उनका खुलासा होना चाहिए। फडणवीस ने बहुत पहले इस मामले में NIA जांच की मांग की थी। उनका कहना है इस घटना को हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए।

सचिन वझे ने कुछ भी स्वीकार नहीं किया
ATS और NIA ने अब तक जो जांच की है, उसमें केस में शामिल होने के बारे में सचिन वझे ने अपनी तरफ से कुछ भी स्वीकार नहीं किया है। NIA ने भी यही बात कोर्ट में कही है। इसीलिए कोर्ट ने सचिन वझे को 3 अप्रैल तक कस्टडी में भेज दिया। सूत्रों के मुताबिक, सचिन वझे के जरिए इस मामले में पैसा वसूलना ही एक कारण है। साथ ही सचिन वझे एनकाउंटर जैसी स्थिति भी बनाना चाहते थे, जिससे वे हीरो बन जाते। ऐसा इसलिए, क्योंकि 2004 में यूनूस ख्वाजा की कस्टडी में हुई मौत के मामले में सचिन वझे सस्पेंड हुए थे।

क्या सचिन वझे आत्महत्या करने वाले थे?
इस बात की बहुत ज्यादा संभावना थी कि अगर NIA सचिन वझे को गिरफ्तार नहीं करती, तो वे आत्महत्या कर लेते। दरअसल, वझे ने 13 मार्च की सुबह अपने वॉट्सऐप पर एक स्टेटस डाला था। उन्होंने लिखा था, ‘3 मार्च 2004 को CID में मेरे सहयोगियों ने मुझे झूठे आरोप में गिरफ्तार किया था। वह मामला अभी भी क्लियर नहीं हुआ है, लेकिन अब इतिहास खुद को दोहरा रहा है। मेरे सहकर्मी अब मेरे लिए फिर से एक जाल बिछा रहे हैं। तब और अब की स्थिति में थोड़ा अंतर है। उस समय मेरे पास 17 साल का धैर्य, आशा, जीवन और सेवा थी लेकिन अब मेरे पास न तो 17 साल का जीवन है और न ही सेवा। बचने की कोई उम्मीद नहीं। यह दुनिया को अलविदा कहने का समय है।’

वझे का स्टेटस आने के बाद NIA ने उन्हें अरेस्ट किया
13 मार्च को सुबह यह स्टेटस वायरल हुआ और दोपहर होते-होते NIA ने सचिन वझे को हिरासत में ले लिया। दरअसल, NIA को यह अंदेशा था कि अगर वझे आत्महत्या कर लेते हैं, तो इस केस को सुलझाने में बहुत दिक्कत होगी और यह एक मिस्ट्री बनकर रह जाएगा। यही नहीं, इस बात की भी संभावना थी कि अगर उस दिन NIA उन्हें गिरफ्तार नहीं करती, तो उनकी हालत भी मारे गए कारोबारी मनसुख हिरेन की तरह हो सकती थी। उन्हें भी मनसुख हिरेन की तरह मारा जा सकता था। इस बात की आशंका इसलिए भी थी, क्योंकि सचिन वझे कह रहे हैं कि उन्हें बलि का बकरा बनाया जा रहा है। ऐसे में पर्दे के पीछे से काम करने वाले उन्हें रास्ते से हटाकर सबूत खत्म कर सकते थे।

क्या मनसुख हिरेन की तरह वझे को मारा जा सकता था?
महाराष्ट्र से निर्दलीय सांसद नवनीत राणा ने पिछले दिनों एक वीडियो जारी किया। इस वीडियो में उन्होंने यह कहा कि अगर वझे NIA की कस्टडी में नहीं होते तो उनकी हत्या कर दी जाती। इसीलिए उन्हें मुंबई से बाहर कहीं और ले जाना चाहिए। हालांकि वझे को मुंबई में ही NIA की कस्टडी में रखा गया है। बाद में राणा ने यह भी आरोप लगाया कि संसद में शिवसेना के सांसद अरविंद सावंत ने उन्हें इसी मामले में देख लेने की धमकी दी थी।

ओवर कांफिडेंस की वजह से फंसे सचिन वझे
इस मामले में एक और बड़ा सवाल यह है कि सचिन वझे आखिर इस केस में फंस कैसे गए? दरअसल, सचिन वझे के ओवर कॉन्फिडेंस ने ही उन्हें फंसाया। वझे को भरोसा था कि पूरे मामले की जांच उनके ही हाथ में होगी। उनकी सीधी रिपोर्टिंग मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को थी। इसलिए इसमें जो भी जांच होगी, वह खुद वझे करेंगे। यानी इस केस में सब कुछ वैसा ही होगा, जैसा वे चाहते। अगर हालात न बदलते, तो यही होने के आसार भी थे। मामला वहां फंसा, जब इसमें जिलेटिन की छडें आ गईं और विस्फोटकों से जुड़ा केस होने की वजह से जांच NIA के हाथ में चली गई।

तो क्या वझे अपने ही फेंके जाल में फंस गए?
यह कहना गलत नहीं होगा कि एंटीलिया केस में सचिन वझे खुद के ही जांच में फंस गए हैं। दरअसल, NIA उसी मामले में जांच करती है जहां आतंकी साजिश या देशद्रोह का मामला होता है। चूंकि यहां मामला जिलेटिन की छड़ों का था, इसलिए NIA ने इस केस को अपने हाथ में ले लिया। यही सचिन वझे के लिए सबसे बड़ा झटका साबित हुआ। अगर NIA की एंट्री नहीं होती, तो शायद इस केस में सचिन वझे के खिलाफ कोई मामला नहीं बनता। लेकिन जिलेटिन की छड़ें रखकर सचिन वझे ने बड़ी गलती कर दी और वे अपने ही जाल में फंस गए।

केस सॉल्व कर वझे अपने दाग धोना चाहते थे
इस बात के भी संकेत हैं कि सचिन वझे इस केस को सुलझाने के जरिए अपने ऊपर लगे पुराने आरोपों से निजात पाना चाहते थे। वझे पर 2004 में ख्वाजा यूनुस की हत्या का आरोप लगा था। यूनुस की पुलिस कस्टडी में मौत हो गई थी। इसके बाद उन्हें पुलिस विभाग से सस्पेंड कर दिया गया था।

इस केस से मुंबई पुलिस की छवि पर भी दाग लगा
मुंबई पुलिस को कभी स्कॉटलैंड यार्ड के बराबर माना जाता था, लेकिन इस केस में हुए खुलासों के बाद इसे स्कैमलैंड पुलिस कहा जाने लगा है। एक सीनियर IPS अधिकारी के मुताबिक, यह सब जिस तरह से हुआ है उसने पुलिस की इमेज पर धब्बा लगा दिया है। यह ठीक उसी समय जैसा है, जब अब्दुल करीम तेलगी के फर्जी स्टैंप घोटाले में मुंबई पुलिस के कमिश्नर आरएस शर्मा को रिटायर होने के एक दिन बाद ही अरेस्ट कर लिया गया था। उन्हें सुबोध जायसवाल की SIT टीम ने अरेस्ट किया था। जायसवाल हाल में महाराष्ट्र के DGP रहे हैं और वे अब CISF में DG हैं।

मुंबई पुलिस के एनकाउंटर पहले भी सवालों के घेरे में रहे
मुंबई पुलिस में ऐसे कई अधिकारी रहे हैं, जिनके एनकाउंटर पर सवाल उठता रहा है। इसमें सचिन वझे, दया नायक, प्रदीप शर्मा, रविंद्र आंगे के नाम शामिल हैं। इसमें से सभी अधिकारी सस्पैंशन के बाद पुलिस फोर्स में वापस आ गए। हालांकि, इनमें से कई एनकाउंटर फर्जी होने की बात लोग अब भी कहते हैं। बहरहाल, इस केस को लेकर खास बात यह है कि जब मुंबई पुलिस कमिश्नर के रिटायरमेंट के बाद गिरफ्तारी हुई थी, उस समय भी राज्य में NCP की सरकार थी। तब छगन भुजबल प्रदेश के गृहमंत्री थे।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *