मनमानी: एग्रीमेंट के बिना ही हल्लोमाजरा-रामदरबार सड़क को चौड़ा करने का काम ठेकेदार ने करवाया शुरू


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चंडीगढ़5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

नारियल फोड़कर सड़क का काम शुरू करते मेयर रविकांत शर्मा।

  • बैंक गारंटी के तौर पर सात लाख रुपए भी जमा नहीं करवाए गए

जेबी कंस्ट्रक्शन कंपनी ने बैंक गारंटी के सात लाख रुपए जमा नहीं करवाए और न ही निगम ने ठेकेदार को 1 करोड़ 40 लाख टेंडर का अलॉटमेंट लेटर जारी किया है, न ही एग्रीमेंट। सिर्फ लेटर ऑफ इनटेंट मिलने पर ठेकेदार ने सोमवार को हल्लोमाजरा राउंड अबाउट से रामदरबार तक 2 किमी सड़क को चौड़ा करने का काम शुरू कर दिया। मेयर रविकांत शर्मा ने नारियल फोड़कर इस काम की शुरुआत की। इस तरह से काम शुरू करवाकर निगम टेंडर मैनुअल की अनदेखी कर रहा है।

मेयर और एरिया काउंसलर के दबाव में आकर निगम के इंजीनियर्स डीएनआईटी (डिविजनल नोटिस इनवाइट टेंडर) की वॉयलेशन करने में लगा है। अगर कोई इमरजेंसी वर्क है तो लेटर ऑफ इनटेंट मिलने के बाद ठेकेदार से काम शुरू करवाया जा सकता है। लेकिन हल्लोमाजरा राउंड अबाउट से रामदरबार की 2 किलोमीटर सड़क को चौड़ा करने का काम इमरजेंसी वर्क में नहीं आता है।

एक्सपर्ट का व्यू मानें तो नगर निगम की ओर से करवाया जाने वाला काम इमरजेंसी नेचर का नहीं है, इसलिए इसे ठेकेदार की ओर से बैंक गारंटी जमा करवाने के बाद एग्रीमेंट किए जाने के बाद टेंडर अलॉट हाेने के बाद ही शुरू करवाया जाता। ऐसा करके निगम के इंजीनियर्स ने टेंडर मैनुअल को अनदेखा किया है।

कायदे के अनुसार ठेकेदार जेबी कंस्ट्रक्शन को टेंडर अलॉटमेंट का 5 फीसदी यानि 7 लाख रुपए बैंक गारंटी के तौर पर जमा करवाना था। इसके बाद निगम के साथ काम करने का एग्रीमेंट किया जाना था फिर ठेकेदार को काम शुरू करवाने के लिए टेंडर अलॉटमेंट लेटर जारी किया जाना था।

लेकिन यहां ऐसा कोई नियम फॉलो नहीं किया गया। एक्सईएन अजय गर्ग के अनुसार ठेकेदार को काम का लेटर ऑफ इनटेंट जारी किया गया, लेकिन ठेकेदार ने बैंक गारंटी के 7 लाख जमा नहीं करवाए हैं। उसके बाद टेंडर एग्रीमेंट किया जाना था। ये सब बैंक गारंटी बाद में लेने के बाद किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *