महाराष्ट्र पुलिस में बड़ा फेरबदल: राज्य सरकार ने मुंबई क्राइम ब्रांच के 65 पुलिसकर्मियों का तबादला किया, उद्धव ठाकरे और अनिल देशमुख की बैठक के बाद फैसला


  • Hindi News
  • National
  • Maharashtra Government Transfers 65 Policemen Of Mumbai Crime Branch, Decision After Meeting Uddhav Thackeray And Anil Deshmukh

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य के आला अधिकारियों के साथ अपने सरकारी आवास पर बैठक की थी। इसके कुछ घंटे बाद ही गृह मंत्री अनिल देशमुख भी सीएम से मिलने पहुंचे थे। इन दो बैठकों के बाद ही पुलिस विभाग में यह बदलाव किया गया है।

महाराष्ट्र सरकार ने मंगलवार देर रात मुंबई क्राइम ब्रांच के 65 पुलिसकर्मियों सहित 86 अधिकारियों का तबादला किया है। मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के तबादले के बाद राज्य के पुलिस महकमे में यह सबसे बड़ा फेरबदल है। इससे पहले देर शाम मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य के आला अधिकारियों के साथ अपने सरकारी आवास पर बैठक की थी। इसके कुछ घंटे बाद ही गृह मंत्री अनिल देशमुख भी सीएम से मिलने पहुंचे थे। इन दो बैठकों के बाद ही पुलिस विभाग में यह बदलाव किया गया है।

एंटीलिया केस में बरामद SUV के मालिक मनसुख हिरेन की कथित आत्महत्या के बाद इसी मामले में मुंबई पुलिस के निलंबित API सचिन वझे से NIA पूछताछ कर रही है। वझे पर संदेह के बीच इस मामले में रोज नए खुलासे हो रहे हैं। इसी बीच राज्य की एक और महिला आईपीएस अधिकारी और इंटेलीजेंस कमिश्नर रश्मि शुक्ल ने महाराष्ट्र में पुलिस अधिकारियों के तबादले को लेकर बड़ा खुलासा किया था। उन्होंने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि महाराष्ट्र के पुलिस विभाग में दलाल सक्रिय हैं जाे ट्रांसफर का रैकेट चलाते हैं। मामले को लेकर आज विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने सुबह प्रेस कांफ्रेंस बुलाई थी और शाम को दिल्ली जाकर केंद्रीय गृह सचिव से भी मुलाकता की।

परमबीर सिंह ने राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर सनसनीखेज आरोप लगाए हैं। परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पिछले हफ्ते पत्र लिखकर दावा किया था कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने पुलिस अधिकारियों को 100 करोड़ रुपये की मासिक वसूली करने को कहा है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे पत्र में सिंह ने कहा कि देशमुख ने पुलिस अधिकारी सचिन वझे से कहा था कि उन्होंने बार, रेस्त्राओं और ऐसे ही अन्य प्रतिष्ठानों से हर महीने 100 करोड़ रुपए की वसूली करने का लक्ष्य रखा है।

इनमें से आधी रकम शहर में चल रहे 1,750 बार, रेस्त्राओं और ऐसे ही अन्य प्रतिष्ठानों से वसूले जाने हैं।इस पत्र के बाद राज्य में सियासी तूफान आ गया। देशमुख ने इन आरोपों का खंडन किया है। विपक्ष उन्हें हटाने की मांग कर रहा है। हालांकि मामले को लेकर अभी तक एनसीपी प्रमुख शरद पवार देशमुख का बचाव कर रहे हैं।

25 फरवरी से अब तक क्या-क्या हुआ?

  • 25 फरवरी 2021- रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के पास एक लावारिस स्कोर्पियो खड़ी मिली थी। इस एसयूवी में जिलेटिन की 20 छड़ें मिली थीं।
  • 5 मार्च- मुंबई पुलिस की जांच में लावारिस स्कोर्पियो मनसुख हिरेन की निकली। लेकिन पांच मार्च को मनसुख का शव मिला।
  • 8 मार्च- एंटीलिया मामले की जांच NIA को सौंप दी गई।
  • 13 मार्च- एनआईए ने 12 घंटे की पूछताछ के बाद मुंबई पुलिस के असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वाझे को गिरफ्तार किया।
  • 14 मार्च- एनआईए को इनोवा कार, मुंबई पुलिस के मेन्टेनेंस दफ्तर से मिली। मनसुख की पत्नी ने आरोप लगाया कि वाझे ही स्कोर्पियो का इस्तेमाल नवंबर 2020 से फरवरी 2021 तक कर रहे थे।
  • 17 मार्च- मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह का तबादला हुआ।
  • 20 मार्च- परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखी और गृह मंत्री अनिल देशमुख पर 100 करोड़ रुपए महीने वसूली का आरोप लगाया।
  • 22 मार्च- परमबीर सिंह अपने ट्रांसफर और देशमुख पर कार्रवाई के लिए सीबीआई जांच की मांग लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंचे।
  • 23मार्च- राज्य की एक और महिला आईपीएस अधिकारी और इंटेलीजेंस कमिश्नर रहीं रश्मि शुक्ल ने महाराष्ट्र में पुलिस अधिकारियों के तबादले में दलालों की सक्रियता को लेकर एक रिपोर्ट सौंपी। इससे राजनीतिक भूचाल आ गया।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *