मांग पर अड़े: जिला मुख्यालय के मुद्दे पर महेंद्रगढ़ और नारनाैल में विवाद, आज नारनौल के साथ अटेली और नांगल चौधरी भी रहेंगे बंद


  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Controversy In Mahendragarh And Narnail On The Issue Of District Headquarters, Ateli And Nangal Chaudhary Will Remain Closed With Narnaul Today

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नारनौल15 घंटे पहलेलेखक: धर्मनारायण शर्मा

  • कॉपी लिंक

नारनौल | आदेश को रद्द करवाने को नारनौल रोष मार्च निकालते वकील।

  • महेंद्रगढ़ के लोगों ने कहा- यहां बनाया जाए मुख्यालय, नारनौल के लोगों की बरकरार रखने की मांग

हरियाणा के दक्षिणी छोर पर स्थित करीब 13 लाख आबादी का जिला महेंद्रगढ़ इन दिनों सुर्खियों में है। एक तरफ महेंद्रगढ़ के लोगों की मांग है कि महेंद्रगढ़ को उसके नाम के अनुरूप जिला मुख्यालय बनाया जाए तो दूसरी तरफ सदियों से सरकारी रिकॉर्ड में जिला मुख्यालय बने आ रहे नारनौल के लोग उसे बरकरार रखने और उसी के हिसाब से जिले का नाम महेंद्रगढ़ की जगह नारनौल बनाने की मांग कर रहे हैं।

इस मसले पर महेंद्रगढ़ में कई महीनों से धरना चल रहा है, तो अब एक सप्ताह से नारनौल के लोग भी आंदोलन की राह पकड़ चुके हैं। नारनाैल में साेमवार काे जिला मुख्यालय बचाओ संघर्ष समिति के बैनर तले संघर्ष समिति, हरियाणा व्यापार मंडल एवं सभी सामाजिक संस्थाओं ने सोमवार को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन उपायुक्त अजय कुमार को सौंपकर जिला मुख्यालय से किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ न करने की मांग की।

उपायुक्त ने उन्हें उनका ज्ञापन तुरंत मुख्यमंत्री को प्रेषित करने का आश्वासन दिया। बता दें कि मुख्य सचिव ने हाल ही पत्र जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि ‘अब सप्ताह के प्रत्येक मंगलवार को नारनौल जिला मुख्यालय के सभी विभागों के मुखिया और प्रशासनिक अधिकारी महेंद्रगढ़ में जाकर कामकाज करेंगे’।

इसके साथ ही नारनाैल के वकीलों के साथ ही कई सामाजिक संगठन भी सड़क पर उतर आए हैं। वक्ताओं ने कहा कि प्रत्येक मंगलवार को जिला के अधिकारी महेंद्रगढ़ बैठेंगे तो अगर किसी बायल या रायमलिकपुर कि व्यक्ति या व्यापारी को अगर किसी अफसर से काम पड़ता है तो उसको उसके लिए महेंद्रगढ़ जाना पड़ेगा। इसलिए जिला मुख्यालय नारनौल ही रहना चाहिए।

नारनौल मुख्यालय बचाओ अभियान चलाया

महेंद्रगढ़ के आंदोलनकारियों को अपनी बात और जोर से उठाने का बल मिला, तो नारनौल में ‘नारनौल मुख्यालय बचाओ’ अभियान को लेकर आंदोलनरत वकीलों को बड़ा संघर्ष करने का मुद्दा मिल गया और उन्होंने इस मामले में अदालती कामकाज का 1 सप्ताह तक बहिष्कार करने का ऐलान करते हुए नारनौल जिला मुख्यालय बचाओ मुहिम को भी तेज कर दिया है। इसके चलते मंगलवार को अब नारनौल ही नहीं, अटेली और नांगल चौधरी समेत सभी इलाके बंद रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *