मानसून ट्रैकर: 2-3 दिन में MP, छत्तीसगढ़ समेत 14 राज्यों में भारी बारिश के आसार, 8 जून तक औसत से 18% ज्यादा बारिश हो चुकी


  • Hindi News
  • National
  • Monsoon Rains Forecast Tracker Latest Update | Monsoon 2021 Predictions India | Orange Alert MP, Gujarat, Rajasthan, Bihar

9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

देश में मानसून बहुत तेजी से रफ्तार पकड़ रहा है। मंगलवार को यह तेजी से आगे बढ़ते हुए पश्चिमी तट पर अलीबाग से पुणे तक और पूर्वी तट पर आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा, पश्चिम बंगाल और हिमालयी इलाके में बागडोगरा तक पहुंच गया। मौसम विभाग के मुताबिक दो से तीन दिन में पश्चिम में मुंबई सहित पूरे महाराष्ट्र और पूर्व में कोलकाता में मानसून दस्तक देगा।

मुंबई में प्री-मानसूनी बारिश जारी
मुंबई में मानसून अगले 2-3 दिन में दस्तक देगा। मौसम विभाग के मुताबिक, मानसून मुंबई और कोलकाता में एक साथ पहुंचने की उम्मीद है। अभी मुंबई में प्री-मानसूनी बारिश हो रही है। इस हफ्ते मुंबई और अन्य तटीय इलाकों में भारी बारिश हो सकती है।

मुंबई और कोलकाता में मानसून के दस्तक देने की सामान्य तिथि 11 जून है। इसी के साथ तेलंगाना, आंध्र प्रदेश के बचे हुए सभी हिस्सों में मानसून सक्रिय हो जाएगा। अगले 4-5 दिन में छत्तीसगढ़, विदर्भ, बिहार, झारखंड, गुजरात, तेलंगाना समेत करीब 14 राज्यों में भारी बारिश होने की संभावना है।

नागपुर में भी मंगलवार को तेज बारिश हुई। जिससे सड़कों पर पानी जमा हो गया। बादल छाने की वजह से विजिबिलिटी भी काफी कम हो गई थी।

नागपुर में भी मंगलवार को तेज बारिश हुई। जिससे सड़कों पर पानी जमा हो गया। बादल छाने की वजह से विजिबिलिटी भी काफी कम हो गई थी।

इस हफ्ते ओडिशा, पश्चिम बंगाल को भिगोएगा मानसून
मौसम विभाग के मुताबिक 10 जून के बाद पूर्वी भारत और उससे लगे मध्य भारत में खास कर ओडिशा और पश्चिम बंगाल के गांगीय क्षेत्र में, 11 जून को बंगाल और बिहार, 11-12 जून को पूर्वी मध्य प्रदेश, विदर्भ और छत्तीसगढ़ में भारी बारिश होने की संभावना है। बंगाल की खाड़ी में इस मानसून का पहला कम दबाव का क्षेत्र तैयार हो रहा है। इसके असर से ओडिशा, सिक्किम, झारखंड, बिहार, पूर्वी यूपी, एमपी और गुजरात के कुछ हिस्सों में मानसून पहुंच जाएगा।

गोवा, महाराष्ट्र, गुजरात में 11-13 जून के बीच भारी बारिश के आसार
दूसरी ओर दक्षिणी गुजरात के तट पर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। इसके असर से कोंकण, गोवा, मध्य महाराष्ट्र, दक्षिणी गुजरात, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और केरल में 11-13 जून के बीच भारी बारिश होने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक देशभर में 8 जून तक करीब 33.6 मिमी बारिश हो चुकी है जो, 1 से 8 जून तक होने वाली सामान्य औसत बारिश (28.3 मिमी) से 18% (5.3 मिमी) ज्यादा है।

चेन्नई में भी सोमवार और मंगलवार को कई जगहों पर बारिश हुई। विजिबिलिटी घटने की वजह से दिन में भी वाहनों की लाइट जलानी पड़ीं।

चेन्नई में भी सोमवार और मंगलवार को कई जगहों पर बारिश हुई। विजिबिलिटी घटने की वजह से दिन में भी वाहनों की लाइट जलानी पड़ीं।

कोलकाता में यास तूफान के कारण औसत से 3 गुना बारिश
कोलकाता में मई महीने में यास तूफान की वजह से औसत से 3 गुना ज्यादा बारिश हो चुकी है। जून के पहले हफ्ते में भी प्री-मानसूनी बारिश जारी है। उधर, मुंबई में जून में बारिश का सामान्य औसत 493.1 मिमी है, जबकि बीते 8 दिन में वहां कुल 135.3 मिमी बारिश हो चुकी है। 13 से 15 जून के दौरान मुंबई में भारी से बहुत बारिश होने की संभावना है, जिससे मुंबई के ज्यादातर इलाकों में बाढ़ और जलभराव की स्थिति पैदा हो सकती है।

इस बार पश्चिमी मध्यप्रदेश ज्यादा भीगेगा
मौसम विभाग के एक जून को जारी लॉन्ग रेंज फोरकास्ट के मुताबिक इस बार भोपाल सहित पश्चिमी मध्यप्रदेश में पूर्वी हिस्से से ज्यादा बारिश होने की संभावना है। दक्षिण-पश्चिमी मानसून तेज रफ्तार से आगे बढ़ रहा है। उसकी बंगाल की खाड़ी और अरब सागर वाली दोनों ब्रांच सक्रिय हैं। मौसम विशेषज्ञ एके शुक्ला के मुताबिक बंगाल की खाड़ी वाली ब्रांच एक ही दिन में उत्तर-पूर्वी हिस्से को कवर कर चुकी है।

यही रफ्तार रही तो 11 साल में ऐसा दूसरी बार होगा, जब मानसून तय समय यानी 20 जून के पहले भोपाल पहुंच जाएगा। इसकी बड़ी वजह यह भी है कि 11 जून को बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र भी बनने के आसार हैं। अरब सागर में भी कई सिस्टम सक्रिय हैं। इससे मानसून को रफ्तार मिलेगी। इससे पहले 2013 में मानसून 10 जून को भोपाल पहुंचा था।

सीहोर में मंगलवार को प्रीमानसून की 35 मिनट क बारिश से इस तरह शहर के कई जगहों पर पानी भर गया।

सीहोर में मंगलवार को प्रीमानसून की 35 मिनट क बारिश से इस तरह शहर के कई जगहों पर पानी भर गया।

भोपाल में मंगलवार शाम को एक घंटे में करीब 1.5 इंच बारिश
भोपाल में मंगलवार को मौसम का मिजाज बिल्कुल अलग था। सुबह तेज धूप और उमस थी। शाम होते-होते बदरा फिर उमड़-घुमड़ पड़े और शहर के कई इलाकों में तेज बारिश होने लगी। एक घंटे में डेढ़ इंच बारिश से पूरा शहर तरबतर हो गया। इसके बाद रात 8:30 बजे ज्यादातर इलाकों में 40 की रफ्तार से हवा चली। इस कारण नए और पुराने शहर कोलार और भेल टाउनशिप कि 70 कॉलोनियों में देर रात तक बिजली गुल रही।

भोपाल में मंगलवार शाम को एक घंटे में करीब 1.5 इंच बारिश हुई। अगले तीन-चार दिन ऐसी ही बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

भोपाल में मंगलवार शाम को एक घंटे में करीब 1.5 इंच बारिश हुई। अगले तीन-चार दिन ऐसी ही बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *