मानसून सत्र का दूसरा दिन: संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही 11 बजे से शुरू हो सकती है, प्रधानमंत्री मोदी शाम को ऑल पार्टी मीटिंग करेंगे


  • Hindi News
  • National
  • Proceedings Of Both The Houses Of Parliament Can Start From 11 Am, Prime Minister Modi Will Hold An All party Meeting Late In The Evening

नई दिल्लीएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

संसद के मानसून सत्र का पहला दिन हंगामे की भेंट चढ़ गया। इसके बाद लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने कार्यवाही मंगलवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी। कुछ यही हाल राज्यसभा का भी रहा। आज सब कुछ ठीक रहा तो 11 बजे के बाद फिर से सत्र की शुरूआत हो सकती है। इधर, आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने पेगासस प्रोजेक्ट की मडिया रिपोर्ट पर जीरो ऑवर में चर्चा के लिए नोटिस दिया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम 6 बजे सर्वदलीय बैठक भी करने वाले हैं। इस बैठक में कोरोना की तैयारियों को लेकर सरकार विपक्ष के सामने प्रेजेंटेशन दे सकती है। इसमें वैक्सीन और वैक्सीनेशन को लेकर केंद्र सरकार की आगे की तैयारियों के बारे में बताया जाएगा। इसके साथ ही कोरोना की तीसरी लहर की तैयारियों को लेकर भी मीटिंग में चर्चा होने की आशंका है। हालांकि, विपक्षी दल मीटिंग में शामिल होंगे या नहीं, इसकी जानकारी आज सुबह मिलेगी।

हंगामे के मूड में विपक्ष
कोरोना मैनजमेंट, किसान आंदोलन, डीजल-पेट्रोल की बढ़ती कीमतों और राफेल विमान मामले को लेकर विपक्ष ने पहले दिन ही सरकार को घेरने की कोशिश की। अभी सरकार संभलती, इससे पहले ही इजरायली स्पायवेयर पेगासस फोन जासूसी के मामले ने नई मुसीबत बढ़ा दी। इसे लेकर भी सत्र के पहले दिन खूब हंगामा हुआ। हालांकि, बाद में सरकार का पक्ष रखने आईटी मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव सामने आए। अमित शाह और रविशंकर प्रसाद ने भी विपक्ष पर निशाना साधा।

कांग्रेस ने शाह का इस्तीफा मांगा
सोमवार को कांग्रेस के नेताओं ने आरोप लगाया कि पत्रकारों और कई नेताओं के फोन टेप किए जा रहे हैं। राहुल गांधी और प्रशांत किशोर का भी नाम सामने आया। विपक्ष ने इस मुद्दे पर गह मंत्रह अमित शाह का इस्तीफा तक मांग दिया।

रिपोर्ट में दावा- सरकार के मंत्री भी हैकिंग के दायरे में
रिपोर्ट में कहा गया है कि न सिर्फ कांग्रेस के नेता बल्कि केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रह्लाद पटेल और संसद में सरकार का बचाव करने वाले IT मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव के फोन भी हैकिंग टारगेट थे। रिपोर्ट में जिन नामों का जिक्र किया गया है, उनमें से प्रमुख लोग ये हैं..

1. विपक्ष के नेता राहुल गांधी और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के फोन भी इस लिस्ट में शामिल थे।

2. संसद में सरकार का बचाव करने वाले IT मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव का नाम भी इस लिस्ट में शामिल था।

3. चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर का नाम भी इस लिस्ट में बताया गया है। उन्होंने ही 2004 में मोदी की ब्रांडिंग की थी।

4. पूर्व चुनाव आयुक्त अशोक लवासा का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है, जिन्होंने 2009 के चुनाव में मोदी-शाह के खिलाफ हुई शिकायत पर चुनाव आयोग के फैसले से असहमति जताई थी।

विदेशों में भी हुई पत्रकारों की जासूसी
रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में पेगासस के क्लाइंट्स ने ऐसे पत्रकारों की जासूसी कराई, जो सरकार की नाकामियों को उजागर करते रहे हैं या जो उसके फैसलों की आलोचना करते रहे हैं। एशिया से लेकर अमेरिका तक में कई देशों ने पेगासस के जरिए पत्रकारों की जासूसी की या उन्हें निगरानी सूची में रखा। रिपोर्ट में दुनिया के कुछ देशों के नाम भी दिए गए हैं, जहां पत्रकारों पर सरकार की नजरें हैं। लिस्ट में टॉप पर अजरबैजान है, जहां 48 पत्रकार सरकारी निगरानी सूची में थे। भारत में यह आंकड़ा 38 का है

किस देश में कितने पत्रकारों पर नजर

  • अजरबैजान – देश में दमन और भ्रष्टाचार को उजागर करने वाले कम से कम 48 पत्रकारों पर सरकार निगरानी रख रही है।
  • मोरक्को – सरकार के भ्रष्टाचार और मानव अधिकार उल्लंघन की आलोचना करने वाले कम से कम 38 पत्रकार निगरानी सूची में हैं।
  • UAE – फाइनेंशियल टाइम्स के एडिटर और द वॉल स्ट्रीट जर्नल के इन्वेस्टिगेटिव रिपोर्टर समेत कम से कम 12 पत्रकारों की निगरानी की जा रही है।
  • भारत – देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आलोचकों समेत 38 पत्रकारों की निगरानी की जा रही थी।
  • इनके अलावा मैक्सिको, हंगरी, बेहरीन, काजिकिस्तान और रवांडा में भी सरकारों ने पत्रकारों की जासूसी कराई।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *