मोदी के दौरे से UP में चुनावी आगाज: प्रधानमंत्री ने काशी की रैली में साधा विपक्ष पर निशाना; महंगाई के खिलाफ प्रियंका सड़क पर उतरेंगी, सपा और बसपा भी सक्रिय


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Lucknow
  • Uttar Pradesh, PM Modi,  Varanasi, Priyanka Gandhi, Akhilesh Yadav, Election Count Down , Yogi’s Slogan New UP Of New India, Akhilesh Is Making Election Rigging And Inflation An Issue, Tomorrow Priyanka Will Hit The Road

5 घंटे पहले

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 8 महीने बाद गुरुवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे हैं। कहने को तो प्रधानमंत्री का वाराणसी दौरा सरकारी है पर देखा जाए तो मोदी ने काशी विश्वनाथ के दर्शन के साथ ही UP में अपने चुनाव अभियान का आगाज कर दिया। UP में अगले साल चुनाव होने हैं। ऐसे में BJP विकास योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण करके जनता को लुभाने की कोशिशों में जुटी है। मोदी ने काशी में योगी सरकार की जमकर तारीफ की तो विपक्ष और पहले की सरकारों पर निशाना भी साधा।

वहीं, विपक्ष भी सक्रिय हो गया है। 16 जुलाई को प्रियंका गांधी भी यूपी पहुंच रही हैं। इसके अगले दिन यानी 17 जुलाई को वे महंगाई के खिलाफ बड़ा प्रदर्शन करेंगी। कांग्रेस महंगाई, युवाओं के मुद्दों पर लगातार हमलावर है। सपा ने भी योगी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है तो बसपा में भी बैठकों का दौर शुरू हो गया है।

PM मोदी, शाह और नड्‌डा के लगातार दौरे होंगे
यूपी में विधानसभा चुनाव में करीब 6 महीने बाकी हैं। इन 6 माह में यूपी की सियासत को बदलने के लिए पीएम मोदी के लगातार दौरे हो सकते हैं। पार्टी के रणनीतिकारों ने तय किया है कि UP सरकार की बड़ी योजनाओं के उद्घाटन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा जैसे नेताओं का बुलाया जाए। योगी सरकार सूबे में 4 बड़े एक्सप्रेस-वे बना रही है। इनमें से तीन पर तेजी से काम हो रहा है। कहा जा रहा है कि चुनाव से पहले प्रधानमंत्री इनका उद्घाटन कर सकते हैं।

एक्सप्रेस-वे के नाम पर BJP का कोरोना डायवर्जन
उत्तर प्रदेश में बन रहे अलग-अलग एक्सप्रेस-वे का काम पूरा कर BJP कोरोना के मुद्दे को डायवर्ट कर रही है। BJP का फोकस यूपी में चल रहे विकास कार्यों को पूरा करना है। ताकि अगले चुनाव तक विकास मुद्दों के केंद्र में हो।

  • पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का निर्माण पूरा होने वाला है। UP के 9 जिलों से होकर गुजरने वाले 341 किमी. लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य लगभग 98 फीसदी हो चुका है। सरकार के इस ड्रीम प्रोजेक्ट के पूरा होने से UP का पूर्वांचाल का हिस्सा देश की राजधानी से जुड़ जाएगा। इसका उद्घाटन PM मोदी के हाथों जल्द होगा।
  • बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का निर्माण काम भी करीब 66 फीसदी हो चुका है। सरकार हर कीमत पर इसे चुनाव से पहले पूरा करना चाहती है। 296 किमी. लंबी इस एक्सप्रेस-वे के निर्माण के साथ ही बुंदेलखंड का इलाका विकास की रफ्तार में जुड़ जाएगा। PM मोदी इसका भी उद्घाटन कर सकते हैं।
  • गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे बनने के बाद गोरखपुर से लखनऊ आने-जाने के लिए एक और मार्ग तैयार हो जाएगा। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे को गोरखपुर से जोड़ने के लिए गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे का निर्माण तेजी से हो रहा है और चुनाव से पहले इसे पूरा करने का लक्ष्य है।
  • गंगा एक्सप्रेस-वे के लिए जमीनों का अधिग्रहण तेजी से हो रहा है। जुलाई के अंत तक बैनामे और भूमि अधिग्रहण का काम पूरा हो जाएगा। जनपद मेरठ से प्रयागराज तक गंगा एक्सप्रेस-वे का काम विधानसभा चुनाव से पहले शुरू होना है। संभव है कि प्रधानमंत्री इसका शिलान्यास भी करें।

पूर्वांचल UP की राजनीति में बेहद खास
UP में सारे विरोधी भी पूर्वांचल में अपनी ताकत आजमा रहे हैं। अखिलेश यादव, प्रियंका गांधी और छोटे दल के साथ ओवैसी भी पूर्वांचल को अपना केंद्र बना चुके हैं। ऐसे में पार्टी एक बार फिर मोदी के जरीए पूर्वांचल को साधने की कवायद में जुट गई है। BJP ने पूर्वांचल के अपने सबसे विश्वस्त साझेदार अपना दल को एक बार फिर अपने विश्वास में ले लिया और अनुप्रिया पटेल को मंत्री बनाया है। लेकिन पूर्वांचल से आने वाले संजय निषाद फिलहाल नाखुश हैं।

भागीदारी मोर्चा के बैनर तले ओमप्रकाश राजभर भी पूर्वांचल को ही निशाना बना रहे हैं। क्योंकि यहां सबसे ज्यादा OBC और अति पिछड़ी जातियां हैं। BJP के खिलाफ बन रहा गठबंधन भी पूर्वांचल में सबसे ताकतवर दिख रही है।

सपा चुनाव में धांधली और महंगाई को बनाएगी मुद्दा
सपा के मुखिया अखिलेश यादव के आदेश पर उनके कार्यकर्ता पूरे प्रदेश में तहसील स्तर पर प्रदर्शन करने जा रहे हैं। इसमें पंचायत चुनाव के दौरान अध्यक्ष और अन्य पदों पर धांधली, पुलिस बर्बरता के साथ महंगाई का मुद्दा रखा गया है। सड़क की राजनीति करने के लिए जाने जानी वाली सपा काफी समय बाद अपने पुराने तेवर में नजर आ सकती है। सपा आंदोलन के माध्यम से सड़क पर दिखेगी। साथ ही, समाज के अन्य वर्गों के साथ अखिलेश यादव संपर्क कर रहे हैं। मसलन अंदर खाने उप्र के अलग – अलग लघु इंडस्ट्री से जुड़े संगठनों के साथ भी उनकी लगातार मीटिंग हो रही है।

पिछले कई सालों से सक्रिय न रहने वाले सपा के छात्र और नौजवान विंग भी सक्रिय होने लगे हैं। इसमें कैंपस और युवाओं के सवाल पर सरकार पर हमला करने की तैयारी है। सपा के वरिष्ठ नेता ने बताया कि कुछ ही दिनों में पार्टी मुखिया अखिलेश यादव भी प्रदेश का दौरा करेंगे।

यह कोठी पूर्व कांग्रेसी नेता शीला कौल की है। प्रियंका लखनऊ में यहीं रहेंगी।

यह कोठी पूर्व कांग्रेसी नेता शीला कौल की है। प्रियंका लखनऊ में यहीं रहेंगी।

16 से प्रियंका लखनऊ में, महंगाई के विरोध में प्रदर्शन में शामिल होंगी
मोदी के जाते ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी 16 जुलाई को लखनऊ आ रही हैं। प्रियंका इस बार खुद पूरे कैंपेन को लीड करेंगी। 17 को UP कांग्रेस के महंगाई के विरोध में होने वाले प्रदर्शन में वह शामिल रहेंगी। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि इसमें प्रियंका गांधी खुद सड़क पर दिखेंगी। इससे पूरे प्रदेश में कार्यकर्ताओं के बीच में एक बड़ा मैसेज जाएगा।

कांग्रेस इस बार का पूरा चुनाव प्रियंका के चेहरे पर लड़ने की तैयारी कर रही है। यही वजह है कि पार्टी कार्यालय में तैयार होने वाले कई पोस्टर में राहुल और सोनिया गांधी तक की तस्वीर नहीं है। बताया जा रहा है कि यह चुनावी रणनीति का हिस्सा है। साथ ही कांग्रेस, BJP के 2017 के मैनिफेस्टो के वादे भी जनता को याद दिलाएगी।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *