यू-टर्न किफायती है: टीका कंपनियों की जेब में जाते-जाते बचे 18 हजार करोड़ रुपए; केंद्र को 150 रुपए प्रति डोज मिलेंगी दोनों वैक्सीन


  • Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • 18 Thousand Crore Rupees Left In The Pockets Of Vaccine Companies; Center Will Get Rs 150 Per Dose For Both Vaccines

नई दिल्ली28 मिनट पहलेलेखक: पवन कुमार

  • कॉपी लिंक

केंद्र ने न सिर्फ इनकार कर दिया है, बल्कि कंपनियों को वैक्सीन सप्लाई तय समय पर सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

  • राज्यों को 300-400 रु. में मिल रही थीं, अब केंद्र सरकार के 16,800 करोड़ रु. खर्च होंगे
  • 18 से 44 आयुवर्ग के लिए राज्य सरकारें वैक्सीन खरीदती तो 34,720 करोड़ रु. खर्च होते

केंद्र सरकार ने 18 से 44 आयुवर्ग के लिए वैक्सीन की खरीद शुरू कर दी है। साथ ही यह भी तय कर लिया है कि कोविशील्ड और कोवैक्सीन, दोनों ही टीके केंद्र सरकार 150 रु. प्रति डोज खरीदेगी। जबकि, राज्यों को कोविशील्ड 300 रु. और कोवैक्सीन 400 रु. प्रति डोज मिल रही थी।

केंद्र ने राज्यों के हिस्से की 25% खरीद खुद ही करने का फैसला लिया है। इससे पहले ये खरीदी राज्यों को करनी थी, जिसमें उनके 34,720 हजार करोड़ रु. खर्च हो जाते। अब इसके लिए केंद्र सरकार के 16,800 करोड़ रु. खर्च होंगे। यानी 17,920 करोड़ बच जाएंगे।

केंद्र ने 18 से 44 आयुवर्ग के लिए पहले चरण में 44 करोड़ डोज का ऑर्डर दे दिया है। इसमें साफ किया गया है कि सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक से टीके पुरानी कीमत पर ही खरीदे जाएंगे। हालांकि, कंपनियां चाहती हैं कि राज्यों के लिए तय किए गए दाम पर ही केंद्र भी खरीद करे। लेकिन, केंद्र ने ऐसा करने से न सिर्फ इनकार कर दिया है, बल्कि कंपनियों को वैक्सीन सप्लाई तय समय पर सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

केंद्र 18-44 आयुवर्ग के लिए 112 करोड़ डोज खरीदेगा, दिसंबर तक सबको टीके का लक्ष्य

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, 18 से 44 आयुवर्ग के 60 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगेगी। इनमें से 4 करोड़ को टीके लग चुके हैं। बाकी 56 करोड़ को 112 करोड़ डोज लगनी हैं, जो केंद्र खरीदकर राज्यों को देगा। देश में 90% वैक्सीन कोविशील्ड लग रही है, जबकि 10% कोवैक्सीन लग रही है।

112 करोड़ डोज में कोविशील्ड की 100.8 करोड़ डोज के लिए 300 रु. के हिसाब से 30,240 करोड़ रु. खर्च होते। इसी तरह कोवैक्सीन की 11.2 करोड़ डोज के करीब 4480 करोड़ रु. खर्च होते। लेकिन, अब कोविशील्ड पर 15,120 करोड़ और कोवैक्सीन पर सिर्फ 1,680 करोड़ रु. खर्च होंगे।

निजी अस्पतालों में टीके पहले की तरह महंगे लगेंगे

निजी अस्पतालों को कोविशील्ड 600 रु. और कोवैक्सीन 1,200 रु. प्रति डोज में ही मिलेगी। अस्पताल 150 रु. सर्विस चार्ज वसूल सकेंगे। यानी, जीएसटी समेत कोविशील्ड 780 रु और कोवैैक्सीन 1,410 रु. प्रति डोज लगेगी।

एक और रिसर्च करेगा केंद्र- वैक्सीन मिक्सिंग पर ट्रायल की याेजना बना रही सरकार

देश में जल्द ही स्टडी शुरू होगी कि एक ही व्यक्ति काे अलग-अलग कंपनी की वैक्सीन डोज देने से क्या असर पड़ता है? इससे वैक्सीन का असर बढ़ता है या नहीं? वैक्सीन मिक्सिंग को वैज्ञानिक शब्दों में ‘विषम प्रतिरक्षण’ कहा जाता है। इसमें किसी कंपनी के टीके की कमी हाेने पर व्यक्ति काे दूसरा डाेज किसी और कंपनी का लगवाया जा सकता है।

इस संबंध में जर्मनी, फ्रांस समेत कुछ देश पहले ही अध्ययन शुरू कर चुके हैं। भारत ने अभी इसकी अनुमति नहीं दी है। भारत में अभी कोविशील्ड, कोवैक्सीन और स्पुतनिक-वी टीके इस्तेमाल हो रहे हैं। कुछ वैज्ञानिकों का मानना ​​​​है कि दूसरी डोज अलग कंपनी की हाेने से वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा ज्यादा मजबूत हाेगी।

कुछ देशों में कोविशील्ड/एस्ट्राजेनेका जैसे वायरल वेक्टर टीकों पर यह प्रयोग सही साबित हुआ है। इसे देखते हुए सरकार ने स्टडी कराने की तैयारी की है। अगले कुछ दिनों में इसकी घोषणा की जा सकती है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *