योजनाओं की समीक्षा: सप्ताह भर में पूरा करें नल-जल का काम, अन्य योजनाओं में भी लाएं तेजी


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भागलपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
  • डीएम ने वीडियाे कांफ्रेंसिंग के दौरान कहा- धान खरीद में लापरवाही पर हाेगी कार्रवाई

डीएम ने वीडियाे कांफ्रेंसिंग से मुख्यमंत्री ग्राम परिवहन, नल जल व सामाजिक सुरक्षा के तहत संचालित योजनाओं की समीक्षा की। परिवहन योजना की समीक्षा में पाया कि गाेराडीह, पीरपैंती, नाथनगर, जगदीशपुर, सबौर, कहलगांव, खरीक, बिहपुर, नवगछिया में काम धीमा है। चयनित लाभुकों ने अभी तक वाहन नहीं खरीदा है। धान खरीद लक्ष्य के विरुद्ध अभी तक 35 हजार टन ही हाे सकी है।

21 फरवरी तक 60 हजार टन की खरीद का टारगेट है। निर्देश दिया गया कि प्रखंड स्तर उन सभी किसानाें का सर्वे कराया जाए, जो धान बेचने के लिए इच्छुक हैं। ऐसे किसानाें से धान खरीद करें। डीएम ने कहा कि धान खरीद प्राथमिकता में है। इसलिए इस काम में लापरवाही को गंभीरता से लिया जाएगा। बार-बार निर्देश के बाद भी सभी पंचायताें में आरटीपीएस काउंटर सक्रिय नहीं हुआ है। तीन दिनों में सभी पंचायत में इसे चालू करें। कहलगांव, शाहकुंड, सबौर, सुल्तानगंज, गाेराडीह, सन्हौला, बिहपुर के कुछ वार्ड में नल योजना का काम शेष है। इसे सप्ताह भर में पूरा करें।

चुनाव के बिलाें का 3 दिन में करें भुगतान
पर्यावरण संरक्षण, जल संरक्षण, ऊर्जा संरक्षण के मकसद से जल-जीवन-हरियाली अभियान के तहत जिला में समेकित रूप से करीब तीन हजार कुआं का सर्वे किया गया था। इसका जीर्णोद्धार पंचायत के माध्यम से कराया जाना है। सभी प्रखंडों को आठ दिनों के भीतर सर्वे पूरा कराने व प्राक्कलन तैयार करने का निर्देश दिया गया है।

सभी बीडीओ काे महादलित टोलों व पंचायत के तहत वार्ड में चापाकल उपलब्धता व चालू का सर्वे करने का निर्देश दिया गया। सभी बीडीओ, सीओ काे निर्देश दिया गया कि चुनाव व आपदा के दाैरान किए गए कामाें के बिल का भुगतान करें। तीन दिनों में प्रगति नहीं होने पर जवाबदेही तय करते हुए कार्रवाई की जाएगी।

3 मार्च तक आयुष्मान पखवारा
सभी प्रखंडों को स्वास्थ्य विभाग की ओर से 17 फरवरी से तीन मार्च तक चलनेवाले आयुष्मान पखवारा काे लेकर आवश्यक कार्रवाई करने काे कहा गया। कार्यपालक सहायक गोल्डन कार्ड बनाएंगे। पात्र व्यक्तियों व परिवारों को याेजना से जाेड़ा जाएगा। लाभुक को प्रतिवर्ष अधिकतम पांच लाख रुपए तक की चिकित्सा की सुविधा मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *