राजपुरा में पटाखे बनाते समय विस्फोट, दो बच्चों की मौत: 2 बच्चों को राजिंदरा अस्पताल में भर्ती कराया; विस्फोट इतना जबरदस्त था कि घर की छत टूट गई और दीवारें मलबे में तब्दील


लुधियाना8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

धमाके के बाद राहत एवं बचाव कार्यों में जुटी प्रशासन की टीम व स्थानीय लोग।

राजपुरा के पास जंडोली रोड संत नगर में शनिवार सुबह घर में विस्फोट हुआ। हादसे में दो परिवार के दो बच्चों की मौत हो गई और दो को गंभीर हालत में राजिंदरा अस्पताल पटियाला में भर्ती कराया गया। घटना के समय घर के सभी बड़े वैक्सीन लगवाने गए हुए थे।

गांव जंडोली रोड स्थित संत कॉलोनी में एक घर में पटाखे बनाने का काम चल रहा था। एक कमरे में दो परिवारों के चार बच्चे मनप्रीत कौर (12) पल्लवी (8) गुरप्रीत सिंह (12) और कृष्ण (6) खेल रहे थे। अचानक कमरे में धमाका हुआ। विस्फोट इतना जबरदस्त था कि घर की छत टूट गई और दीवारों मलबे में तब्दील हो गईं।

विस्फोट के बाद मलबे में तब्दील हुआ घर।

विस्फोट के बाद मलबे में तब्दील हुआ घर।

आवाज सुनकर पड़ोसी दौड़कर मौके पर पहुंचे तो मलबे में दबे चारों बच्चों को बड़ी मुश्किल से बाहर निकाला। मनप्रीत कौर (12) की मौके पर ही मौत हो गई और पल्लवी की पीजीआई चंडीगढ़ पहुंचते ही मौत हो गई। दो गंभीर घायल गुरप्रीत और कृष्ण को पटियाला के राजिंदरा अस्पताल में रेफर कर दिया गया। घटना की सूचना पर एसएसपी पटियाला डॉ. संदीप गर्ग, एसपी पटियाला केसर सिंह, एसडीएम राजपुरा खुशदिल सिंह, डीएसपी गुरबंस सिंह बैंस के अलावा राजपुरा विधायक हरदयाल सिंह कम्बोज समेत कई अन्य मौके पर पहुंचे। अधिकारियों के मुताबिक, विस्फोट पटाखों को बनाने में इस्तेमाल होने वाले उपकरणों की वजह से हुआ। पूरी घटना की जांच की जा रही है।

आतिशबाजी में इस्तेमाल होने वाला पोटाश बरामद
टीम के साथ पहुंचे एसडीएम खुशदिल सिंह और डीएसपी राजपुरा गुरबंस सिंह बैंस ने बताया कि सिलेंडर में विस्फोट होने की सूचना मिली थी। शुरुआती जांच में ऐसा लग रहा है कि यहां पटाखा बनाने का काम चल रहा था और यही विस्फोट की भी वजह है। मौके से आतिशबाजी बनाने में इस्तेमाल होने वाला पोटाश भी बरामद हुआ है।

धमाके के बाद धाराशाई हुईं धर की दीवारें।

धमाके के बाद धाराशाई हुईं धर की दीवारें।

प्रत्यक्षदर्शी बोले- खेतों में थे जब धमाका हुआ
प्रत्यक्षदर्शी सन्नी, सिकंदर इंसा, दर्शन सिंह, राकेश कुमार ने बताया कि नजदीक ही खेत में काम कर रहे थे। 11 बजे बड़े धमाके की आवाज आई। मौके पर देखा तो दो बच्चे मलबे में दबे थे और दो बच्चे विस्फोट के कारण घर के बाहर गिरे थे। घायलों को अपनी बाइक पर राजपुरा के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया।

मृतक मनप्रीत की मां मीना देवी हुई बेसुध
विस्फोट में 12 साल की बेटी मनप्रीत की मौत की खबर सुनते ही मां मीना देवी बेसुध हो गई। वह न ही कुछ बोल रही थी न ही कुछ देख रही थी। रिश्तेदार उसे रुलाने की कोशिश करते रहे लेकिन वह बेसुध रही। मीना के रिश्तेदारों ने बताया कि वह पास ही वैक्सीनेशन करवाने गई थी।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *