राजस्थान के झालावाड़ में दरिंदगी: 15 साल की किशोरी से 9 दिन तक 18 से ज्यादा दरिंदों ने किया गैंगरेप, अब तक 4 नाबालिग समेत 20 पकड़े गए


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • More Than 18 Gangsters Committed Gang Rape For 9 Days To A 15 year old Teenager, So Far 20 Including 4 Minors Have Been Caught

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोटा3 घंटे पहलेलेखक: आशीष जैन

  • कॉपी लिंक

दहशत भरे नौ दिनों के बारे में बताते हुए पीड़िता कई बार फफक पड़ी।

  • घर, होटल, खेत, निर्माणाधीन मकान बने दहशत के अड्‌डे
  • परिजन बोले- रिपोर्ट देने के लिए थाने गए, पुलिस ने भगा दिया

दर्द…बेबसी…दहशत…हैवानियत और दरिंदगी की हदें पार करने वाली ये वारदात सिस्टम की खोखली परतों को भी उधेड़ने वाली है। कोटा की एक 15 साल की बच्ची को झालावाड़ ले जाकर 9 दिनों तक 18 से ज्यादा दरिंदों ने अनगिनत बार दुष्कर्म किया। जब वो दर्द से कराहती तो उसे नशा दे दिया जाता। नशे से मना करती तो बुरी तरह पीटा जाता।

घर छोड़ने की मिन्नतें करती तो चाकू दिखाकर डराया धमकाया जाता। 25 फरवरी को पीड़िता की पहचान की लड़की और उसका साथी बैग दिलाने के बहाने उसे कोटा के सुकेत से झालावाड़ ले गए। वहां उसे दरिंदों के हवाले कर दिया, जिन्होंने 9 दिनों तक घर, होटल, निर्माणाधीन मकान और खेत में उससे कई बार दुष्कर्म किया। 5 मार्च को वापस सुकेत छोड़ा।

6 मार्च को पीड़िता ने विधवा मां के साथ जाकर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। पीड़िता के भाई का आरोप है कि हम गुमशुदगी रिपोर्ट लिखाने कई बार थाने गए, लेकिन पुलिस ने भगा दिया। मां बोली- ऐसे दरिंदों को फांसी होनी चाहिए।

वहीं, अब तक 4 नाबालिग समेत 20 दरिंदे पकड़े जा चुके हैं। रामगंजमंडी के डीएसपी मंजीत सिंह ने कहा, देर रात तक या कल तक बाकी आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। यह बहुत घिनौना कृत्य है।

भास्कर ने जानी पीड़िता की जुबानी हैवानियत की पूरी कहानी- जब दर्द से चीखती थी तो नशा दे देते नशे से मना करती तो बेतहाशा पीटते थे, घर जाने की मिन्नतें करती तो चाकू दिखा डराते-धमकाते थे।

25 फरवरी को सुकेत की बुलबुल और चाैथमल मुझे बैग दिलाने के बहाने झालावाड़ ले गए। वहां एक पार्क में कुछ लड़के बैठे थे। उनका नाम मुझे बाद में पता चला। नब्बू, सोनू (नाबालिग का बदला नाम) और एक था, जिसे बुलबुल उस्ताद बुलाती थी। नब्बू स्कूटी से मुझे एक कमरे पर ले गया, रात का वक्त था। मोहल्ले वालों ने हंगामा कर दिया। इस पर नब्बू मुझे अकेला छोड़कर भाग गया, लोगों ने मुझे पकड़ लिया, पुलिस भी आ गई। पुलिस ने मेरा नाम-पता पूछकर भगा दिया।

भागकर पार्क में आई तो वहां नब्बू, साेनू और साहिल फिर मिल गए। साहिल मुझे स्कूटी पर बैठाकर गागरोन ले गया, नब्बू और सोनू भी गागरोन आ गए। रात करीब 12 बजे फिर झालावाड़ ले आए और एक मोहल्ले में निर्माणाधीन मकान की दूसरी मंजिल पर नब्बू ने पूरी रात रेप किया। एक लड़का था, लंगड़ा टाइप, नाम नहीं जानती। वह मुझे एक होटल ले गया। वहां पूरी रात रेप किया।

सुबह 6-7 बजे फिर साहिल मुझे मंडी चौराहे के पार्क में ले गया। जहां राजा से मिलाया। राजा ने छोटू काे बुलाया। छोटू मोटरसाइिकल पर किसी होटल पर ले गया, जहां खूब सारे लड़के बैठे थे, स्मैक-चिलम पी रहे थे। राजा ने शाहरूख से मिलवाया। वो होटल ले गया, लेकिन होटल वाले ने मेरी उम्र पूछ ली तो नाबालिग बताते ही भगा दिया। फिर शाहरूख और राजा अपने दोस्त के घर ले गए।

दोनों ने वहां मेरे साथ गलत काम किया। वहां से साहिल और एक लड़का कार में गागरोन ले गए। यहां से साहिल अपने दोस्त के पास गया, जिसकी कार थी। वहां तीनों ने गलत काम किया। मना किया तो साहिल ने थप्पड़ मारे, नशा कराया। साहिल फिर उसी पार्क में ले आया। वहां बुलबुल और चाैथमल भी थे। वहां से झालावाड़ लाकर मुझे चिंटू के हवाले कर दिया। बिट्‌टू और चिंटू ने पूरी रात मेरे साथ गलत काम किया। बिट्‌टू के जाने के बाद उसके दोनों सालों ने पूरी रात रेप किया।

सुबह नाना नाम का लड़का ले गया। दिनभर गागराेन घुमाता रहा, फिर खेत में पूरी रात गलत काम किया। चाकू दिखाकर मुझे डराता-धमकाता रहा। सुबह नाना ने मुझे उसी पार्क में छोड़ दिया… वहां सोनू मिला। छोटू भी आ गया। उसके साथ एक और लड़का था, नाम याद नहीं है। छोटू के साथ आया वह लड़का मुझे लेकर चला गया। कोई कमरा था, वहां छोटू और उसके साथ आए लड़के ने रेप किया। मकान मालिक आ गया, बोला- मैं भी गलत करूंगा। मैं चिल्लाई तो सभी को वहां से भगा दिया।

पीड़िता ने आगे बताया…

छोटू के साथ वाला लड़का स्कूटी से पार्क में बैठाकर चला गया। जहां फद्दू मिला। सोनू का दोस्त डीके आ गया। डीके मुझे उसकी फुफो के यहां ले गया और पूरी रात दुष्कर्म किया। डीके सुबह वहां से निकालकर फिर से एक अनजान पार्क में ले गया। छोड़ा ही था कि सोनू आ गया। सोनू के साथ एक और था। आंख बंद करके मुझे कहीं ले गए, जहां सोनू ने रेप किया। तीन लड़के और आ गए, सोनू ने इनके हवाले कर दिया। ये गागरोन ले गए, नशा किया। मुझे भी नशा कराया। गागरोन में बुलबुल, चौथमल और नाना आ गए… तीनों लड़के इनकाे देखकर भाग गए।

फिर ये लाेग मुझे लेकर सुकेत ले आए। चाैबीस घंटे तक ताे मेरी हालत ऐसी थी कि मैं साेती रही, क्याेंकि नशा था और करीब 9 दिन से ठीक से साेई भी नहीं थी। अगले दिन मैंने मां के साथ जाकर पुलिस काे पूरी आपबीती बताई।

-(जैसा पीड़िता ने भास्कर के रिपोर्टर को बताया।)

पुलिस की कार्यशैली पर 3 बड़े सवाल

  • पीड़िता के भाई का आराेप है कि बच्ची गुम हाेने पर हम दाे बार पुलिस के पास गए, लेकिन दाेनाें बार ही हमें भगा दिया गया। यदि उस वक्त पुलिस मामला दर्ज करके बच्ची काे ढूंढ लेती ताे इतनी बड़ी घटना नहीं हाेती।
  • झालावाड़ में माेहल्ले वालाें के हंगामे के बाद पुलिस आई और लड़की काे नाम-पते पूछकर जाने दिया। यदि तब पुलिस वाले जिम्मेदारी समझते और नाबालिग काे सुरक्षित उसके घर पहुंचा देते ताे बच्ची के साथ यह दरिंदगी नहीं हाेती।
  • अब तक पुलिस इस मामले में उन हाेटल वालाें, उन दाेस्ताें, उन रिश्तेदाराें काे नहीं पकड़ पाई है, जिनके यहां बच्ची से रेप हाेता रहा।

पीड़ित के भाई के आराेपाें काे लेकर वृत्ताधिकारी रामगंजमंडी काे जांच दी है, वह जांच करके रिपाेर्ट देंगे, उसके आधार पर कार्रवाई हाेगी। बाकी पुलिस ने इसमें पूरी गंभीरता व तत्परता से काम किया है।

-शरद चाैधरी, पुलिस अधीक्षक, काेटा (ग्रामीण)

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *