रोक के बाद BSP ने ब्राह्मण सम्मेलन की रूपरेखा बदली: अब अयोध्या में सम्मेलन की बजाय ब्राह्मण विचार गोष्ठी होगी, इसमें केवल 50 लोग शामिल हो पाएंगे; आज सतीश चंद्र मिश्र करेंगे रामलला का दर्शन


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ayodhya
  • BSP Will Hold A Seminar In Ayodhya Today, Permission From The Administration, But Only 50 Workers Will Be Able To Attend, Satish Mishra Will Visit Ramlala. Bsp . Satisha Mishra . Vichar Sangosthi . Ayodhya. Ramlala

अयोध्या9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अयोध्या में आज से होने वाले विशाल ब्राह्मण सम्मेलन में बड़ा उलटफेर हुआ है l विशाल ब्राह्मण सम्मेलन की जगह अब बसपा विचार संगोष्ठी होगी l हाईकोर्ट के एक अधिवक्ता द्वारा जिला प्रशासन से की गई शिकायत और न्यायालय की एडवाइजरी के बाद BSP ने कार्यक्रम की रूपरेखा बदल दी है। आज ये कार्यक्रम अयोध्या के ताराजी रिसोर्ट में होगी। प्रशासन ने कहा कि इसमें केवल 50 लोगों के शामिल होने की अनुमति है।

ब्राह्मण सम्मेलन की बजाय ब्राह्मण संगोष्ठी होगी
साल 2013 में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने जातीय सम्मेलनों पर रोक लगाई गई थी। हाईकोर्ट की ओर से दिए गए आदेश के संज्ञान के बाद बसपा अब ब्राह्मण समाज के सम्मान सुरक्षा और तरक्की को लेकर विचार संगोष्ठी करने जा रही हैl इसमें शामिल होने के लिए शुक्रवार दोपहर 12 बजे बसपा नेता सतीश चंद्र मिश्रा अयोध्या पहुंच रहे हैं।

जिला प्रशासन ने संगोष्ठी में कोविड प्रोटोकॉल के तहत केवल 50 लोगों के शामिल होने की मंजूरी दी है।

जिला प्रशासन ने संगोष्ठी में कोविड प्रोटोकॉल के तहत केवल 50 लोगों के शामिल होने की मंजूरी दी है।

1 बजे से 4 बजे तक चलेगा कार्यक्रम

विचार संगोष्ठी कार्यक्रम दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक प्रस्तावित है। ब्राह्मण समाज के सम्मान, सुरक्षा और तरक्की के विषय पर संगोष्ठी को सतीश चंद्र मिश्र संबोधित करेंगे। जिला प्रशासन ने संगोष्ठी में कोविड प्रोटोकॉल के तहत केवल 50 लोगों के शामिल होने की मंजूरी दी है। दरअसल संगोष्ठी से पहले सतीश चंद्र मिश्रा रामलला और हनुमानगढ़ी मंदिर में दर्शन-पूजन करेंगे l बसपा की यह ब्राह्मण संगोष्ठी अयोध्या से शुरू होकर प्रदेश के सभी 18 मंडलों पर होने जा रही हैl

रामलला के दर्शन कर संगोष्ठी का आगाज करेंगे सतीश चंद्र मिश्रा

सम्मेलन के लिए बसपा नेता करुणाकर पांडेय और पूर्व विधायक पवन पांडेय ने प्रसिद्ध कथावाचक जगदगुरु रामानुजाचार्य, स्वामी राघवाचार्य सहित कई संतों से मिलकर आशीर्वाद लिया। हालांकि जगद्गुरू रामानुजाचार्य और डॉ. राघवाचार्य ने कहा है, कि बसपा के सम्मेलन से उनका कोई नाता नहीं है। उन्होंने कहा कि वो साधु हैं, उनका राजनीति से कोई लेना देना नहीं है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *