लखनऊ में BJP का मंथन: संघ कार्यालय में तीन घंटे की बैठक के बाद निकले बीएल संतोष और राधा मोहन सिंह, अब BJP दफ्तर पहुंचे


लखनऊ9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

भाजपा के संगठन महामंत्री बीएल संतोष।

लखनऊ संघ कार्यालय में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) बीएल संतोष और प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह की बैठक खत्म हो गई है। करीब तीन घंटे तक चली इस बैठक में संघ के नेताओं के साथ बीएल संतोष और राधा मोहन सिंह ने अगले साल होने वाली विधानसभा चुनाव को लेकर मंथन किया। अब दोनों राष्ट्रीय नेता BJP मुख्यालय के लिए निकल गए हैं। सुबह भी दोनों नेताओं ने पार्टी मुख्यालय में प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और प्रदेश के संगठन महामंत्री सुनील बंसल के साथ बैठक की थी।

एक महीने में दूसरा दौरा
केंद्रीय पदाधिकारियों का ये एक महीने के अंदर दूसरा यूपी दौरा है। इससे पहले बीएल संतोष और राधामोहन सिंह 31 मई से 2 जून तक लखनऊ में थे। बाद में 6 जून को भी लखनऊ आए राधामोहन सिंह ने प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित से मुलाकात की थी। इस दौरान दोनों नेताओं ने यहां भाजपा प्रदेश पदाधिकारियों और यूपी सरकार के मंत्रियों के साथ अलग-अलग बैठक की थी।
प्रदेश अध्यक्ष ने एक दिन पहले ही टास्क की रिपोर्ट तैयार की
वहीं, दौरे से ठीक एक दिन पहले यानी रविवार (20 जून) भाजपा में एक अहम बैठक हुई थी। इस वर्चुअल बैठक में प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, संगठन महामंत्री सुनील बंसल समेत संगठन के तमाम पदाधिकारी मौजूद रहें। इस बैठक का मकसद बीएल संतोष के दिए गए टास्क की रिपोर्ट तैयार करना था। दरअसल, इसके पहले 31 मई को बीएल संतोष जब लखनऊ दौरे पर आए थे, तब उन्होंने संगठन की बैठकों में कुछ टास्क दिए थे। बीएल संतोष ने संगठन में खाली पड़े पदों को जल्द से जल्द भरने के निर्देश दिए थे।

संगठन में खाली पड़े पदों को भरने का काम शुरू हो चुका है। वर्चुअल बैठक को लेकर बीजेपी प्रदेश मंत्री संजय राय ने कहा कि भाजपा ने यूपी में विधानसभा चुनाव को लेकर तैयारी शुरू कर दी है। प्रदेश में जो काम किए जा रहे हैं। उस पर चर्चा की जा रही है। प्रदेश में बहुत सारी गतिविधियां पार्टी चला रही है। सीएचसी, पीएचसी को पार्टी और सरकार के मंत्रियों ने गोद लिया है। उसकी प्रगति कैसे हो रही है, इसको लेकर चर्चा हुई। साथ ही प्रदेश में वैक्सीनेशन ठीक ठंग से हो उसकी भी विधिवत योजना पार्टी ने तैयार की है।

भाजपा का अधूरे कामों को पूरा करने पर जोर
यूपी में भाजपा अधूरे टास्क को जल्द से जल्द पूरा करना चाहती है। ताकि बीएल संतोष को इसकी प्रगति की रिपोर्ट दी जए। पिछले एक साल में संगठन के तौर पर भाजपा का काम संतोषजनक नहीं रहा है। शायद इसीलिए अपने पिछले दौरे पर बीएल संतोष ने नाराजगी जाहिर की थी। संगठन में कार्यकर्ताओं को समायोजित करने के निर्देश पहले भी दिए गए थे, लेकिन उस पर कोई काम नहीं हो पाया था।

दिल्ली वापस जाने से पहले बीएल संतोष ने एक तरफ जहां संगठन के कामों को लेकर असंतोष जताया था। वहीं जाते-जाते योगी सरकार की तारीफ में ट्वीट भी किया था। लिहाजा बीएल संतोष के जाने के बाद संगठन के दिए हुए टास्क को पूरा करने में जुट गया और अब नतीजा सामने है। सरकार और संगठन के खाली पड़े तमाम पदों को भरा जा रहा है।

अब मिलेगा नया टास्क
भाजपा का शीर्ष नेतृत्व यूपी को लेकर पूरी तरह चुनावी मूड में आ गया है। बीएल संतोष का ये दौरा एक तरह से चुनावी अभियान की शुरुआत है। यूपी में 29 और 30 जून को प्रदेश कार्यसमिति की बैठक प्रस्तावित है। इस बैठक में आगामी विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर पार्टी रणनीति तय करेगी। इससे पहले बीएल संतोष चुनाव के लिहाज से संगठन की जिम्मेदारी तय करेंगे। पार्टी सरकार के किन-किन योजनाओं को लेकर आगे बढ़ेगी और कैसे आम जनता तक उसे पहुंचाया जाएगा?…इसको लेकर चर्चा भी होगी और संगठन के पदाधिकारियों को जिम्मेदारी भी दी जाएगी।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा- 2022 में फिर से कमल खिलाएंगे
प्रदेश सरकार में श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या का कहना है कि भाजपा सरकार ने जो काम किया है, उसका कोई तोड़ नही है। हमारा लक्ष्य 2022 में फिर से कमल खिलाने का है। सारी कवायद इसी मकसद को पूरा करने के लिए की जा रही है।

भाजपा के संगठन महासचिव हैं बीएल संतोष
बीएल संतोष को राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) का पदभार सौंपा था। संतोष को भाजपा में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का सबसे चहेता नेता माना जाता है। संतोष को अमित शाह ने रामलाल की जगह संगठन महासचिव की जिम्मेदारी सौंपी थी। बीएल संतोष की ताकत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 13 साल तक रामलाल के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) रहने के बाद संतोष को इस पद के लिए चुना गया था।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *